Skip to main content

खैर छोड़ो....मैं भी कितना वाहियात आदमी हूं

नीले घेरे वाले उजले सर्चबॉक्स मैंने लिखा ‘एस’ तो चार पांच परिचित दोस्तों के नाम छन आए। छठा जो है वो तुम्हारा चेहरा है जो कुछ क्षण में ही तुम्हारे फोटो अपडेट करने के बायस बदल जाता है। मैंने अक्सर उस छठे पर क्लिक करके तुम्हारे पेज पर जाता हूं। शुक्र है मेरी जानकारी में ऑरकुट की तरह फेसबुक अब तक यह नहीं बता रहा कि रिसेंट विज़िटर कौन कौन है? बदलते दौर में चीज़ें अब गोपनीय नहीं पाती। सबको हमारा अता पता मिल जाता है। डाटा सुरक्षित नहीं रही। मेरे ई-मेल पर अक्सर वियाग्रा वाले अपना प्रोमोशनल ऐड भेजते रहते हैं। कहने को यह बल्क मैसेज है लेकिन अगर गौर किया जाए तो समझ में आता है कि कोई खिड़की है जहां से कुछ रिसता रहता है। अगर कभी ऐसा हो असली जीवन में भी कि लोग देख सकें कि हमारे मन की खिड़की में रिसेंट विज़िटर कौन है तो रिश्तों पर बुरा असर पड़ सकता है। खैर छोड़ो....मैं भी कितना वाहियात आदमी हूं कहां से कहां बह जाता हूं।

मैं तो यह कह रहा था कि पिछले कुछ दिनों में तुम्हारे पेज पर इतना बार गया हूं कि छठा पायदान एक एक सीढ़ी ऊपर चढ़ता हुआ नंबर एक बन गया है। अब आलम यह है कि सर्चबॉक्स में अब अगर ‘के’ भी टाइप करता हूं तो तुम्हारा नाम फिल्टर करने लगा है। ‘एन’ लिखूं तो भी तू, ‘यू’ लिखूं तो भी तू.... मुझे लगता है यह असली सर्च है। फेसबुक भी अजीब चीज़ है, एक खामोश बैरा जो जानता है हमारा यहां आने का उद्देश्य क्या है। जिसे यह ट्रेनिंग दी जाती है इस रेस्तरां का फलां टेबल बुक है सो देर तक खाली मत बैठने देना।

तुम्हें कभी कभी लगता होगा न कि मैं कितना घुन्ना आदमी हूं और यह कल्पना भी करती होगी कि कभी जो मुझे मिलना हुआ गर सच में तो इस रास्कल को कॉलर से पकड़कर फलाना बात पूछूंगी, चिलाना सवाल करूंगी। लेकिन तुम्हारी ही तरह मेरे पास जबाव नहीं होते, सिर्फ सवाल हैं, बेहिसाब मौलिक सवाल। जबाव भी है लेकिन वो सब बस समझौते से उगा है, जबाव में घनघोर बदलाव है, यह मौलिक नहीं है, यह कभी कुछ है तो कभी कुछ। ग़ौर करोगी तो पाओगी जबाव मूड पर निर्भर करता है। एक प्रश्न है जो अटल और नंगा खड़ा रहता है। खैर छोड़ो....मैं भी कितना वाहियात आदमी हूं कहां से कहां बह जाता हूं।

अरसे बाद वहां पर तुम्हारे हाल के फोटोज़ देखे। देख कर बहुत कुछ सोचा जिसे पहले पहल लाल गुलाबी और फिर कंट्रास्ट कलर कहते हैं। थोड़ी देर तक तो मैं बच्चों की तरह तुम्हें देखा। फिर किसी समझदार हत्यारे की तरह जो खून कर चुकने के बाद खुद पर हैरान होता है इस लड़की से....इस लड़की से जिससे मैं इतना प्यार करता हूं, इसका खून कैसे कर गया। उसकी उंगलियां टटोलता है पर कुछ पूछने की जरूरत नहीं समझता। अब हम तो तुम्हारे पहलू में आ नहीं सके लेकिन तुम मेरे दामन में दम तोड़ो यह ख्याल भी क्या कहीं से कम हसीन है?

दुपट्टा सलीके से अब लेने लगी हो। और इस संभालते वक्त चेहरे पर की हया भी देखने लायक है। क्या आगे चलते अब भी हुए यूं अचानक पीछे पलट कर कर देखकर हंसती हो? क्या मेरी तरह अब भी कोई तमीज़ से छेड़ता है तो चेहरे पर ऐसा एक्सप्रेशन लाती हो जैसे खट्टी दही चखी हो? क्या साइड के टूटे दांतों वाली खिड़की अब भी हमेशा झांकती रहती है? क्या वहीं जहां से तुम्हारी नाक की बनावट माथे में मिलकर खत्म होती है वहीं से भवहें अपनी ऊंची उड़ान भरती हैं? माथे पर के बादल ऐसे कैसे संभालती हो? क्या अब भी तुम्हारी छुअन बीत जाने के बाद भी मोम के स्पर्श जैसा ही अनुभूति देता है? तुमने एक बार आइसक्रीम खाने की ज़िद में मुझे कोहनी से अनजाने में छुआ था मुझे आज भी लगता है जैसे मेरे बदन का वो हिस्सा बबल वाले पैकिंग में लपेटा हुआ। मेरे ज़हन में छुअन की तरह तुम्हारी याद भी कुंआरी है। क्या उन ऑलमोस्ट स्लीवलेस बांहों पर तुम्हारे सूट की किनारी अब भी हल्की चढ़ी रहती है? क्या अब भी कभी कभी अचानक से अब्सेंट माइंड होकर मंदबुद्धि बच्चे जैसा लगती हो ?

यहां दिल्ली में दो दिनों से बेमौसम बरसात हो रही है । वैसे तुम भी कभी कभी सोचती होगी न कि मैं लड़का होने का बड़ा फायदा उठाता हूं और इसी आड़ में खुल कर कुछ भी लिख लेता हूं। यह भी कि अगर मेरे लिखने से यह जो भी है जिसे उघाड़ना और एरोटिक कहते हैं निकाल लिया जाए तो फिर क्या बचता है? यहां आजकल नारीवाद की हवा है। गुड टच से बैड टच, देखने और घूरने तक पर बहस चल रही है। पूरा माहौल ही बड़ा गंदा सा बन पड़ रहा है जानां। कितना अच्छा होता न थोड़ी बहुत ऊंच नीच के साथ हम भी चल लेते। खैर छोड़ो....मैं भी कितना वाहियात आदमी हूं कहां से कहां बह जाता हूं।

यह सब सोचकर भी अब जब नीले घेरे वाले उजले सर्चबॉक्स मैंने लिखा है ‘ए’ तो फिर तुम्हारा नाम फिल्टर....................

Comments

  1. बहुत पसंद आया।

    ReplyDelete
  2. वाह बढ़िया अंदाज़ ए बयान ... :)




    आज की ब्लॉग बुलेटिन 'खलनायक' को छोड़ो, असली नायक से मिलो - ब्लॉग बुलेटिन मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर कथानक | पढ़कर आनंद आया | आभार

    कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    Tamasha-E-Zindagi
    Tamashaezindagi FB Page

    ReplyDelete
  4. uff :) kya andaaj hai, ghayal kar gaya.....:)

    ReplyDelete
  5. kya likhte rete ho tum vahiyaat sa.......................accha likhe ho

    ReplyDelete
  6. सागर.....क्या कहे...क्या न कहे....!!! सोचता हूँ, कभी कभी की क्यों नहीं आपको मिल गयी वो.....लेकिन फिर स्वार्थी होने लगता हूँ, लगता है.....मिल गयी होती......तो हमे क्या ये नसीब होता! आपके ब्लॉग पे मूक दर्शक की तरह हर दुसरे दिन खोलता हूँ, पढता हूँ, अपने आप को उन भावनाओ में लाने की कोशिश करता हूँ, और फिर अपने रस्ते हो लेता हूँ! मैं भी उसी कगार पे हूँ..... जाना और जान के बीच समन्वय बनाने की आखरी कोशिश कर रहा हूँ......

    ReplyDelete
    Replies
    1. O dil thod ke hansti ho mera wafayen meri yaad karogi...o

      Delete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

यही आगाज़ था मेरा, यही अंजाम होना था...

-1-
-2-


प्यार में कुछ नया नहीं हुआ, कुछ भी नया नहीं हुआ। एहसास की बात नहीं है, घटनाक्रम की बात है। हुआ क्या ? चला क्या ? वही एक लम्बा सा सिलसिला, तुम मिले, हमने दिल में छुपी प्यारी बातें की जो अपने वालिद से नहीं कर सकते थे, सपने बांटे और जब किसी ठोस फैसले की बात आई तो वही एक कॉमन सी मजबूरी आई। कभी हमारी तरफ से तो कभी तुम्हारी तरफ से।
सच में, और कहानियों की तरह हमारे प्यार की कहानी में भी कुछ नया नहीं घटा। प्यार समाज से पूछ कर नहीं किया था लेकिन शादी उससे पूछ कर करनी होती है। घर में चाहे कैसे भी पाले, रखे जाएं हम उससे मां बाबूजी और खानदान की इज्ज़त नहीं होती मगर शादी किससे की जा रही है उस बात पर इज्ज़त की नाक और बड़ी हो जाती है।
कोई दूर का रिश्तेदार था जो मुझ पर बुरी नज़र रखता था। मैंने शोर मचाया तो खानदान की इज्ज़त पैदा हो गई। और जब अपने हिसाब से जांच परख कर अपना साथी चुना फिर भी इज्ज़त पैदा हो गई। बुरी नज़र रखने वाला खानदान में था इससे इज्ज़त को कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन एक पराए ने भीड़ में अपने बांहों का सुरक्षा घेरा डाला तो परिवार के इज्ज़त रूपी कपास में आग लगने लगी।
और प्यार की तरह हमार…