Skip to main content

Posts

Showing posts from October, 2014

एक बस दिल में अब यही ख्याल आता है

कूथता हूं कराहता रहता हूं खुद को शरापता रहता हूं दिल मेरा मुझको लानतें भेजता रहता है बरामदे में पड़ा किसी बूढ़े सा खांसता रहता है जबकि ये जानता हूं कि लिख सकना अब बस अपने लिए है ये एक हस्तमैथुन करने की आदत सी है दिन निकलते रहते हैं बोझ बढ़ता जाता है  कोफ्त पलता जाता है खुद पर शक बढ़ता जाता है  न लिख पाना हस्तमैथुन न कर पाने से भी ज्यादा बड़ी खीझ है
हां, पहले लगता था एक नदी भर रो सकता हूं  सबका और किसी एक का भी हो सकता हूं आज लगता है मेरी आंखें एक नदी भर सोख सकती है एहसास से बालातर हूं मैं सबसे बेखबर हूं आज न किसी का रहगुज़र और न किसी का रहबर हूं
रात आ ही जाती है दिन भी हो ही जाते हैं कैलेण्डर पर साल महीनों के पन्ने बदल ही जाते हैं मगर दिल है कि मेरा पत्थर हुआ जाता है बेग़ैरत, खुदगर्ज और कमतर हुआ जाता है
राह आगे अब न कोई दिखाई देती है मुझको मेरी ही रूलाई नहीं सुनाई देती है  वक्त की यह कैसी व्यंजना है मैं जो भी करना चाहूं कब मना है पांव बढाता हूं न पीछे खैंच पाता हूं  अब तो करूं या न करूं ये भी न सोचता हूं ज़िंदगी उधार की लगती थी तो नियम से चुकाते थे तलवों में गर्मी उफनती थी गरज कर जोश से गाते…