Skip to main content

ओवर आल वी वर्क फॉर हियुमिनिटी एंड व्हेन...

वो ७५ डिग्री की एंगल लिए लैपटॉप पर काम कर रही है... टांग पे टांग चढा कर बैठी है... बाल शैंपू किये हुए है और शहराना अंदाज़ में खुले हैं... जो दोनों रुखसारों को ढके हुए हैं... साथियों को बस बीच में उनकी नाक ही नज़र आती है... बालों को बीच-बीच में दिलफरेब झटका सा दे देती है... और मेरे पुरुष साथी निढाल हो जाते है...

हाँ-हाँ नीचे से जींस, एक हाथ कटी हुई है... कैपरी कहते है शायद उसको... एक शोर्ट सा कुरता पहना है... कोई उत्तेजित करता सा इत्र लगा रखा है... उसने कभी बासी खाना नहीं खाया है, यह बात उसकी स्किन बोल रही है, पजेरो में बैठा ड्राईवर कुत्ते की तरेह चौकन्नी नींद सो रहा है... और वो लैपटॉप पर काम कर रही है...

वो जब भी किसी की तरफ नज़र उठाती है, आँखों पर का स्क्वायर चश्मा चमक उठता है, ...फर्राटेदार, चमकदार अंग्रजी बोलती है... एक प्रेशर सा बनाती है अपने साथियों पर... सबसे पहले और सबसे ज्यादा बोलती है... वो चाहती है उसके मुंह से कमांड छुटते ही वो काम हो जाये, किसी चीज़ की फरमाइश करते ही उसके नाक पर ठोक दी जाये... वो पशेंसलेस है... वो योजनाएं बनाती है, यू एन में काम करती है,

वो शक्लें देखकर मुस्कुराती है... वो ए. सी. गाड़ियों से नीचे नहीं उतरती... वो स्लम के बच्चों के लिए डिजाईन डोक्युमेंट तैयार करती है... उनके कुपोषण पर चर्चा करती है...उसने गरीबी पर रिसर्च किया है... वो जानती है कितने डॉलर का फलाना प्रोजेक्ट होगा... और उसके लिए फंड कैसे आता है... लम्बे से टेबल पर बिसलेरी की बोतलों के बीच... वो मुद्दों की बात करने वालों को इंग्लिश में डांट देती है... यह डांट घंटे भर चलती है... मुझे अंग्रेजी नहीं आती... वो मानसिक रूप से उसे तोड़ देती है... वो सभी एक ऐसी जमात में शामिल है... जो मानवता के लिए काम करते हैं... और वो लैपटॉप पर काम कर रही है...

वो बेवक्त थैंक्यू, वेलकम और ग्रेट बोलती है... और इस बीच में सॉरी बोल देती है... वो किसी की बात नहीं मानती है फिर भी थैंक्यू बोल देती है... ७५ डिग्री की एंगल लिए लैपटॉप पर काम कर रही है... वो उनके लिए रेडियो प्रोग्राम बनाना चाह रही है... बजट लाखों का है, वो कभी स्लम नहीं गयी... वो कई सेमीनार में कुपोषण की स्पेसिलिस्ट है... दर्ज़नों संस्थाओं में एड्वैज़र है... प्रोग्राम में वो ह्यूमन एंगल नहीं समझती है... हम बच्चों के लिए प्रोग्राम बना रहे है या उनके लिए मैं नहीं समझ पा रहा हूँ... एक गुस्से भरी उमस के साथ मैं उसे देखता हूँ... वो अपनी कातिल हंसी सबके चेहरे पर चस्पा देती है... बड़े साहब कहते है उसकी सेक्स अपील कमाल की है...

वो मानवता की सेवा करती है... शायद डॉलर में कमाती है... सबको नाम से पुकारती है... बड़े युनिवेर्सिटी से पढ़ कर आई है... उसके पास ढेरों आईडियाज़ है... पैसे उगाहने के... मैं सोचता हूँ दुनिया में जब तक यह कुपोषण, एच आई वी, गरीबी है, इनकी दूकान हरी रहेगी... मुझे इतिहास का चरित्र याद आता है " कहीं की राजकुमारी थी उसके मुल्क में आकाल आया हुआ था और वो जनता को केक खाने की सलाह दे रही थी" अभी प्रोग्राम शुरू भी नहीं हुआ है और ७० लाख खर्च हो चुके है... वो अपने लैपटॉप पर बाजरे वाले चार्ट में पीला रंग भर रही है, होठों पर वोही सेक्स अपील है... और मेरे साथी रात के ११ बजे भी नहीं थके...

मुझे कल जल्दी आना है, मैं घर जाने की बात कहता हूँ... वो प्लेट से सेब का एक टुकड़ा मुंह में रख कर चबाते हुए कहती है "यू नो आवर शेड्यूल इज वैरी हेकटिक" आफ़्टर आल वी वर्क फॉर हियुमिनिटी एंड व्हेन यू सर्व.... आगे की अंग्रजी मेरे पल्ले नहीं पड़ती...

Comments

  1. Aisee darjano sansthaon se wabasta hun..par aise bhi NGO s ko jantee hun,jo kamal kar guzare hai/kar rahe hain!

    ReplyDelete
  2. sundar likha hai aapne..par afsos sach aisa hi hota hai.

    ReplyDelete
  3. यही वो हकीकत है जो लोगो को सपने दिखाती है

    ReplyDelete
  4. kitna sach hai ...

    Greebi ek subject ban gaya hai ameeron ko aur ameer banne k liye ...

    ReplyDelete
  5. bahut acha likha hai! Ekdum vastvikta

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ