Skip to main content

डायरेक्टरर्स कट







/सीन-१/ सुनेहरा मौसम/दिन
ब्लैक एंड व्हाइट शेड में आपकी गर्लफ्रेंड फरों वाला ओवरकोट पहने हुए है... गले में स्कार्फ, और घुटनों तक का बूट, उसके हाथ में आपके उधार के पैसों के लिया ऑर्किड का गुलदस्ता है.. क्योंकि उसे पसंद है... वो चार महीने बाद आपसे मिलने स्टेशन पर आ रही है... सिर्फ २० मिनट का वक़्त है, उस ट्रेन के उस स्टेशन विशेष पर रुकने का...

आपने कई रातें जग कर, हर भावना में डूब कर, कभी पहाड़ पर, तो कभी साहिल पर बैठकर, कभी जगती आँखों से कोई सपना देखते हुए उसे हर मूड में कई लव लेटर्स लिक्खे हैं... इसमें से कई मीर के शेर है तो कुछ चुराए हुए दोस्तों के मोबाइल से फॉरवर्ड किया हुआ एस. एम. एस., अगर गर्लफ्रेंड कुछ ज्यादा हाई-टेक है तो आर्चीज़ के दूकान के शाम के रंगीन साये में एक दुसरे पर झुकते कपल्स के धुंधले चेहरे के बैकग्रऔंद में कुछ अंग्रेजी कोटेशन्स, आप चेप देते हैं... क्योंकि आपने तो सिर्फ प्यार किया! ऐसे उच्च ख्याल कहाँ आये आपने दिमाग में?

... हाँ कॉपीराइट आप ज़रूर लेते है, वाजिब भी है अपना पढाई छोड़ कर, अपना काम छोड़ कर, बायोलोजी के प्रैक्टिकल एक्साम के ज्यादा फीस बताकर आपने अपने पिता जी बहुत से पैसे निकलवाए हैं... और उनके लिए चोकलेट्स हर फ्लेवेर्स के लिए हैं...

आपके लिख्खे हुए में कुछ रूमानी ख्याल लिए हुए हैं जिसका जवाब आप उससे इस मूड में इंतज़ार कर रहे हों की वो तकिये को अपने सीने के नीचे लगा कर पांव हवा में लहराते हुए लिख्खेगी... और वो चिट्ठी आपकी वसीयत बन जायेगी... आपने शायद उसे लेमिनेट करवाने का भी सोचा हो...

... और आप यह सब आँखों में आंसू भर कर अपनी प्रेयसी को देते हैं... वो मुस्कुराते हुए ले लेती है... कुछ इस अदा से की उसने एहसान किया और आपका जीवन धन्य हुआ... वो लेकर खुश है और आप उन सहेजे हुए चीजों को मकाम तक पंहुचा कर...

/सीन-२/ सुनेहरा मौसम/दिन/

... शिकायतों का सिलसिला आप शुरू करते हैं, क्योंकि कहने को आपके पास इतने लेटर्स के बाद भी बहुत कुछ है... ''तुम फ़ोन नहीं करती हो, सिर्फ सन्डे को रात में ४ घंटे ही बात करती हो (बिल आपका होता है) मुझे टाइम नहीं देती हो, उस सी. डी. को सुना था जो मैंने खास जगजीत सिंह और सोनू निगम का लिमिटेड कलेक्शन तुम्हारे लिए मंगवाया था ?" ...

... अच्छा अब एम. बी. ए. करने क्या बंगलौर जाओगी ? पहले ही दिल्ली जा कर दूर हो गयी हो.

ट्रेन सिटी मारती है, आपका रुदन और बढ़ जाता है...

आप थोडा बड़े परिपेक्ष्य में देखा शुरू करते है... अच्छा, अपना ख्याल रखना, (आप इस वक़्त उसके परिवार के रिश्तेदार बन जाते हैं... शायद माँ-बाप) इसी बीच आपको ख्याल आता है- अरे ! रोमेंटिक बात करने का टाइम तो मिला ही नहीं. (जाते वक़्त उसे अपना जताना नहीं भूलते... ) कभी मेहदी से अपने हाथों पर मेरा नाम भी लिख लिया करो, इन गुलाबी होठों का ख्याल रखना... अब आप अपना अंतिम दांव मारते हैं... (अपना मेक्सिम्म) "अपना ख्याल रखना यानि मेरा ख्याल रखना... "

और ट्रेन चल पड़ती है... छुक- छुक, छुक - छुक ...

वक़्त आपके दिल में रुक जाता है, आप बहिन के शादी वाले भाई के तरह कर्तव्यनिष्ठ हो जाये हैं.. आपको त्याग, प्रेम से बड़ा लगने लगता है, वो खिड़की से बाहर अपना हाथ निकालती है, आप उसे चूमना चाहते है लेकिन १०० बंधने हैं... लोग देख रहे है से लेकर मर्यादा हनन तक के विचार आते है...

आप दौड़ कर थोडा आगे तक जाते है और अपने शर्ट से चाँदी की पायल निकाल कर उसे थमाते है... वो मुस्कुराती है... आप आँखें बंद कर उसके चहरे को अपने दिल के फ्रेम में बंद कर लेते हैं... वक़्त रुक जाता है...

(शोर्ट फ्रीज़ हो जाता है)

Comments

  1. सागर,उम्र में मुझसे आधे हो इसलिए आप की जगह तुम का इस्तेमाल कर रहा हूं। इसे अन्यथा मत लेना। लेकिन तुम्हारी पोस्ट पढ़कर अपने स्कूल का एक दोस्त याद आ गया। महाशय गांव से शहर पढ़ने आए थे। पिता की खेती-बाड़ी अच्छी थी,इसलिेए जनाब को शहर में आते ही हवा लग गई। फिल्म, दोस्ती-यारी के शौक भी लग गए। अब पैसे जल्दी खत्म होने लगे तो पिता को बड़े हक के साथ फोन करते- पिताजी ब्लाटिंग पेपर लेना है पांच सौ रुपये भेज दो(अस्सी के दशक के शुरू की बात है। ये सुनकर हम लोट-पोट हो जाते। करीब छह महीने बाद दोस्त के सीधे-साधे पिताजी को ब्लाटिंग पेपर का राज़ पता चल ही गया। फिर जो धुनाई हुई। पूछो मत।

    ReplyDelete
  2. सागर जी इस उम्र में इतना खूबसूरत लेखन...भाई वाह..."खुदा महफूज़ रखे हर बला से...."( बाला से नहीं...) आपकी लेखनी के चमत्कार को देख चकित हूँ...बहुत ही अच्छा लिखते हैं आप...मेरी बधाई स्वीकार करें...
    नीरज

    ReplyDelete
  3. और हाँ...आप के ब्लॉग की साज सज्जा भी ग़ज़ब की है...बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत बहुत पसंद आयी...बधाई...
    नीरज

    ReplyDelete
  4. Waah ji bade lajwaab kat lgaye hain aapne to ....lagata hai kafi anubhav raha hai is cheyra ka .....!!

    ReplyDelete
  5. सागर तुमसे मिलने की बड़ी इक्छा हो रही हैं ब्लांग पर तुम्हारी प्रतिक्रिया सकुन देता हैं।जिस हलात से तुम अभी गुजर रहे हैं आज से दस वर्ष पूर्व मैं भी उसी हलात से गुजर रहा था।बिहार और बिहारी के बारे में कही भी कुछ भी सूनते या फिर पढते थे तो आग बबूला हो जाया करते थे।दिल्ली में उन दिनों हम बिहारी को लालू के प्रदेश का कह कर चिढाया जाता था।एक वाकया तुमको सुना रहा हूं उस वक्ता में परमानंद कांलनी में रहता था एक दिन सुबह दो सरदारन आपस में लड़ रही थी लड़ाई इतना धमासान था कि नही चाहते हुए भी बाहर निकल कर देखने लगे।लड़ाई शुद्ध पंजाबी भाषा में हो रहा था लेकिन दोनों महिलाओं के भाव से लग रहा था कि मामला गम्भीर हैं।मामला समझने के लिए अपने मकान मालिक से पुछा कि मामला क्या हैं उन्होने जो बताया उससे हसी भी आई और गुस्सा भी।दोनों महिला इसलिए लड़ रही थी कि एक ने दूसरे के बच्चे को बिहारी कह दिया था। कहने का मतलव यह हैं कि लोगो में बिहारी के प्रति कितना गुस्सा था जब कि सभी के मकान में बिहारी किरायादार रहता था और अधिकांश की जिविका बिहार के छात्रों के सहारे ही चल रहा था।शायद अब ऐसी स्थिति दिल्ली की नही होगी यह कहानी इस लिए तुमसे सेंयर किया कि बिहारी होने का वह दंश हम भी झेल चुके हैं जो दंश आज तुम झेल रहे हो ।इसी दंश से अपमानित होकर दिल्ली से वापस बिहार आया और यह सोच कर आया कि बिहार में रह कर बिहारी मानसिकता के खिलाफ लड़ाई लड़ी जाये दस वर्षों के इस लड़ाई में कोई खास उपलब्धि नही हो पायी लेकिन सकून हैं की आज भी उतने ही हौसले से लड़ाई लड़ रहा हूं।अब सवाल नीतीश कुमार के बारे में हैं देख यार नीतीश के आलोचक इसलिए हैं कि लालू गंवर पन में बिहार को उतना नुकसान नही पहुंचा पाया जितना नीतीश पहुंचा रहा हैं।नीतीश वैसे संस्थानों पर वार कर रहा हैं जहां से बिहार का नाम रोशन करने वाला भूर्ण पैंदा होता था।गांव के लोगो से बात करो तमाम स्कूली शिक्षा अयोग्य हाथों में सौंप दिया हैं। आज की खबर हैं मगध विश्वविधालय के कुलपति में वहाली घोटाले का एफ0आईआर0 दर्ज हुआ हैं बहुत बूरी स्थिति हैं भ्रष्टाचार चरम पर पहुंच गया हैं बात सामने इसलिए नही आ रही हैं कि लोगो को भय हैं कि लालू आ जायेगा।नीतीश कुमार में नया बिहार बनाने की क्षमता हैं लेकिन पता नही क्यों ईमानदार व्यक्ति होने के बाद भी व्यवस्था में कोई बदलाव नही आ रहा हैं।आज के दौड़ में नीतीश कुमार देश स्तर पर बिहार की छवि बदलने में बड़ी कामयावी हासिल कि हैं लेकिन जिस परिवर्तन की बात मैं सोच रहा हूं हो सकता हैं इसकी जरुरत बिहार से बाहर रहने वाले लोग महसूस नही कर रहे हो।बाढ बिहार के विकास में सबसे बड़ा बाधक हैं लेकिन इसके समाधान को लेकर कोई पहल नीतीश कुमार की और से नही हो रहा हैं।तुम्हे यह जानकर आशचर्य होगा की गंगा सहित सभी नदियों में लबालब पानी भरा हैं और बांध के उस पार पानी के बिना फसल बर्बाद हो रहा हैं।38में 26जिला सूखे के चपेट मैं हैं जिसके समाधान आप के साथ में हैं उसके लिए आप केन्द्र के सामने हाथ फैला रहे हैं देश में सबसे बड़े श्रंम शक्ति के हम मालिक हैं मेट्रो दिल्ली से लेकर मुबई में बन रहे रेल और सड़क मार्ग में बिहारी मजदूरा का खून पसीना लगा हैं आज पंजाव बिहारी मजदूर के बल पर इतना उत्पादन कर रहा हैं।लेकिन उस शक्ति के उपयोग का हमारे कोई सोच नही हैं।प्रतिवर्ष पांच हजार करोड़ बिहार का पैंसा पढाई में दूसरे राज्य जा रहा हैं।इसी रोक ले तो रातो रात बिहार फिर से सोने की चिड़िया बन जायेगा।नीतीश जी के कार्यकाल का चार वर्ष समाप्त होने को हैं एक मेंगावाट बिजली पैंदा करने की क्षमता नही पैंदा कर सका हैं तुम्हे यह जानकर आशर्चय होगा की बिहार 900से 1100मेंगावाट बिजली के सहारे चल रहा हैं ऐसे में कोई उधोगपति क्यों बिहार में आयेगा।बिहार आज पूरे देश में बनने वाले सामग्री का हांब बनकर रह गया हैं।

    ReplyDelete
  6. बेहतरीन आलेख है. आनन्द आ गया आपकी लेखनी के प्रवाह को देख कर. लिखते रहें.

    ReplyDelete
  7. pasand aayee aapkee prem kahane aur aapki style bhee. Aisee matalabee premika ke liye kyun itana wyakul ho ya hai (aapka hero )?

    ReplyDelete
  8. AAPKA LEKHAN KA TRIKA AUR PREM KAHAANI ....DONO HI JORDAAR HAIN ..... ALAG SI SHAILI LIYE ....

    ReplyDelete
  9. दार्शनिक बिम्ब को पकड़ने की कोमल उत्कंठा में आप पूरी तरह सफल नहीं हुए...परन्तु अमूर्त्यता में भी चिंतन का आकार इस तरह संजोना कठिन कार्य है...बेहतरीन है....लिखते रहिये....

    Nishant kaushik...

    ReplyDelete
  10. prem me payal aaj bhi outdated nahi huyi...or shayad kabhi hogi bhi nahi

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …