Skip to main content

???...












सांसों के फनगट में, दुनिया के जमघट में, ये कौन सा राग-विहाग है। दो है चार है, साला चमाड़ है। उमड़ता जज्बात है, उगलता आग है। कैसा पक्षपात है! उमड़ता है, घुमड़ता है, बरसता है, और तौबा फिर भी यही ग़म के बैठा है कि साला ठीक से नहीं बरसा। वरना ये कील कहां चुभता रहता! कुछो बाकी रह गया है। दिन है तो रातो होगा, दु सौ सवालो होगा। ये जो रस्ता है, पता नहीं कैसा बस्ता है, सब कुछ कूल है फिर भी शुल है, जीवन है कि भूल है। सांसा आधा अंदर है उफनता समंदर है। भुल है, भुलैया है, जिंदगी की गलियां है। वक्त का पहिया है, बेलौस बहैया है। भेड़ बनाकर हांकता है। कमीने मुंह किसका ताकता है। भगाने पर भी नहीं भागता है। क्या कोई कपड़े रखवा लिया है ! देखो तो कैसा आग है। अबे आग है कि झाग है। जिलेबी रस्ता है, मीठा है, छोटा है। इन सब को ढ़ोता है। अयाल है-ख्याल है फैला जंजाल है, बोलना बवाल है तो जीना मुहाल है, चंद सवाल है पर कितना बदहाल है ! होता भी हूं, रोता भी हूं, करता भी हूं, मरता भी हूं। आदत नहीं बनती, सांस नहीं थमती। बिचार है कि सदी के गर्म कपड़े जैसा दोपहर में यहां-वहां उतारा हुआ है ! सबके साथ दिन काटा जा सकता है। पर क्या इसे ही चाटा जा सकता है र्षोर्षो न कमर न करम सोझ है पता नहीं कितना बोझ है। सूझ है तो बूझ नहीं फेर ऐतने वाइस वरसा। दिमाग अनुमानी है। दिल अभिमानी है। खाका मिथ्याभिमानी है। बात तो वही पुरानी है। दर्द में कसम है वैसने ठसक है, न पुराना होता चमक है, मर रहा ललक है। छोटी-छोटी सांसे हैं। बीती बातें हैं। बाहर कितना धुंध है, अंदर कितना भीड़ है। साला पूरा मामला गंभीर है। ऊहा है, पोह भी, पांव पसारे मोह भी। निरा निपट है, छल है, कपट है। मार दो का शोर है, गीला काहे आंख का कोर है ! जीवन क्या है ! चूक है, भूख है ! फिर भी पूरा परिदृश्य मूक है। मन हैरान है ! कैसा विधान है, फैला सामान है, कभी तेज़ जुबान है, तो कभी चुप रहना ही ज्ञान है। कैसी तो बस्ती है, कुछ की मस्ती है, गरीबों की पस्ती है, खानापरस्ती है, जूझते लोगों की हालत खस्ती है, खुद हमारा जीवन क्या नहीं सस्ती है। चोट हरा है अभी मुंह झांपे पड़ा है। दायरा कितना सिमटा है, चुनाव है कि चिमटा है। शाम का बेरा है, मदिरा का फेरा है। उलझन कितना घेरा है! वही सवेरा है। कैसी बीमारी है, न मरने की तैयारी है, मन क्यों भारी है, अवसाद तारी है, जांच करवाओ क्या महामारी है ! उलझनों से जीना है, चक मारता सीना है, मुंह बाए आगे कई महीना है, बदन में कहां ज़ीना है ! माथे पर पसीना है, छुपा हुआ नगीना है। खेत से किसी ने गाय को हड़का दिया है। सागर-ओ-मीना पीकर लुढ़का दिया है।

Comments

  1. बढ़िया बजाते हो राग मित्र! घोर रागदरबारी है। दमदार लेखनी!

    ReplyDelete
  2. एक सांस में ही पढ़ लिया... दिन चौगुनी और रात आठ गुनी तरक्की कर रहे है...

    ReplyDelete
  3. अगर तूफ़ान में जिद है ... वह रुकेगा नही तो मुझे भी रोकने का नशा चढा है ।

    ReplyDelete
  4. कभी-कभी मन यूँ भी करता है
    जो भीतर है सब उगलता है
    शब्द वैसे ही झरते हैं
    जैसा हम सोंचते हैं
    -शायद यही सच्चा लेखन है
    -पढ़कर सकून मिला।

    ReplyDelete
  5. वाह....क्या लिखते हैं आप...अद्भुत...लफ्फाजी का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन...मजा आ गया...
    नीरज

    ReplyDelete
  6. मन हैरान है ! कैसा विधान है, फैला सामान है, कभी तेज़ जुबान है, ...यही दिल का उफान है जो कलम से कभी यूँ छिटक जाता है ,और दिल की अनकही बातो को यूँ लिख जाता है ..आपके लिखे के हम भी कायल हैं ..शुक्रिया

    ReplyDelete
  7. Bahut kuch kah dala aapne aaj ke sandarbh mein. Prastuti le liye dhanyavaad.

    ReplyDelete
  8. बहुत खूब अच्छी रचना
    बधाई स्वीकारें

    ReplyDelete
  9. सागर अभी आपका ब्लॉग देखा और ये नवीनतम पोस्ट भी देखी. आपका ट्रीटमेंट ज़िन्दगी और कविता के साथ ख़ासा रोचक है और उसमे आने वाले दिनों के उत्स छुपे दीखते हैं . इसे बरक़रार रखिये. इसे इस तरह देखिये कि ये भटकाव रचनात्मक होने की पहली शर्त है.पहली शर्त आप बखूबी पूरी कर रहे हैं. आपकी भाषा बेहद जिंदा है और उसे ज़िन्दादिली से बरतने का शऊर भी आपमें ख़ूब है. इस ज़मीन पर थोड़ी वैचारिक धैर्यशीलता से एक बड़ा काम संभव है. आप व्योमेश शुक्ल की कविता देखिये, वो दरअसल यही करता है लेकिन उसका समर्पण भीतर से अर्जित होने की चीज़ है.
    मेरी अनेक शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  10. इतनी सुघड़ बड़ बड़ा हट जँची मुझे....!

    ReplyDelete
  11. सागर जी
    क्या नंगा किया है आपने टीवी कैमरे....और उनके सामने अपने आपको बेचने वालों को..सशक्त आलेख के लिया बधाई...

    ReplyDelete
  12. It is a mind blowing writing........ as it was ending, i felt like there should be something more to read, I was bond in that way to your composition.... Congrats Sagarji

    ReplyDelete
  13. बेमिसाल - बेहिसाब

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …