Skip to main content

सन्नाटे... बोलते हैं


सीने के दोनों दरवाजे खुलते हैं, वो 16 x 12 का एक कमरा होता है... लेकिन खाली. वहां कोई सेट लगा है, किनारे सीढियाँ हैं वो कहाँ तक जाती हैं, नहीं मालूम. मैं उस स्टेज पर अकेला खड़ा परफोर्म कर रहा हूँ. या तो वो बिलकुल खोखला है इतना की मुझे पलकें झपकने तक की आवाज़ सुनाई देती है और संवाद बोलने के लिए खोले गए होंठ की भी (ऐसा मेरा भ्रम है) . मुझे हमेशा लगता है की अब उस सीढ़ी से कोई उतरेगा और मेरा साथ देगा या कार्यक्रम को आगे बढ़ाएगा. मैं निरुद्देश्य...इस कोने से उस कोने तक घूमता हूँ.

दरअसल मैं इन दिनों एक बीमारी का शिकार हो गया हूँ. मेरा अंदेशा इतना मजबूत हो चला है की मुझे सीढियों के मध्य हर 2-3 मिनट बाद देखने की आदत हो गयी है. डॉक्टर इसे एहसास या ज़ज्बात जैसी किसी मनोविज्ञान से जोड़ देते हैं.

इसका मतलब मैं थोडा-थोडा पागल हो रहा हूँ. मेरी ऐसी आदतों के कारण मैं किसी चीज़ पर एकाग्र नहीं हो पा रहा.

मैं थोड़ी-थोड़ी देर बाद स्टेज पर टहलता हुए कुछ सोचता रहता हूँ. असल में इन दिनों मैं सिर्फ सोचता हूँ और 24 घंटे के दौरान सिर्फ सोच कर थक जाता हूँ. सोचते-सोचते मुझे गर्मी लगने लगती है. मुझे लगता है मैंने भरी गर्मी की दोपहर में भूनी हुई मछली खाई है और उसके कांटे मेरे पीठ पर उग आये हैं.

मुझे इन दिनों किसी मीठे हमसफ़र की भी जरुरत महसूस होती है जो सधी हुई भाषा बोले और मेरे पीठ पर अपने हाथ फेरे जिससे मेरे पीठ पर के सारे कांटे मुलायम हो जाएँ और मैं बिस्तर से लग कर चैन से 2 घंटे सो सकूँ. मैं उस हैरानी को महसूस करना चाहता हूँ की कांटे गायब होने पर कैसा लगता है. मुझे लगता है तब मेरा डर खत्म हो जायेगा और तब मैं एवरेस्ट से उल्टा कूद सकूंगा.

... पता नहीं यह सब सोचने के दौरान मैंने कितनी बात अँधेरे से आती सीढियों के मध्य देखा होगा!!!

बस बार-बार देख ही रहा हूँ, आ कोई नहीं रहा.

मेरी सांस पर कोई बड़ा सा पत्थर रखा है . मुझे बार-बार आकाश देखने की भी आदत हो गयी है. मेरे दिमाग में मोटी-मोटी गिरहों वाली कई गांठें हो गई हैं. ये बहुत शोर करती है और खलल डालती हैं.

मुझे लगता है मैं आत्मघाती हूँ. मुझे लगता है मौत मेरा गिरेबान पकड़ कर ...मैं अपने अंदर कोई बम लिए घूम रहा हूँ जिसके फटने का समय फिक्स कर दिया गया है लेकिन मुझे बताया नहीं गया है. ये घडी मुझे जोर-जोर बजती सुनाई देती है. हरेक टिक-टिक मुझे इतिहास में आधी रात के समय राजाओं के द्वार पर न्याय के गुहार के लिए बजाया गया घंटा लगता है. कभी भी... मेरे चीथड़े उड़ सकते हैं.

हो सकता है मैं किसी दिन आप सब के बीच से बातें करते हुए गायब हो जाऊं.

क्या मेरा तब कोई अवशेष बचेगा ?...

क्या मैं अपने अंदर समाधि नहीं ले सकता ?

सीढियों से अब भी कोई उतरने वाला है.

...

..

. पर अब तक कोई नहीं आया.

Comments

  1. wah!..kya likhte hain aap ..kisi muktibodh ki yad aa gayee

    ReplyDelete
  2. Padhte,padhate raungte khade ho gaye!

    ReplyDelete
  3. teri aawaaj men jab sannate bolte hain, wo us pe apne kaan rakh deti hai...

    ReplyDelete
  4. मुझे लगता है कि अर्थ का अनर्थ हो सकता है,
    यहाँ पर
    "सीने के दोनों दरवाजे खुलते हैं"
    यहाँ "जीने" है।
    भैया अगर "जीने" है तो थोडा संभलकर लिखो मैं ने सीने के साथ भी लेख को बिठाकर देखा, मगर नहीं बैठा...
    ध्यान से सागर रूमानियत में व्यवहारिकता को न भूलो...

    ये पंक्तियां मुझे अच्छी लगीं...
    "मुझे लगता है मैंने भरी गर्मी की दोपहर में भूनी हुई मछली खाई है और उसके कांटे मेरे पीठ पर उग आये हैं."


    सबसे गुस्से की बात कि अगर मैं सही हूँ तो कमेन्ट में किसी ने यह बात नहीं रखी...कि "सीने" है कि "जीने"

    Nishant kaushik

    ReplyDelete
  5. मैं अपने अंदर कोई बम लिए घूम रहा हूँ जिसके फटने का समय फिक्स कर दिया गया है लेकिन मुझे बताया नहीं गया है. ये घडी मुझे जोर-जोर बजती सुनाई देती है. हरेक टिक-टिक मुझे इतिहास में आधी रात के समय राजाओं के द्वार पर न्याय के गुहार के लिए बजाया गया घंटा लगता है. कभी भी... मेरे चीथड़े उड़ सकते हैं.
    WoW!!!!

    &
    निशान्त जी आपको जो लग रहा है वो हमें नहीं लग रहा...

    ReplyDelete
  6. @निशांत
    मैंने संभल कर लिखा है भाई, यहाँ सीने ही हैं

    ReplyDelete
  7. सीना ही होगा.. क्योंकि सीने में ही द्वन्द चलता रहता है खुद का अपने आप से.. शायद नायक के साथ भी ऐसा ही कुछ हो रहा है.. एक उलझे हुए व्यक्ति की पीड़ा को धारधार शब्द दिए है.. फिर चाहे वो पींठ पर कांटे हो या सांस पर पत्थर.. मेरी तरफ से सौ नंबर ले लों..

    ReplyDelete
  8. chalo bhai...kush kee hi bhasha me....tumhare dil me aur mere dimaag me dwand chal raha hai....maaf karna... "seene" hi sahi

    ReplyDelete
  9. bhai mujhe nhi pata ki seene hain ya jeene hain.... par jo bhi ho mast likha hai aapne

    ReplyDelete
  10. भई निशांत जी की बात भी ध्यान देने योग्य है..वैसे तो सीने का प्रयोग एक्दम बिंदास है..मगर यदि स्क्रिप्ट लिख रहे हैं जिसके मुताबिक सेट की सर्जना करनी पड़ती है तो सीने के यह दरवाजे जो मेरे ख्याल से कुछ अमूर्तन उआ ’अब्स्ट्रैक्ट’ सी चीज है..कुछ दुविधा पैदा करती लगती है..(हालाँकि पहले भी ’थिएटर ऑफ़ अब्सर्ड’ इन सारे प्रचलन और परंपरावाद को प्रयोगों के माध्यम से चुनौती देने की कवायद रही है) मगर देख लेना..हाँ ’सीना’ किसी अन्य अर्थ मे प्रयोग किया गया हो तो स्पष्ट करना...वैसे सीने का १६x१२ का कमरा सिर्फ़ ’बड़े दिल वाले’ सागर साहब की दिमागी उपज हो सकती है..उसमे भी दो दर्वाजे..शक पैदा करते हैं (कोई पिछ्ला दरवाजा तो नही है भई?)
    पीठ के काँटे जब्र्दस्त हैं..सो ही खुद मे समाधि लेने की बात...बाकी सारी चीजों की तरह..और हर २-३ मिनट पर सीढियों पर झाँकना नासिर साहब की याद दिलाता है..ओ कुछ ऐसा तसव्वुर करते थे..
    ध्यान की सीढियों पे पिछले पहर
    कोई चुपके से पांव रखता है

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …