Skip to main content

एग्रीमेंट


जीने के लिए वो उतनी ही जरुरी थी, जितनी असफलता ग़ालिब के जीवन में थी. हम इसे जीवन के प्रति वितृष्णा किसी कीमत पर नहीं कह सकते बल्कि यूँ कहें की यह एक जिजीविषा थी उसे चाहने की. पाने जैसी तो कोई शर्त ही नहीं थी यहाँ... आसमानी मुहब्बत थी मानो ज़ज्बाती नहीं, रूहानी लगाव था.

उसे खूब देखने का मन करता, भूख प्यास तज के देखता रहता... अगर अध्यात्म नाम का कोई रास्ता भरी जवानी में होता था तो वो भी वहीँ से होकर जाता. उसे देखने की कोई शर्त नहीं थी बस देखते रहना शर्त था... एक अलिखित समझौता, पर ट्विस्ट यह की हस्ताक्षर के बाद निब तोड़ने के बजाय संभाल कर रख ली गयी थी.

उसके आने की आहट दिमाग की सीढियों पर उतरती तो लगता किसी झील के तल में कुछ दिए जल उठे हो. वो पाँव डुबाती ना थी बस शांत पानी को छेड दिया करती वो जानती थी- झील इतने से ही असंयत हो उठता है.

वो उस हद तक खूबसूरत थी जहाँ से बस यह कमजोरी निकाली जा सकती थी की वो अद्भुत है... सलीका उसके कंधे में था, अदब पलकों में, पीठ थोड़ी सी अल्हड थी और ऊपर और नीचे के होंठ शोला और शबनम नाम से शब्दों के अर्थ लिए बंटे हुए थे. वह जो चिकनी सतह थी वो बात करने से पहले चेताती कि यहाँ से कला काला होने लगती है

यों तो उसे ज़हीन लोगों के देखने के लिए बनाया गया था पर खुदा ने नज़र की पाबंदी नहीं लगायी थी तो आवारे भी देख लिया करते. वह दूर से क़यामत थी, पास से कायनात थी, आँखें बंद करने पर कातिल थी और खोलने पर मयखाना...

उसे देखते रहने पर लगता वो स्त्री में तब्दील हो गया है और मातृत्व सुख का आनंद ले रहा है.

वो कपड़ों में लिपटी थी तो गज़ल थी, खिसकते कपड़ों में बला... जब आखिरी बार निर्वस्त्र देखा तो बदसूरत हो उठी.

अब अदृश्य समझौता-पत्र के चिथड़े हो चुके थे उधर लेखनी की निब भी जाती रही.

Comments

  1. वो कपड़ों में लिपटी थी तो गज़ल थी, खिसकते कपड़ों में बला... जब आखिरी बार निर्वस्त्र देखा तो बदसूरत हो उठी. .....bahut khubsurat.

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा । बहुत सुंदर प्रयास है। जारी रखिये ।

    आपका लेख अच्छा लगा।

    हिंदी को आप जैसे ब्लागरों की ही जरूरत है ।


    अगर आप हिंदी साहित्य की दुर्लभ पुस्तकें जैसे उपन्यास, कहानी-संग्रह, कविता-संग्रह, निबंध इत्यादि डाउनलोड करना चाहते है तो कृपया किताबघर पर पधारें । इसका पता है :

    http://Kitabghar.tk

    ReplyDelete
  3. हम्म ......
    वो जिसकी इबादत की थी ताउम्र मैंने.....
    मेरी पहलु में आकर सिर्फ इंसान लगा

    कंट्रास्ट है ....सच भी है ....ओर ऐसे सच कहने तुम्हे बखूबी आते है......

    ReplyDelete
  4. Bahut prabhavi lekh...ek kasak liye hue..

    ReplyDelete
  5. खूब बहे हर्फ़, लहरों का आवेग लिए
    पर जो कहते थे, सुनाई न दिया

    ReplyDelete
  6. वो कपड़ों में लिपटी थी तो गज़ल थी, खिसकते कपड़ों में बला... जब आखिरी बार निर्वस्त्र देखा तो बदसूरत हो उठी.


    no more words!!!!!

    ReplyDelete
  7. nivastra dekhne par badsoorat kyun ho uthi???

    ReplyDelete
  8. संकेतात्मक भाषा का अच्छा प्रयोग है,
    "जीने के लिए वो उतनी ही जरुरी थी, जितनी असफलता ग़ालिब के जीवन में थी। हम इसे जीवन के प्रति वितृष्णा किसी कीमत पर नहीं कह सकते बल्कि यूँ कहें की यह एक जिजीविषा थी उसे चाहने की"

    पंक्तियाँ प्रभावशाली हैं, और मैं सहमत हूँ,

    सागर ध्यान से सुनो..मैं व्यवहारिक दृष्टिकोण से जवाब दे रहा हूँ।
    एक गंभीर बात ये कि आपने जो ये लिखा है, इसे सिर्फ लिखा हुआ मानकर ही संतुष्ट हो लिया जाए या इसके व्यवहारिक दृष्टिकोण को भी लेकर चला जाये। किसी ने कहा है " देह के बगैर प्रेम अनुपस्थित होता है "...बेशक यह सच है...और आध्यात्मिक,रूहानी या विशुद्ध वैचारिक प्रेम भी कही न कही व्यवहारिक प्रेम को टालने का प्रयास है। हो सकता है कोई मेरी इस बात से सहमत न हो मगर यह सच है, और यह सच कोई विचारधारा का सिद्धांत नहीं मानव समाज का सच है। अंत में आपने जो कहा "निर्वस्त्र देखा तो बदसूरत हो उठी"....यह सच बात है मगर....फिर भी...अगर यह जीवन में घटित हो उठे तो शायद हम और तुम अपनी वैचारिकता से अलग हो जायेंगे..वैचारिकता याने जिसे तुमने "एग्रीमेंट" नाम से प्रस्तुत किया।

    Nishant

    ReplyDelete
  9. आपकी लेखनी के किरदार यूँ सद्रश्य हो उठते जैसी खुली आँखों से भी आराध्य का स्मरण.... इसे पढ़ा तो सच बोलूं ....हम ही नज़र आये... शायद इसी को लेखन कहते हैं

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ