Skip to main content

मनहूस लम्हा...



मैं इसे अवसाद क्यों कहूँ ... इसमें रहने कि लत लग गयी है अब और बेशर्मी से कबूलता हूँ कि अच्छा भी लग रहा है. चौथा दिन है आज, कहने को कुछ भी नहीं बच रहा है. इन सारे पलों में सिर में एक दर्द तारी रहा. जितनी पी सकता था उस हद तक पी पर नशा हावी नहीं हो सका.

मैं कहाँ गया, जा रहा हूँ या जाऊंगा अब यह सब कुछ मायने नहीं रखता. दिमाग में गुंथी हुई मेरी सारी नसें झनझनाती हुई कुछ भी तो नहीं कह रही है.

वो जो मेरे अंदर शायर था इन्हीं गलियों में खो गया है. हाथ में अब बस एक खाली गिलास बची है और देर से सरकती हुई आखिरी बूँद अपनी जीभ पर लेने को आतुर हूँ.

हाथ की लकीरें अब यहाँ से आगे नहीं दिखती. साथ निकली सारी रेखाएं मुख्तलिफ हिस्सों में अकेले-अकेले बढ़ कर तनहा खत्म हो गए.

जिन सवालों को लिए आज मैं मरने वाला हूँ वो परसों भी जिंदा रहेंगी और कल तलक तुम या तो उनका जवाब खोजते रहोगे या फिर तगाफुल ही बेहतर रास्ता होगा.

ओ री दुनिया ! तुम्हें मैं कोई रास्ता बताते नहीं जा रहा हूँ.

अपने मुताल्लिक मैंने तुम्हारा मुस्तकबिल जान लिया है. लोगों ने तो एक शब्द खोज लिया था पलायनवाद पर इसके सिवा रास्ता भी क्या था. मैं कोई बहस नहीं पैदा करना चाहता.


(गुरुदत्त के लिए...)


प्रस्तुतकर्ता सागर पर Monday, March, 22, 2010

Comments

  1. क्या याद दिला दिया आज...उफ्फ्फ...गुरुदत्त मेरे पसंदीदा निर्देशक हैं...एक जीवनी पढ़ी थी कहीं उनकी...आज भी सोचती हूँ वो होते तो और कैसी फिल्में बनतीं...दिल दिमाग और अपने पूरे वजूद को झकझोर देती है प्यासा या फिर कागज़ के फूल.

    तुमने फिर से कमाल लिखा है यार...

    ReplyDelete
  2. गुरु दत्त का नाम याद आते ही मन में गूंजने लगता है "ये महलों, ये तख्तों ये ताजों की दुनियां ... ये दुनिया अगर मिल भी जाए तो क्या है.."
    बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  3. पढ़ते रह जाना ज्यादा बेहतर है आपको..फिर कुछ अहसास करना ..फिर कुछ कहने के लिए सहकना.. फिर चुप रह जाना !
    फिर..फिर..फिर...बहुत से फिर के बाद यह बताने चला आना कि टिप्पणी करना फालतू-सी चीज लगती है यहां !
    पहुंच रहे हो न दोस्त मेरी तलछट तक !

    ReplyDelete
  4. मैं इसका शीर्षक बदलना चाहता हूँ : कुछ मुसलसल मनहूस लम्हे....

    क्या इतनी टिप्पणी काफी होगी?
    "जो हाल दिल का उधार हो रहा है,
    वही हाल दिल का इधर हो रहा है"
    (मीना कुमारी के लिए....)

    ReplyDelete
  5. पूछते हो तो सुनो कैसे बसर होती है...
    रात खैरात की, सजदे कि सहर होती है...


    (Written By Meena Kumari)


    तुम्हारी है तुम ही संभालो ये दुनिया.

    (Picturised for Guru dutt)

    ReplyDelete
  6. कई बार कुछ न कह सकने की हालत में चुप रहने के सिवा कोई चारा नहीं होता मैं आपकी और दर्पण की बातो से पूर्णतया सहमत हूँ.

    ReplyDelete
  7. ye duniya agar mil bhi jaye to kya hai...

    हाथ की लकीरें अब यहाँ से आगे नहीं दिखती.

    mujhe bhi ek do din se kuch nahi dikh raha tha..waise aisa mere saath hona badi aam baat hai..wo appraisal interview type chalta rahta hai..

    kal hi ek random rambling humne bhi fenk di..
    http://wakeupbuddha.wordpress.com/2010/03/22/random-rambling/

    ReplyDelete
  8. ये अचानक से गुरु दत्त की याद क्यूँ कर आ गयी..कोई खास दिन था क्या...?

    ReplyDelete
  9. ओह उम्दा..!

    भाई ये गुरुदत्त जी से थोड़ा दूर रहा करो..नहीं तो हिमालय पर भी शांति नहीं पाओगे..!

    "प्यासा" देखी थी, दो-तीन बार देखी..एक हफ्ता..नहीं-नहीं पुरे महीने भर कुछ अच्छा नहीं लगा. और बताऊँ.."मृत्यु का आकर्षण" सा शायद था या क्या था नहीं बता सकता..!

    ReplyDelete
  10. "मृत्यु का आकर्षण"
    यही कुछ बोला है श्रीश जी ने..
    सारनाथ के बुद्ध का चेहरा याद आता है..एक मंद, स्निग्ध, सौम्य और शाश्वत मुस्कराहट..ओठों पे नही..आँखों मे नही..मगर पूरे मुखारविंद पर दमकती अरुणाभा..जो तुम्हारे अंतर को बेध कर देख रही हैं..उस कोने मे जहाँ तुम खुद कभी नही झाँक पाये..डरते रहे..और यह मुस्कान उसकी है जो कहता है कि जीवन दुखों का मूल है..संसार एक छलावा है..शायद यही सत्य का आकर्षण है दोस्त..मौत का आकर्षण..अपने मुताल्लिक मैंने तुम्हारा मुस्तकबिल जान लिया है !!!

    धीमे-धीमे सरकते हुए..गिलास की कोर पर अटक गयी उस एक आखिरी बूंद का इंतजार..यह जानते हुए कि यह उस गिलास की आखिरी बूँद है..और उसके बाद?..क्या पता..क्या फ़िकर है..अभी तो बस इंतजार है उस बूँद के टपक कर शादाब होने का..कल का कौन सोचता है..वो जिसे कल का पता नही होता है..या जो शायद पता होने के बावजूद उस पर यकीं नही करना चाहता..और यह वो मोड़ है जहां पर दिमाग के नसें, हाथ की लकीरें हमारा साथ छोड़ देती है..या शायद हमें भी उनके जरूरत नही रह जाती...उन सवालों से तगाफ़ुल या पलायनवाद तो उसके बाद आता है..मगर शायर मरता नही..उसे जिंदा रहना है..और सहनी है एक मुसलसल जलन..आओ इस जलन मे मरते नही हैं..जिंदा रहते हैं..इसी जलन मे!!
    और क्या कहूँ..न जाने क्यों गुरुदत्त से ज्यादा वह शराबी आवारा मजाज़ याद आता हैं...परेशान करता हैं..सो उनकी कुछ पंक्तियाँ चेप रहा हूँ..शायद कुछ राहत मिले..

    रात हँस-हँस कर ये कहती है, कि मैखाने मे चल
    फिर किसी शहनाजे-लालारुख के काशाने मे चल
    यह नही मुमकिन, तो फिर ऐ दोस्त वीराने मे चल
    ऐ गमे-दिल क्या करूँ, वहशते-दिल क्या करूँ

    मुंतजिर है एक तूफाने-बला मेरे लिये
    अब भी जाने कितने दरवाजे हैं वा मेरे लिये
    पर मुसीबत है मेरा अहदे-वफ़ा मेरे लिये
    ऐ गमे-दिल क्या करूँ, वहशते-दिल क्या करूँ

    जी मे आता है ये मुर्दा चाँद-तारे नोच लूँ
    इस किनारे नोच लूँ, और उस किनारे नोच लूँ
    एक-दो का जिक्र क्या सारे के सारे नोच लूँ
    ऐ गमे-दिल क्या करूँ, वहशते-दिल क्या करूँ

    और भी बहुत कुछ है कहने को...खैर कभी मजाज़ की ही ’अंधेरी रात का मुसाफ़िर’ भी तफ़सील से डिस्कस करेंगे..

    ReplyDelete
  11. वाह...कलात्मक अतिसुन्दर और सटीक अभिव्यक्ति.......

    ReplyDelete
  12. पता नहीं मैं बार बार यह गलती देख रहा हूँ...हो सकता है दर्शन ने गलत टाइप कर दिया हो .. कमेन्ट में "सजदे' की सहर होती है लिखा है... मूल शब्द "सदके" है...

    कुछ कहना ज़रूरी है क्या इस पोस्ट के मुताल्लिक..?
    पीयूष की बात रख देते हैं
    जैसी बची है वैसी की वैसी बचालो ये दुनिया...

    www.taaham.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. सुधांशु की बात...यहाँ टिप्पणी देना बेमानी है...बस पढ़ते जाना है.

    ReplyDelete
  14. हर लम्हा एक सा कहाँ होता है ..कुछ लम्हे बहुत दुखद होते हैं..

    ReplyDelete
  15. आज 15/05/2012 को आपकी यह पोस्ट http://nayi-purani-halchal.blogspot.com पर पर लिंक की गयी हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …