Thursday, April 1, 2010

उदासियाँ


बड़ा ही भाव-विह्वल हो कर मैं उन लम्हों को याद कर रहा हूँ नहीं शायद फिर से देखने की कोशिश कर रहा हूँ.. इस कोशिश में मेरी आँखें आगे की ओर निकल आती हैं... लगता है मैं किसी बेहद रुलाने वाली फिल्म का क्लाईमैक्स देख रहा हूँ... इससे मेरी आँखों में पानी का थक्का जम गया है जिसे लोग आंसू का नाम देते हैं... मुझे याद आता है कि मैं पिछले कई महीनो से नहीं रोया और पानी के इस थक्के ने गालों कि पगडण्डी नहीं पकड़ी... धूप में चलते हुए मेरी परछाईं भी छोटी हो चुकी है और मेरे से बात करना उसने बंद कर दिया है. ट्रेन प्लेटफार्म से खुलने ही वाली है पर नज़ारा ऐसा है जैसे अभी अभी भीड़ को उठाकर ट्रेन यहाँ से निकली है. यकायक सूना सा प्लेटफार्म मेरे दिल जैसा लगने लगता है.

ट्रेन के सारे कम्पार्टमेंट खाली हैं... आदतन मैं खिडकी वाली सीट पकड़कर बैठ जाता हूँ... मुझे उसकी समानांतर चलती पटरी के नीचे कई पहचाने से तख्ते नज़र आते हैं... थोड़े घिसे हुए... कितना याराना लगता है इनसे...सर में थोड़ी सी दर्द लिए यात्रा करना कैसा होता है ? वही पल फिर से नमूदार हो जाते हैं... मेरा चेहरा मलिन होने लगता है...इस अपमान को मथते हुए मैंने अपने निचले होंठ लगभग चबा डाली है...ट्रेन की जोर पकडती रफ़्तार हर पल नए नजारे दिखा रही है. दुनिया में दिल बहलाने के लिए क्या कुछ नहीं है, हरे भरे खेत हैं, क्रिकेट खेलते युवा हैं, रंग-बिरंगे लैम्प पोस्ट हैं, अतीत में ले जाती, बाल सहलाती मद्दम हवा है. धूसर सा रंग है, आदमी ही आदमी है.. खो देने का दर्द है, पा लेने का सुख है इन सबसे परे अध्यात्म है.

इतने सारे बोझ उठाकर भरी कदमों से चलता हुआ आदमी हमें महामानव सा नहीं लगता ?

बहार कहती है 'यह उदासी है, एक फेज है, गुज़र जाएगा'

... जबकि उसे भी पता है कि उदासी विद्रोही तेवर लिए होती है जो बार-बार सर उठाती है और यहाँ हमारा तानाशाह होना काफी नहीं होता... उदासी मार्च का पतझड़ कहाँ है बहार, जो फिर से अगले साल ही आएगा.

एक बड़ी भारी सी आवाज़ मेरा पीछा कर रही है और मैं उससे कन्नी काटते भाग रहा हूँ.






प्रस्तुतकर्ता सागर पर Thursday, April 01, 2010

10 comments:

  1. Manme halki-si kasak to paida ho gayi..badi saral, sadagi bhari lekhan shaili hai aapki!

    ReplyDelete
  2. तड़पा देने वाला लिखा है सागर. लगा उसी ट्रेन पर तुम्हारे सामने वाली खिडकी पर बैठी तुम्हें घिसे हुए पटरों में कुछ ढूंढते देख रही हूँ. सोच रही हूँ तुम्हें टोक दूँगी तो जाने कौन सी कविता खो जायेगी.

    पर इस कविता की तलाश में कवि को खोना भी तो नहीं चाहती.

    ReplyDelete
  3. :)

    ye sochalay jabardast hai.. lekin pessimistic nahi hone ka..

    mere paas kuch bhi nahi hai bolne ke liye.. bas ek smile si hai jo chehre pe hai..
    tere sochaly ko maine apni ek post mein link kiya tha..

    kaash sabke paas aisa ek sochalay ho.. sagar bhai jabardast!!

    ReplyDelete
  4. bahut badhiya shaily likhne ki!utne hi sundar bhaav bhi...

    ReplyDelete
  5. ग़ज़ब की टेंशन लिए है .... पर मज़ा आया पढ़ने में ...

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी प्रस्तुति।

    ReplyDelete
  7. पटरी के नीचे कई पहचाने से तख्ते..

    सिर्फ और सिर्फ कमाल...

    ReplyDelete
  8. ट्रेन की जोर पकडती रफ़्तार मानो धोंकनी सी बजती ज़िन्दगी की जद्दोजहद हो.

    दुनिया में दिल बहलाने के लिए क्या कुछ नहीं है, हरे भरे खेत हैं, क्रिकेट खेलते युवा हैं, रंग-बिरंगे लैम्प पोस्ट हैं, अतीत में ले जाती, बाल सहलाती मद्दम हवा है.
    पर इक दिन यह सब भी छिन जायेगा जब गाड़ी धीरे धीरे धचके खाती है-पता नहीं कब रुक जाये?फिर...


    कई बार उदासी में मन इक ऐसे बिंदु पर आ के रुक जाता है जैसे किसी damaged रिकॉर्ड पर आ कर इक जगह सुई फंस जाती है और जानलेवा शब्द पैदा करने लगती है,उस समय सिर्फ यही मन करता है किसी तरह यह शब्द पैदा होना बंद हो जाये...'यह उदासी है, एक फेज है, गुज़र जाएगा'

    ReplyDelete
  9. यह ऐच्छिक उदासी का अविरल करुण-राग!!..आँखों पर एक काँच सा चढ़ जाता है..कि दुनिया बस धूसर रंगों मे दिखायी देती है..अजनबी इंसानों से भरी-उलझती दुनिया मे कोई सूखा सा बेरंग पेड़ भी इतना अपना लगता है..कि उसके गले लग कर घंटॊं यूँ ही रोया जा सकता है..अपने साये से देर तक दुःख बाँटा जा सकता है..अपने ही चुपचाप धड़कते दिल को फ़ुर्सत से बद्दुआएँ दी जा सकती हैं..मगर उसके बावजूद चैन न मिले तो...मगर चैन की गुजारिश कौन कम्बख्त करना चाहता है..यह तो एक मुसलसल बेचैनी है जो खुद मे समाये जाती है..एक जलन जो खुद को जलाये जाती है...कौन परवाह करता है इस ’फेज’ के गुजरने की..बस उस उदासी के गले लिपट जी भर रो लेने को जी चाहता है..
    नासिर याद आते हैं..
    इस शहर-ए-बेचिराग मे तू जायेगी कहाँ
    आ ऐ शब-ए-फ़िराक तुझे घर ही ले चलेँ ।

    ReplyDelete
  10. क्या क्या लिख चुके हो! क्या बात है।

    ReplyDelete

Post a 'Comment'

Friends

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...