Skip to main content

तकरार



नहीं नहीं, मैं खां साहेब कि बात नहीं कर रहा ... ना ही उस उस दुष्ट बल्लेबाज की जो तुम्हारी आदतन फैंके गए चौथी स्लो डिलीवरी पर रिवर्स खेल गया... और ना ही ओबामा के अचानक इराक दौरे की बात कर रहा हूँ...

मैं तो उस दीये की बात करूँगा ना जो शक्तिहीन है, इतना सीधा कि बेमकसद है .. जो छल-प्रपंच नहीं जानता...

मकसद ?

हाँ मैं सभ्य समाज वाले मकसद की बात नहीं कर रहा ? इसे समझना होगा आपको... दादी मर रही थी तभी आत्मा का ट्रांसफोर्मेशन हो रहा था...

वो भौतिकी वाला हीट तो नहीं था ?

पता नहीं, पर अगर था तो डायरेकशन तय करनी होगी. एक बात और...  यह सच है कि मैं जब भी पतंग उडाता हूँ काले बादल घिर आते हैं... पर इसकी परवाह नहीं मुझे

क्या रात में पेड़ तुम्हें चुप्पी साधे खड़े नहीं दिखाई देते हैं ?

हाँ. सब आप लोगों जैसे लगते हैं.

अँधेरे में सुप्रीम कोर्ट का गुम्बद नज़र आता है ?

हाँ, अभी तक तो आ रहा है.

गुड ! फिर तुम जिंदा हो अभी.

पर क्या यही बड़ी बात है ?

नहीं... आवाज़ को सुनना बड़ी बात है, जिस भी शहर में रहे आधी रात को ट्रेन की आवाज़ आती सुनी ?

हाँ, पर यह भी लगा कोई मुझे छोड़ने के लिए दूर तक रोड पकड़ के दौड़ा था...

गुड अगेन !

गुड की बात नहीं है... मुझे उसके तुरंत बाद पेशावर एक्सप्रेस भी याद आता है.

उसके बाद क्या ?

विभाजन ?

नहीं कितनी बार ?

मैं गुस्से के उबल रहा हूँ ?

कितना ?

अल्जीरिया में जितनी गर्मी पढ़ती है उतनी ?

नहीं पापा ?

सराहा के मरुस्थल जितना ?

नहीं ?

उसी दीये के बुझने जैसा ?

नहीं उतना भी नहीं ?

फिर कैसा ?

किसी पेड़ को जड़ से उखाड़ने जैसा गुस्सा.

तुम्हारे आँखों का स्थिर होना ठीक नहीं ?

क्यों ? संयमित होना लक्ष्य नहीं हमारा ?

हां पर आसपास नज़र नहीं रखना और भी बुरा है ?

तो आप मुझे सियासत सिखा रहे हो ?

नहीं, देशप्रेम !

कितना सिखाओगे ?

बताऊंगा, चांदनी में नहाते हो ?

वाहियात कामों के लिए फुर्सत नहीं.

वो बीमारियाँ दूर करती हैं.

मैं मुल्क की कर लूँ ?

तुम युवाओं की यही समस्या है ...

... (बात काटकर) आप अनुभव लेकर चाट रहे हैं ना !

फिर क्या करोगे तुम ?

कम से कम असमय सफ़ेद होते बालों का इलाज़ तो नहीं कराऊंगा, ना ही बालों की रुसी होना मेरे लिए यक्षप्रश्न है.

तुम्हारे जैसे कितने हैं ?

अकेला होऊंगा, और कुछ ?

तुम्हारी खून की गर्मी है बेटा ?

बेटा बोलकर कर कमजोर मत कीजिये, यहाँ ताश नहीं खेल रहे हम

अपने घर का ख्याल करो, एकलौते हो तुम

कहा ना पत्ते मत फेंकिये...

(... जारी )

Comments

  1. इस पोस्ट के लिए साधुवाद।

    ReplyDelete
  2. bahut badhiya ji....

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  3. दो थोट से एक साथ कैसे गुजर सकते हो...........अभी तुम्हारे पहले ब्लॉग से होकर आ रहा हूँ......इसलिए मूड थोड़ा डिप्रेस है ....

    ReplyDelete
  4. हम्म!! जैसे की सागर की हिलोरें..

    ये कहानी है दिये की और तूफान की..बड़े दिन बाद सुना!

    बढ़िया!!

    ReplyDelete
  5. good

    bahut khub


    shekhar kumawat

    http://kavyawani.blogspot.com/

    ReplyDelete
  6. अजब लफ्ज़ गजब कहानी ...बाँध लिया इस ने खुद में शुक्रिया

    ReplyDelete
  7. गज़ब है भईया ! फिलहाल तो यही पढ़ने दो -

    "मैं गुस्से के उबल रहा हूँ ?
    कितना ?
    अल्जीरिया में जितनी गर्मी पढ़ती है उतनी ?
    नहीं पापा ?
    सराहा के मरुस्थल जितना ?
    नहीं ?
    उसी दीये के बुझने जैसा ?
    नहीं उतना भी नहीं ?
    फिर कैसा ?
    किसी पेड़ को जड़ से उखाड़ने जैसा गुस्सा."


    अभी जारी है ना... उत्कंठित हूँ !

    ReplyDelete
  8. हाँ, उपर्युक्त में 'के' की जगह ’से' कर दीजिए !

    ReplyDelete
  9. क्या-क्या लिखते हो जी! अगले पत्ते कब फ़ेकोंगे? दिये और तूफ़ान की कहानी सुनकर अच्छा लगा! शुक्रिया।

    ReplyDelete
  10. वाह! पॉल कोह्येलो जैसा लिखते हो मित्र!

    ReplyDelete
  11. दिलचस्प दास्ताँ

    ReplyDelete
  12. 'सराहा’ को ’सहारा’ कर सकते हैं..अगर बिना सहारे के सराहे जाने की फ़ितरत मे हों तो... ;-)

    ReplyDelete
  13. बह गये भैया तुम्हारे पत्तो मे..
    हुकुम का इक्का दबाये बैठे हो यार..

    अगली कडी पर जा रहे है...

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ