Skip to main content

It happens only in office यार...








ज़रा कल्पना कीजिये, आप अपने दफ्तर के केबिन में बैठे हों और जीमेल पर बहुत दिनों बाद आपकी 'शोना' (कामिनी, सिर्फ आपकी शोनाएक्सक्लूसिव फॉर यू) आपको ऑनलाइन दिख जाये तो आप सब काम छोडकर चैट करने में मशगूल हो जाते हैंबातों का सिरा कुछ यूँ होता है:-
me : Hello !
(इसलिए की पिछली बार आपने स्वीटहार्ट बोलकर पंगा मोल ले लिया था और वो नाराज़ होकर लोगआउट हो गयी थीअबकी आप अच्छी छवि के साथ सामने आते हैं)

shona : (कामिनी)  : hieeeee !!!!!
(आपने मेल में भी उसका नामकरण शोना ही कर दिया है, (आप आई की मात्रलंबी देख उसके मूड का अनुमान गर्मजोशी भरा मानते हैं )
me : J
shona : J
me : kaisi ho madam ?
(आप मूड चेक करने के लिए यह लिखते हैंसम्हाऊ 'मैडमका इस्तेमाल तो इसीलिए किया गया है )

shona : achchhi hoon, tum batao
me : so how is life going ? 
(पर्सनल लाइफ में झाँकने की पहली चाल शुरू करते हुए)

shona : enjoying honeymoon in honolulu ! its amazing... 
(आप यकीन करना पड़ता है क्योंकि कल ही आपने उसके फेसबुक पर उसकी होली डे की तस्वीरें देखी हैं और उसे देख कर यह सोचा था कि साला हम यहाँ ऑफिस में .... घिस रहे हैं और तू वहाँ मस्ती कर रही है.)

me : oh great ! enjoy J 
(सच यह है कि आप थोडा दुखी होते हैं पर 'हनीमूनऔर 'होनोलूलूजैसे शब्द आपको उत्साहित करता हैकिन्तु आप अभी अपने दुःख के बारे में सोचना पसंद नहीं करतेआपके दिल की धड़कने सुरीली (क्योंकि इससे पहले यू ट्यूब पर गाने सुन रहे थे) होते हुए कामुक ख्याल बुनते हुए तेज हो जाती है )

shona :  thanx J
me : welcome, soooooo....... taking sun bath ! J 
(यही से बात खोलने की कोशिश करते हुए)

(इतने में आपके केबिन में बॉस आपको पीछे से टोकते हुए आ जाते हैं. आप अपने को ठगा हुआ महसूस करते हैंहलक सूख जाती हैऔर मूविंग चेयर होते हुए भी आप पलटने की कोशिश नहीं कर पा रहे हैंआप पूरा का पूरा जीमेल वाला पेज बंद करने कि कोशिश करते हैं पर समहाऊ वो 'टनके आवाज़ के साथ बंद होने से इनकार कर देता है. अब आपने  अपने बचाव में बस इतना किया है कि चैट वाली विंडो बंद कर दी हैपर तब तक शोना का मेसेज आने से वो विंडो लाल होकर फिर से अवतरित हो जाता हैअब आपकी धड़कने फिर से तेज हो गयी हैं.... पर इस बार खौफनाक रूप से)

आप पूरा जी मेल वाला पेज ही मिनीमाईज़ कर देते हैं

अब आपके बगल में बॉस आपसे मुखातिब हैआप भोले बनने की कोशिश करते हैंगरमागरम बातों से गुलाबी मुस्कान लिए आपका लाल चेहरा संयत होने में जरा टाइम तो लेगा ही. आप शारीरिक भाषा भी सुधारते हैं पर अफ़सोस बॉस आपको यह सब करते देख रहे हैं और उन्होंने आपको चैट करते भी देखा है.

अब आप प्रोफेशनल लुक में आ चुके हैं और सीरिअस बनते हुए बॉस से बातें करना शुरू करते हैं... पर बात इतनी सी नहीं रहती... स्क्कीन पर मिनीमाईज़ किया हुआ बॉक्स बार-बार : शोना says : लिखा हुआ (ब्लिंक करता हुआ) दिखा रहा है... बॉस भी यह देख रहे हैं... आप बॉस को उस सोच से भटकाते हुए कुछ ऑफिसियल बात करने की कोशिश करते हैं पर बॉस भी इस कारगुजारियों को सोचने में इतना मशगूल हो चुके हैं की वो जिस काम से आये थे वो भूल चुके हैं...

वो बिना कुछ कहे चले जाते हैंआप oh shit ! जैसा एक्सप्रेशन देते हुए अपने किस्मत को कोसते हैं...

अगले ही पल आपको ख्याल आता है दूसरा मौका क्यों जाने दे. इस दौरान आप पिछली बार कहाँ तक हॉट बातें छोड़ी थी वो याद करते हैं और अपने को फिर से तैयार करते हुए  आप चैट बॉक्स मैक्सिमाईज़ करते हैं

shona :    lol ! nope, just fun man!
                you tell me, whtz going on ...?
____________________________________________  7 minutes

shona  hey, kahan chale gaye ???
               off-off ! it seems that you have gone !!!
               o.k., see you, next time
               take care 
               n yes, say hieeee to vimla J
               bbye

............................. और आप इत्ता सा मुंह लेकर रह जाते हैंसब अंग्रेजी चैटिंग भूल कर गांव का एक देहाती कहावत याद आतl है जातो गंवाए भातो ना खाए” ):


* * * * *

चलते-चलते




यह पोस्ट कुश को समर्पित है. इस ब्लॉग की साज-सज्जा का जिम्मा उन्ही का है... तो यह जो ब्लॉग पर चटक-मटक देख रहे हैं ना आप... इन सब के पीछे इन्ही का हाथ है.

Comments

  1. हलकी फुलकी पोस्ट. ब्रेक लेना जरूरी भी है.

    ReplyDelete
  2. Hey shona...hey shonaaa...

    Sab yahi ga rahe hain...

    kishor kumar ne gaa hin itna achchha diya hai...

    ReplyDelete
  3. ये बताओ आपको ये वाला लॉग मिला कैसे... कितनों का पासवर्ड चेंज करवाओगे ;)

    ReplyDelete
  4. हे हे... यार फ़ायरफ़ाक्स यूज किया करो.. उसमे एक ऎड-आन है 'yoono'.. मै आजकल उसे ही यूज करता हू.. इस मामले मे वो मस्त है..

    लेकिन ये बात भी सच है कि दुनिया का कोई ऎड-आन यूज कर लो.. ऎसी .... का कुछ नही कर सकते...

    ब्लाग अच्छा सजाया है और कुश तो लुक ऎन्ड फ़ील का डाक्टर है :)

    ReplyDelete
  5. ह्म्म...सही है भिड़ू! ;-)

    ReplyDelete
  6. तेरे बॉस बड़े खड़ूस हैं भाई! बताओ अच्छी भली बात बात तुड़वा दी।

    ReplyDelete
  7. अच्छा ! 'ब्रेक' लेने में भी इतना बढियां !

    ReplyDelete
  8. आज फिर से पढ़ रहा था.. सोचा आज कमेन्ट टिका ही दूँ.. तुम भी क्या याद करोगे.. :)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …