Skip to main content

काई लगी दीवारें...




 ... तोरा कैसा अभिमान !!!!!


Comments

  1. इतना फीका है के पढ़ा नही जाता अच्छे से...

    ReplyDelete
  2. डबल डोज.. ! एक तो धुरंधर पोस्ट ऊपर से ये गाना.. वाह!

    और तुम कहते हो तारीफ़ ना किया करे.. हर बार एक धाकड़ पोस्ट ठोंक जाते हो..!

    ReplyDelete
  3. सदियाँ बीत रही हैं और ठिठके दोपहर की घडी में दो बजने में दस मिनट बांकी है. वक्त आगे... बहुत आगे चला आया है पर कहीं कुछ भी नहीं बदला जिंदगी में.

    बारिशों में भीगता हुआ इसी रुके दोपहर में घर आता हूँ तो यह जंग लगा हुआ अजायबघर नज़र आता है. आईना कहता है – मैं खुद भी तो संग्रहालय हो गया हूँ.

    कनपटी पर एक मनहूसियत रखी है जो वक्त-बेवक्त तारी हो जाता है. यह किसने तिल-तिल कर मरने कि बद्दुआ दी है. जिंदगी के हर सिप का ज़ायका फीका लगता है. कोई कहीं है जो बैठकर मर्सिया पढता है.

    सिगरेट के धुंए जैसा हवा में विलीन होने जितनी जिंदगी होती तो क्या बात होती ! पानी की खाली बोतल पंखे की ज़रा सी हवा से देर तक घुडकती है. चश्मे के नीचे रखा अखबार फड़फड़ाते हुए बार-बार कुछ कह रहा है. केनवास पर बरसों से पेंडिंग एक अधूरी तस्वीर पड़ी है.

    ... गोया में भी कहाँ मुकम्मल हूँ.

    घडी में अब भी दो बजना चाहता है. और अपने ऊब में उकसाए हुए हम सदियों से कुछ सफ्हे पर मैराथन खेल रहे हैं.

    ---- सागर
    01.05.2010

    ReplyDelete
  4. गोया में भी कहाँ मुकम्मल हूँ.ऐसे में खुद से कहें --हम सुन्दर हैं :)

    ReplyDelete
  5. @ डिम्पल,
    चुनांचे अपनी तबियत भी कौन सी मीठी है ? वहां भी तो यही लिखा है. शायद बहुत सही कह दिया आपने "पढ़ा नहीं जाता अच्छे से"

    ReplyDelete
  6. उदास पन्नों की फीकी स्याही में कमाल का जायका आता है, तब तुम्हें पढ़ना नहीं, तुम्हें जीना लगता है.
    दोबारा यहाँ तुम्हारी टिप्पणी में एक साँस में पढ़ी तो लगा जैसे लिखने में कुछ रह गया हो, कुछ अधूरा...कि इसे ऐसे नहीं पढ़ना चाहिए...इसे वैसे ही पढ़ना चाहिए, धुंधले शब्दों में खोते, डूबते उतराते हुए.
    संग्रहालय...तुम हो सागर...वाकई, जिंदगी के कुछ जाने अनजाने पलों को समेटे. कई बार तुम्हें पढते हुए ऐसा लगता है कि तुम्हें बड़े करीब से जाना है. या कि जिस जिंदगी को तुमने जिया है उसका कुछ हिस्सा मैंने भी देख रखा हो.

    जाने कैसा लिखते हो सागर, पढ़ के सुना सुना, देखा देखा, जिया जिया लगता है.

    तुम्हारी लेखनी को सलाम.

    ReplyDelete
  7. सागर, मैने इन कुछ दिनो मे एक काम अच्छा किया है कि तुम्हे जाना है.. पूजा सही कहती है "इसे वैसे ही पढ़ना चाहिए, धुंधले शब्दों में खोते, डूबते उतराते हुए."

    ReplyDelete
  8. कनपटी पर एक मनहूसियत रखी है जो वक्त-बेवक्त तारी हो जाता है. यह किसने तिल-तिल कर मरने कि बद्दुआ दी है. जिंदगी के हर सिप का ज़ायका फीका लगता है. कोई कहीं है जो बैठकर मर्सिया पढता है.


    अभी अभी तुम्हारे कसीदे कही पढ़ कर आ रहा हूँ...अक्सर लोगो के मुंह पे तारीफ़ करने से वे बिगड़ जाते है .....इसलिए कभी कभी उन्हें रुक कर डोज़ दी जाती है ....स्लो डोज़.......
    गुलज़ार साहब के दो नज़्म मेरे लिए केटेलिस्ट का काम करती है .ये ओर "तुम्हारे उतारे हुए दिन टंगे है "....इसलिए मेरे मोबाइल के हर मेमोरी कार्ड के साथ उनका कम्पलसरी स्पेस तय है .....दर्शन ओर तुमने मेरी इस आभासी जगत में कवितायों ओर अकविताओ की बाबत दिलचस्पी को ज़िंदा रखा है.....

    ReplyDelete
  9. sagar ji ...post padhne ke liye jyada hi mehnat karwa di aapne... zoom kar kar ke ..aankhe gada gada ke padhi maine post..lekin mehnat safal hui...dimaag ko sukun mila aapne apni bechaini is kareene se likhi hai ..aur yah geet...humesha se pasand hai ..

    ReplyDelete
  10. बरबाद कर देंगे सब नयी उमर के लड़के। आज दिन भर पंकज की सारी पोस्टें बांची। अब तुम खड़े हो लिये सामने! निपटते हैं तुमसे भी!

    ये वाली पोस्ट पढ़कर लग रहा है पिछला हिसाब किताब भी देखा जाये!

    ReplyDelete
  11. खुदको आईने में उतारना और खुदसे इमानदार होना मुश्किल होता है सागर सहजता से कर लेता है यह सब ... पूजा ने सुन्दर शब्दों में कहा है और मैंने बहूत कम में... अंगुलियाँ से रंगा स्लेटी स्याही का जायका अलग ही है ...

    ReplyDelete
  12. आपका लिखाव , पूजा जी का समझाव , पंकज का
    उछलाव , अनुराग जी का गुलजारी सुलझाव और
    अनूप जी का अपेक्षित निपटाव ... सब बढियां है !

    ReplyDelete
  13. सागर इसे थोड़ा और माज दो यार…बहुत अच्छी बन जायेगी…अच्छी तो अभी है

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …