Skip to main content

रेड लाइट...



दे भिखारी !
बच्चे ने जब बस में बैठे लोगों को इस तरह जोर से संबोधित किया तो लगा पूरी दुनिया को कह रहा हो. यह वही बच्चे हैं जिनके लिए ट्रेफिक जाम होना हमारे उलट ज्यादा फायदेमंद होता है..


दुनिया के खेल भी निराले हैं... जब हम बारिश का आनंद लेते हैं तो उसी दिन शाम को मोहल्ले में हाट नहीं लग पाता और कुछ बेहद जरूरतमंदों की कुछ भी कमाई नहीं हो पाती तुर्रा यह कि अगले दिन कई अखबारों में यह पढ़ने को मिलता है कि बारिश के कारण फलां फसल में कीड़े लगने के कारण वे खराब हो गए.

तो बच्चे ने दुनिया को दे भिखारी का नारा दिया था... जिन्हें कोई और नारा देना चाहिए था... यह हिंदुस्तान के मुस्तकबिल है... मेरी जबान भी कितनी गन्दी है एकबारगी तो ख्याल आया हुजुर का मुस्तकबिल बुलंद हो.

संसद भवन के गलियारों से कितना उलट है प्रगति मैदान के सबवे में खड़े एक साथ तीन को इशारे से निपटाते किन्नड...  यहीं बन रहा है आजकल कॉमनवेल्थ गेम्स के लिए एक लोहे का पुल... समय भी अब कम है ना... शीला सरकार को अपनी लाज जो बचानी है...

और उसी के नीचे नेशनल स्टेडियम के गेट पर लाल बत्ती पर भारत की तरक्की को चुनौती दे रहे हैं यह बच्चे सिर्फ दो शब्दों दे भिखारी से

बाबू गजरा ले लो! 
एक करुण प्रार्थना... एक लड़की मेरे पास आकर कहती है.

आँखों में बहुत बेबसी रोक रखी है उसने, तो क्या अब वो गिर जायेगी ? नहीं तो, जिसने पीठ पर अपना भाई भी बाँध हो, उसका बाँध इतना कमजोर नहीं होगा!!!

बस रुकी है और एक बच्चा नकली दाढ़ी, मूंछे लगाये लगातार करतब दिखा रहा है, इन्हें नट कहते हैं. दोपहर के डेढ़ बजे ऐसा वे भूखे रह कर कर पाते हैं मेरा एक दोस्त बताता है.

शीशे के किनारे बैठे सभी बुतों ने करतब देखा है पर पैसे नहीं निकाले.... खीझ से उसी बच्चे ने बुतों को भिखारी नाम से पुकारा था.

सहसा, जोर का ठहाका !!!!
निष्क्रियता देख पायदान पर खड़े कुछ आवारे, जो मुफ्त में घर लौट रहे है, एक ने २ का सिक्का फैंकते हुए कहा
ले बेटा इसका सिगरेट पी लेना
 फिर एक जोरदार ठहाका !!!!!!

गजरे वाली लड़की नीचे उतर कर भी मुझे लगातार देख रही है... मैं बचने की कोशिश कर रहा हूँ पर लगता है यह निस्तेज कातर नज़र मेरी पीठ से चिपक गयी है.

बस चल पड़ती है... मुझे अशोक चक्रधर याद आते हैं...

मसखड़े के साथ मसखड़ी हो गयी,
जाओ बाबू जाओ, बत्ती हरी हो गयी

एक नज़र इधर भी




Comments

  1. Yah to samaj ki vidambana hai..kahin qahat hai to kahin sailab hai..

    ReplyDelete
  2. bahut sundar chitran kiya kuch vivashtaon aur samajik udaseenta ka...chakradhar ji ki kavita man moh gayi...

    ReplyDelete
  3. कहानी लिखने का हुनर बहुत अच्छे से आ गया है आपको...
    जब आदमी को राह चलते कहानी दिखाई पड़ने लगती है तो वो सही में कहानीकार हो जाता है...
    बधाई.

    वो अनुराग जी लिखे हैं 'मौजजे', इसका मतलब क्या होता है..उनसे पूछना भूल गया था भाई..

    ReplyDelete
  4. अशोक चक्रधर जी का ज़वाब नहीं।
    लेकिन हर भिखारी -भिखारी नहीं होता ।

    ReplyDelete
  5. "आँखों में बहुत बेबसी रोक रखी है उसने, तो क्या अब वो गिर जायेगी ? नहीं तो, जिसने पीठ पर अपना भाई भी बाँध हो, उसका ‘बाँध’ इतना कमजोर नहीं होगा!!!"

    सही कहते हो...

    "गजरे वाली लड़की नीचे उतर कर भी मुझे लगातार देख रही है... मैं बचने की कोशिश कर रहा हूँ पर लगता है यह निस्तेज कातर नज़र मेरी पीठ से चिपक गयी है."

    ये मेरे साथ अक्सर होता है.. जैसे नजरे चिपक जाती है..

    ReplyDelete
  6. दुनिया के खेल भी निराले हैं.

    अपनी नाफ़रमानियों के अक्स भी नज़र आते हैं इसमे जिसे हम खेले-निराले कह कर कश मे उड़ा देते हैं..जब अप्रैल के तपते आस्माँ की जानिब सर उठा कर गरमी की राहते के तौर पर बारिश की दुआएँ करता था..तभी याद आता था कि कितने गरीब किसानों का पका हुआ गेहूँ खेतों मे खड़ा होगा..थ्रेशर्स के पास पड़ा होगा..मेरी बारिश की दुआ मे बह जाने से सहमा हुआ..निगाहेँ खुद-ब-खुद शर्म से जमीं मे गड़ जाती थीं..

    और नट के करतब दिखाने वाले बच्चे को भिखारी समझना जमता नही..भिखारी तो हम ही हुए ना..कला के भूखे पेट को चंद तालियों से टरकाते हुए..’दे भिखारी’

    ReplyDelete
  7. और हाँ..चित्र अच्छा लगाये हो..’महाजनो येन गते स पंथा’ टाइप..और मध्यमा्र्गी!

    ReplyDelete
  8. गजरे वाली लड़की नीचे उतर कर भी मुझे लगातार देख रही है... मैं बचने की कोशिश कर रहा हूँ पर लगता है यह निस्तेज कातर नज़र मेरी पीठ से चिपक गयी है.

    ReplyDelete
  9. @ ओम आर्य
    मोजजे- जो इंसानी ताकत से बाहर हों (डिक्शनरी यही कहता है )
    हम इसे मिरेकल भी कह सकते हैं... वाक्यों के साथ इसके कई अर्थ और भी बनेंगे...

    ReplyDelete
  10. इस सिलसिले में एक फिल्म याद आती है, ट्रैफिक सिग्नल. उसमें निर्देशक ने बड़े करीब से आइना दिखाया है इन लोगों की जिंदगी का.
    आज तुम भी एक खाका खींचते हो...और बिलकुल सही कहा है 'दे भिखारी' आखिर उसको पैसे हम अपने मन की तसल्ली और शांति के लिए देते हैं. एक कचोट उठती है कि हम कुछ नहीं कर सकते, कई बार तो शर्म आती है. आज के ज़माने में लगता है कि एक दो रुपये से किसी का क्या होगा...कभी कभी लगता है कि संवेदनशील होना बहुत मुश्किल है...खुश रहने के लिए बड़ी मेहनत करनी होती है.
    mac D से आते हुए कई बार अगर आइसक्रीम रहती है हाथ में तो ऐसे ही सिग्नल पर बच्चे मांग लेते हैं, दे भी देती हूँ...पर फिर कई बार आइसक्रीम खाने में ही अजीब सा लगता रहता है.

    ReplyDelete
  11. ट्रैफिक सिग्नल बहुत सारी परते खोलती है.. फिल्म का गाना भी है.. यही ज़िन्दगी है तो क्या ज़िन्दगी है..

    कुछ समय पहले मैंने भी Tरेड लाईट पर कुछ लिखा था.. पर वो इससे अलग था.. तुमने फिर इस बार चमत्कृत किया है..

    ReplyDelete
  12. इतना सूक्ष्म और हृदयस्पर्षी अवलोकन! बहुत सुन्दर।

    ReplyDelete
  13. घट गया सब कुछ वैसे ही.. हाँ पता नहीं जब भी कुछ करना,सोचना चाहूँ तो लगता है आख़िरकार लेखनी के सिवा क्या है सब....आमिखाई की भाषा में "वे उस दर्द का भी दिखावा कर लेते हैं जो उन्हें सच मैं महसूस होता है"..... कई बार एक बहती नदी को देखकर महसूस किया कि मैं बहुत संतुष्ट हो रहा हूँ मगर इसे मुसलसल वैसा ही बहा बहा सा बनाने के तरीकों को इजाद करता हूँ नदी तो रहती है बस बहना बंद हो जाता है.... लगता है यह संवेदनशीलता यह अनुभव यह दृश्य कहने, या इनके चित्रों को क़ैद करने में ये और भयावह हो जाते हैं... जिसको हम जितनी भावुकता से रखते हैं,,बहती हुई नदी की तरह और पढने वालों के लिए नदी नहीं बस एक नदी का चित्र हो जाता है... इसी लिए कहा घट गया सब कुछ वैसे ही.... भयावह...!

    www.taaham.blogspot.com

    ReplyDelete
  14. चक्रधर की कविता भी अच्छी लगी !

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …