Skip to main content

राज़ की बातें लिखी और खत खुला रहने दिया



किशोरावस्था से जवानी की ओर जाती तुम्हारे बचपने का यह उच्चतम स्तर होगा. अब तुम थोड़ी गंभीर हो जाओगी. अल्हड़ता दूर जाने लगी होगी. होंटों पर लिपस्टिक लगाकर आईने में देर तक नहीं हँसती होगी अब करीने से तुम्हें लिपस्टिक लगाना भी आ गया होगा. तुमने अब दुपट्टा ठीक से पिन-अप करना सीख लिया होगा.

मेरी आँखों में अब तक वही मंज़र कैद है कि तुम रेत पर ठीक किसी नदी की तरह अपने सीने से आँचल हटाकर मेरे शहर को बसाई हुई हो. तुम्हारी गुदाज़ बाहें मेरे आगोश में मसक रही है. कसमसाई हुई तुम कभी मेरे आस्तीनों से खेलती हो, झेंपती हो और कभी टूट कर प्यार करती हो. यूँ कभी-कभी बीच में जब मैं भी अपनी आँखें खोलकर तुम्हारे होंठों को अपने होंठ के इतने करीब देखता हूँ तो मेरा दिल धक् से रह जाता है. मैं तुम्हें अपने हैसियत से बाहर जाकर नापने की कोशिश कर रहा हूँ.

कहीं भरी आकाल में तब बारिश हुई थी. भूखे को अनाज मिला था. उस दिन किसी किसान के आँगन से बैल नहीं खोले गए थे. कहीं कोई खुदा किसी अभागे पर नेमत बरसाया था. कोई भागा हुआ घर लौटा था और माँ के चेहरे पर पहली बार नूर दिखा था.

कृष्ण ब्रज के बहाने सृष्टि को प्रेम का महत्ता बता रहे थे. सुकरात ने सत्य की खातिर जहर पी थी. समंदर बार-बार चाँद को छूने के लिए आवेग से उठा था. झील पर पानी पीने आई सुनहरी हिरणी कुचालें भर रही थी. गाय के खुर ने गोशाले में उत्पात मचाई थी.

... और कालिदास दूर बैठे कहीं कोई विराट महागाथा लिख रहे थे.

... अगले दिन तुम मुझे रात में कई बार अकचकाकर नींद टूटने कि शिकायत करती हो.

मेरी आँखों में अब तक वही मंज़र कैद है कि किसी पेड़ कि ओट लेकर मैंने बारिश में तुमसे आसमान देखने को कहा था. यह और बात है कि इतना प्रेम कहाँ से बरसा था यह रहस्य हम दोनों आज तक समझ नहीं पाए.

मेरी आँगन की मिटटी ने तुम्हारे गमले में कोई नया पौधा अब तक खिला दिया होगा. तुम्हारी यह शिकायत कमजोर पड़ गई होगी कि मेरे बाल बहुत देरी से सूखते हैं. उम्मीद है, इन गर्मियों में एक साथ कई सूरज निकला करते होंगे. गुलमोहर और अमलतास पर झमाझम फूल आया है अलबत्ता तुम्हारे गालों पर पिम्पल्स आने के दिन खत्म होने को आये होंगे.

... आज यही खुशखबरी देनी थी कि मैं तुम्हें पूरी तरह से भूलने में कामयाब हो चुका हूँ.

Comments

  1. "... आज यही खुशखबरी देनी थी कि मैं तुम्हें पूरी तरह से भूलने में कामयाब हो चुका हूँ."

    kya khoob bhoole ho ji...

    kunwar ji,

    ReplyDelete
  2. तुम रेत पर ठीक किसी नदी की तरह अपने सीने से आँचल हटाकर मेरे शहर को बसाई हुई हो.
    ......
    ....
    ...
    .
    गुलमोहर और अमलतास पर झमाझम फूल आया है अलबत्ता तुम्हारे गालों पर पिम्पल्स आने के दिन खत्म होने को आये होंगे.

    Good going...

    ReplyDelete
  3. नि: शब्द है जी एक बार पढने से काम नहीं चलेगा इस कृति को ..हर पंक्ति कई बार मन से गुजारनी होगी ..

    ReplyDelete
  4. सच में भूल गये हो, साफ़ पता चल रहा है।

    गजब लिखा है।

    ReplyDelete
  5. हेरान हूँ किसी को भूल कर इतनी सूक्षमता और आवेग से याद किया जाता है ....

    मेरी आँखों में अब तक वही मंज़र कैद है कि किसी पेड़ कि ओट लेकर मैंने बारिश में तुमसे आसमान देखने को कहा था. यह और बात है कि इतना प्रेम कहाँ से बरसा था यह रहस्य हम दोनों आज तक समझ नहीं पाए.


    मेरी आँगन की मिटटी ने तुम्हारे गमले में कोई नया पौधा अब तक खिला दिया होगा. तुम्हारी यह शिकायत कमजोर पड़ गई होगी कि मेरे बाल बहुत देरी से सूखते हैं. उम्मीद है, इन गर्मियों में एक साथ कई सूरज निकला करते होंगे. गुलमोहर और अमलतास पर झमाझम फूल आया है अलबत्ता तुम्हारे गालों पर पिम्पल्स आने के दिन खत्म होने को आये होंगे.


    ... आज यही खुशखबरी देनी थी कि मैं तुम्हें पूरी तरह से भूलने में कामयाब हो चुका हूँ.

    ReplyDelete
  6. wahhhh wahhhhhh bas sochta hu bhoolkar yaad karna phir shabdo main pirona....bahut khooob dost!

    Likhte raho swagat hai !!

    Jai HO Mangalmay Ho

    ReplyDelete
  7. "मेरी आँखों में अब तक ...... अपने हैसियत से बाहर जाकर नापने की कोशिश कर रहा हूँ."

    Dost "matinee show" se "morning show" ki taraf ja rahe hain. :)
    Aise ant kafi khoobsoorat kiya hai aapne

    ReplyDelete
  8. और इस लिखावट का रहस्य...?
    आखिरी लाईन सारे मार्क्स ले जाती है..

    ReplyDelete
  9. येह बात तो हमे भी समझ न आयी कि सब राज की बात लिखी और खत खुला क्यों रहने दिया..्भई टीआरपी का जमाना है..सो ’राज की बातों’ के रेट्स ज्यादा होते होंगे..
    ..खैर बात अपनी जगह तक पहुंचे..भले ही जमाने के रास्ते सही..आमीन है :-)
    शायद ग़ालिब चचा के मरने के बाद भी ऐसे ही हसीनों के खुतूत निकले होंगे घर से...वैसे तुम्हारी उमर क्या है अभी कामरेड? ;-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …