Skip to main content

जन-गण मंगल दायक जय हे


सुबह के साढ़े आठ बज रहे है. सुनहरी धूप खिली है. मध्धम हवा चल रही है, सड़के जैसे धुली हुई हैं. हर तरफ चहल-पहल है. लगता है कुछ होने वाला है जिसके लिए सब उत्साहित हैं. हमारे जैसे बच्चे तो रात भर सोये भी नही. यही लगता रहा अभी ज़रा एक देर में सुबह हो जायेगी पर कैसी होगी सुबह ! क्या शमशेर बहादुर के कविता जैसी लाल खड़िया चाक मल दी हो किसी ने  या फिर...  नहीं उस वक्त मंटो के कहानी कतई याद नहीं आई कि आज़ादी के बाद भी सब कुछ वैसे का वैसा था. पेड़ वहीँ खड़े थे, आदमी भी वही थे और हालत भी वही थे... सच्ची, कतई ऐसा कुछ ख्याल नहीं था... कसम से.

मैं बड़ी हसरत से तकता हूँ तिरंगा, देखता हूँ आसमान, राष्ट्रगान जब आरोह-अवरोह में बज रहा होता है तो पुलकित होता हूँ, ठिठक जाता हूँ, मोहित होता हूँ, हर्षित होता हूँ और भाव-विहोर हो जाता हूँ. और जब बैंड जन-गण मंगल दायक जय हे की ऊँची छलांग लगाता है; तभी आकाश में तीन लड़ाकू विमान केसरिया, उजला और हरे रंगों का धुंआ छोड़ते हुए तिरंगे पर फूल बरसता हुआ गुज़रता है, तभी  हर बच्चा अपने कोरे दिल पर पहली बार हिंदुस्तान लिखता है. यह उसका पहला प्यार होता है.

मैं बड़ी उत्सुकता से पूछता हूँ  पापा वो कौन थे... मेरी आँखों के दिए लहलहा उठे हैं...

पायलट पिता बड़े हैं  इसलिए जवाब छोटा है.

मैं भी पायलट बनूँगा .... मेरी आवाज़ में उत्साह ज्यादा है.

जरुर बनो ...

अचानक मेरी आँखें डबडबा जाती हैं. लगता है कुछ और भी शामिल गया है अब इनमें... शायद पिताजी ने अदृश्य पाइपलाइन के सहारे मेरी आँखों में वही सपना डाल दिया हो...

थोड़ी देर बाद तिरंगा खम्बे में उलझ जाता है. वो लहराना चाहता है पर कोई बंदिश है वहाँ. कोई सिरा उसे फहरने से रोक रहा है. मैं बड़ी देर से इसे देख रहा हूँ और चाहता हूँ कि तिरंगा फिर से लहरा उठे... मेरी इस अवस्था को पिता जी ताड़ लेते हैं. पिता की नज़र अपने बच्चे पर ही लगी रहती है.

तिरंगे को एक सेल्यूट तो दो अपने आप फहराने लगेगा उन दिनों पिताजी की बातों पर बड़ा विश्वास था. पत्थर की लकीर. मैं एक जोरदार सेल्यूट मारता हूँ, तिरंगा सौ गुने उर्जा से आनंदातिरेक हो कर लहरा उठता है. मैं चेहरे पर संतुष्टि भरी मुस्कान आती है. उनकी बातें कितनी सच्ची होती हैं.

मैं बड़ा होता हूँ.

एक बड़े वर्ग के लिए उन्ही दिनों धूमिल लिख रहे थे क्या आज़ादी सिर्फ थके हुए तीन रंगों का नाम है जिसे एक पहिया खींचता है.

"हम भारतीय आकाश के संरक्षक बोल रहे हैं". स्क्वाड्रन लीडर जब यह गर्जना करता है तो मैं पीछे भीड़ को देखता हूँ. दोपहर की चिलचिलाती धूप में भी सबके रोयें बबूल के काँटों में तब्दील हो गए. जाँघों की हड्डियां सख्त हो गयी और रीढ़ की हड्डी सीधी हो गयी. सिर्फ इतना ही नहीं हुआ अब तक जो वेतन, कैंट से सस्ते सामानों का लालच, विशेष सुविधाएँ, लोगों पर पड़ने वाला रूआब आदि का हिसाब-किताब लगा रहे उम्मीदवार एक पल के लिए यह सब भूल जाते हैं. गोया देशभक्ति ऐसी ही चीज़ होती है.

यह सच है कि मैं पायलट नहीं बन पाया और अब यह सपना मैंने अपने बेटे की आँखों में उसी अदृश्य पाइपलाइन से ट्रांसफर कर दिया है. सपने बचे हुए हैं अभी.

अभी वो तुतला कर बोलता है. मैं आजकल उसकी आवाज़ इस शेर से साफ़ करा रहा हूँ

हर चीज़ कुर्बान है इश्क की खातिर,  पर,
मादर-ए-वतन के लिए सौ इश्क भी कुर्बान है

और देखता हूँ कि इससे उसकी जबान वैसे ही साफ़ होती है जैसे भगत सिंह अपनी बन्दूक की नली साफ़ करते थे.

...और ऐसा करते हुए मैं भगत सिंह से कहता हूँ कि हम आपके मुल्क से बेइन्तहां मुहब्बत करते हैं.

Comments

  1. “हर चीज़ कुर्बान है इश्क की खातिर, पर,
    मादर-ए-वतन के लिए सौ इश्क भी कुर्बान है”
    बहुत खूब ..पूरा लेख बधाई के काबिल

    ReplyDelete
  2. “हर चीज़ कुर्बान है इश्क की खातिर, पर,
    मादर-ए-वतन के लिए सौ इश्क भी कुर्बान है”


    बहुत खूब

    ReplyDelete
  3. फिर तुम्हारी कलम से एक बेहतरीन सोच उभर कर आई है. जन गण मन सुनते ही मेरे रोयें आज भी खड़े होते हैं, पता नहीं क्यों आँख भी भर आती है...जानती हूँ पीवीआर के अँधेरे में ऐसा कम लोगों के साथ होता होगा.
    तुम्हारी पोस्ट पढ़ के एक उम्मीद का दिया जलता है, कि अकेला इतना अकेला नहीं है. पीढ़ी दर पीढ़ी ऐसे कुछ सपने विरासत में दिए जाएँ तो जज़्बा जिन्दा रहता है.
    पोस्ट को एक सैल्यूट.

    ReplyDelete
  4. “हर चीज़ कुर्बान है इश्क की खातिर, पर,
    मादर-ए-वतन के लिए सौ इश्क भी कुर्बान है”
    ....बेहतरीन सोच .

    ReplyDelete
  5. Behad bhavukta se likha hai..aankhen nam-si ho gayin!

    ReplyDelete
  6. दोपहर की चिलचिलाती धूप में भी सबके रोयें का बबूल के काँटों में तब्दील होना, अदृश्य पाइपलाइन से सपनो का ट्रान्सफ़र, ’जन-गण-मन’ का सम्मान... बचपन मे पिता की हर बात पर किया हुआ वो अडग विश्वास.. सब कुछ है इस पोस्ट मे..

    ReplyDelete
  7. बाकी जो कहना चाहता था, पूजा कह चुकी हैं

    ReplyDelete
  8. पंकज जी की टिप्पणिया मेरी भी मानी जाये.

    ReplyDelete
  9. मैं एक जोरदार सेल्यूट मारता हूँ, तिरंगा सौ गुने उर्जा से आनंदातिरेक हो कर लहरा उठता है. मैं चेहरे पर संतुष्टि भरी मुस्कान आती है. उनकी बातें कितनी सच्ची होती हैं.

    “हर चीज़ कुर्बान है इश्क की खातिर, पर,
    मादर-ए-वतन के लिए सौ इश्क भी कुर्बान है”


    १५ अगस्त और २६ जनवरी को स्कूल से लेकर कॉलेज के दिन याद आये....लेकिन हाँ तिरंगे के लिए प्यार, विश्वास और सम्मान बरक़रार है .....और भगत सिंह से ये कहना कि आपके मुल्क से बेइन्तहा प्यार हैं ......आँखे झलक आई .......बाकी बातें पूजा और पंकज कह गए. शुक्रिया जों आपने हमारे ब्लॉग पर आकर हमें मौका दिया आप तक पहुचने का.

    ReplyDelete
  10. ...और डिम्पल जी की टिप्पणिया मेरी भी मानी जाये :-)

    ReplyDelete
  11. जन गन मन अधिनायक जाया है not "जन-गण मंगल दायक जय हे" ..over all bahut pyara hai

    ReplyDelete
  12. i will do that :) waise apke is se kuch inspired ho kar maine bhi kuch likha hai...
    mujhe apke naye post ka hamesha intezaar rehta hai.


    तुमसे बात करते करते राष्ट्रगान बजने लगता है और तुम मुझे छोड कर किसी झुके हुए नारियल के पेढ़ की तरह खड़ी हो जाती हो. तुम्हारे गालों पे झूलते हुए पतले सुनहरे बाल भी खड़े हो उठते है .भाव-विहोर हो जाती हो. आखो में चमक आ जाती है. “जन-गण मंगल दायक जय हे” दबे हुए होटो से धीरे धीरे बोलती हो तो और भी सुन्दर लगती हो.राष्ट्रगान में रोमंतिसिस्म (Romanticism). अच्छा लगता है.

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …