Skip to main content

चिरनिद्रा


फोन पर जब वो हाय सागर बोलती तो दोनों तरफ कुछ मिलावट सी होने लगती... उसकी आवाज़ में मेरे नाम का अर्थ घुल जाता... मंथर सी चाल होती और होते गहरे भाव... गर उस वक्त सिर्फ इन दो शब्दों का आडियो ग्राफ खींचा जाए तो एक सरल रेखा भर उभरे, इतनी संयत जैसे लता मंगेशकर का रियाज़, आधी नदी के बाद का स्वच्छ पानी, पीली रौशनी में गुसलखाने में रखा पहला कदम,

इन शब्दों से लगता मेरे जिस्म के शराब में किसी ने बर्फ का टुकड़ा डाला है, वही बर्फ पहले सीधे अंदर जा कर पैठी है फिर उठकर ऊपर आती है और तैरने लगती है. मैं आँखें बंद कर उसकी आवाज़ से गुज़रता तो अपने को एक अँधेरी गुफा में पाता जहां मेरे ही शरीर की झिल्लियों की तस्वीर लगी है और कोई इंस्ट्रक्टर फलाने- फलाने जगह पेन्सिल की नोंक रख बता रहा हो कि बाबू! मुश्किल है .... तभी मेरे पार्श्व में ऐसा संगीत बजता जैसा राजेश खन्ना को लिम्फोसर्कोमा जैसी कोई संगीन बिमारी बताने पर बजता है....

जब मैं उसे बताता कि लोग मेरे साथ बड़े दयनीयता से पेश आते हैं तो मेरा निशाना लोग नहीं बल्कि वही हुआ करती... उससे बात करते-करते मुझे माइग्रेन से दोस्ती हो गई है. मैं उससे बताना चाहता हूँ कि माइग्रेन अब सिर्फ दर्द नहीं देता... मेरे जिस्म से सूरज निकलता है और सांझ बन डूबने लगता है... मैं निर्विकार उसे डूबते देखता हूँ ... मेरी प्यारी अठ्ठनी खो गयी है  दरअसल इस उम्र में भी मैं झूठ बोलते पकड़ा जाता हूँ तो नज़र ऐसे ही चुराता हूँ.

वो पूछती कि दिल्ली का हाल क्या है (पर मैं सोचता कि दिल से सीधे दिल्ली का सफर इतना करीब तो नहीं, लोग कैसे इतनी जल्दी में इतना सफर तय कर लेते हैं) तो मैं उसे बताता हूँ कि दिल्ली अपने में मस्त है, इस साल कॉमन वेल्थ गेम होने वाला है, वो चहक उठती है...

मैं उसे बताता हूँ कि यह कॉमन लोगों की वेल्थ (धन) का खेल है और अबकी महारानी एलिजाबेथ बहुत व्यस्त रहने के कारण नहीं आएँगी बल्कि राजकुमार चार्ल्स आयेंगे, जिससे तारीफ के शब्द सुनकर बिपाशा बसु थिरक उठी थी. रानी मुखर्जी ने राजकुमार चार्ल्स से मिलने के लिए मंहगी जूलरी और कपडे ख़रीदे थे और उससे मिलने को अपना सौभाग्य माना था.... जो कुछ साल पहले इंडिया आये थे और जलियांवाला बाग हत्याकांड में शहीद होने वालों को शहीद मानने से इनकार कर दिया था... हाँ तो दिल्ली और सेंसेक्स की उछाल में धंसा पूरा भारत मस्त है.

वो कहती है तुम्हारी जुबान बहुत कड़वी है, तुम निगेटिव सोच के आदमी हो और ये बता कर मेरी सोच को बदलने की सलाह देती है...

मैंने हेलो-हेलो का बहाना करता हुआ फोन काट देता हूँ... ताकि बात फिर हाय सागर से शुरू हो सके और मैं उससे इस बार कह सकूँ कि मैं तुम्हें (जिंदगी को) एक पूरा दिन स्मूच करना चाहता हूँ ताकि मेरी जबां मीठी हो सके, उस दिन मुझे शराब पीने की जरुरत ना हो और किसी खुले पार्क की छिटकी धूप में अपने माइग्रेन रूपी दोस्त को सहलाते हुए मैं हमेशा के लिए सो सकूँ. चिरनिद्रा.

Comments

  1. wakai sochalaya hai.........ek alag hi soch ko darshati hai.

    ReplyDelete
  2. .वैसे कई शब्द मेरी एक पसंदीदा नज़्म की याद दिला गए..."..पिघलता जाए जैसे बर्फ का टुकड़ा व्हिस्की में ....."....

    ReplyDelete
  3. कैद हो गये हैं जी लब, क्या बोलें?

    ReplyDelete
  4. आपके लेख में लय है (आप सुरूर कह सकते है )..जो अपने साथ बहा ले जाती है ...... वाकई किसी ख़ास के मुह से अपना नाम क्या "सुनो " भी इतना मीठा लगता है की कई बार ना सुनने का बहन भी कर लेते है

    ReplyDelete
  5. Wow.....wat a thought ...aur jis bakhoobi se kalambadh kiya hai .....kaabil-e-tareef hai
    5th para kaafi pasand aaya.....romantism mein patrotism ki entry waakai kamaal hai

    ReplyDelete
  6. ’हाय सागर’!! :-)
    भई पूरी पोस्ट सॉलिड है एकदम..बस चिरनिद्रा वाली बात छोड़ कर..डियर जिंदगी सच एक ख्वाब है..मगर तब तक जब तक कि नींद नही टूटती..सो चिरनिद्रा वाला आइडिया फ़िल्हाल ड्रॉप करो..जबकि इस ख्वाब की रील मे अभी कुछ आइटम नम्बर्स का स्कोप है... ;-)

    ReplyDelete
  7. बड़े खतरनाक ख्याल हो रहे हैं हैं आपके.....

    जबान मीठी करने का भला ये क्या तरीका हुआ...

    ReplyDelete
  8. कल पढ़ा, कई कई बार...'फ्लेमिंग शॉट' पीना कुछ ऐसा ही होता होगा, जलता हुआ और daring. मैंने कभी पीने की हिम्मत तो नहीं की है, पर आज पढ़ के लगा आरजू पूरी हो गयी.
    पूरी पोस्ट में गजब का फ्लो है, नजाकत भी है और तेज धार भी...कमाल का बैलंस है.परत दर परत खुद को कैसे खोलते चले जाते हो कि लगता है कोई ताज़ा घाव छू लिया है, हालाँकि घाव तुम्हारे जिस्म में है, पर छूने भर से दर्द उभर आया है मेरी उँगलियों में.
    चिरनिद्रा, माइग्रेन रुपी दोस्त...

    तुम्हारी अब तक की सबसे अच्छी पोस्ट लगी मुझे. सलाम सागर साहब!

    ReplyDelete
  9. एक ही लफ्ज़ इसको पढ़ कर आया लाजवाब ....मूक कर देने वाला

    ReplyDelete
  10. जाने क्यों आज बात करने का दिल कर रहा है, इम्तेहान करीब है ना शायद... पूरे लक्षण हैं,

    @ वंदना जी,
    पहले इस ब्लॉग का नाम अपनी डफली सबका राग था... एड्रेस में अभी भी यही बताता है... इसके साथ न्याय नहीं हो रहा था इसलिए सोचालय किया... संभवतः एड्रेस भी बदलूँगा...

    @ डॉ. साहिब,
    ... आप अपने गुलज़ार को छांक ही लेते हैं... सॉरी अपने नहीं हमारे भी :)

    @ मो सम कौन...,
    कैद मत कीजिये जनाब, कुछ कहिये, सब चलेगा

    @ सोनल रस्तोगी,
    अल्ला जाने लेख में क्या है ? पर शुक्रिया तो बनता है बॉस.

    @ प्रिया,
    हिंदी में कमेन्ट लिखें तो इन बूढी आँखों को इतनी तकलीफ नहीं होगी. साथ ही हमारी अंग्रेजी ज्ञान का भी ख्याल रखा जाये.

    @ जैसा पूर्व में कभी/कोई नहीं हुआ,
    आइटम सोंग की डिमांड, भाई माजरा (मुज़रा) क्या है ! आप तो ऐसे ना थे :)

    @ ओम आर्य,
    अब आपसे क्या छुपाना, आप तो बेहतर जानते होंगे... नहीं चुमकी?

    @ पुज्जी,
    तुम्हारे कमेन्ट भावुक करते हैं, देखना घाव का ख़याल रखना ! बड़ा मुश्किल से टिकता है ये

    @ रंजना जी,
    यह कौना स्थिति है हो ? ... बहरहाल शुक्रिया.

    ReplyDelete
  11. हेल्लो सागर ! (चलेगा न):)
    अब समझ आई माइग्रेन क्यूँ होता है.(फिर भी कहाँ कहाँ से चीज़े ढूंढ़ के लिख देते हो)बाकी सब बढ़िया अभिवियक्ति बधाई पर चिरनिद्रा की बात कुछ खास नहीं भायी

    ReplyDelete
  12. sagar hamne poori mehnat ki ...Hindi mein aapke comment box mein hamse to copy hi nahi ho raha hain....pichle 20 min se hindi mein likh paste karne ki koshih kar rahe hain... Ctrl +V kaam nahi karta na...hi paste

    ReplyDelete
  13. नेगेटिव सोच के आदमी हो... पाठकों को चिरनिद्रा से जगाने के लिए छिटकी धूप से लहरों पर लिखते हो...

    ReplyDelete
  14. @ प्रिय + आ,

    मेहनत की जरुरत नहीं, आगे से कोशिश की दरकार है. बड़े बड़े ब्लागरों के की-बोर्ड में ऐसी छोटी-छोटी तकनीकी खामियां होती रहती हैं :)

    @ नीर + आ + जी,
    आक्षेप है या लानत ! वैसे दोनों प्रिय है.

    ReplyDelete
  15. @ डिम (कम रौशनी) + पल,
    अरे दौड़ेगा महारानी, अब चिरनिद्रा की बात नहीं भायी तो नहीं भायी.... बिंदास बोलने का भई (भाई ?)

    ReplyDelete
  16. बडे मूड मे हो.. :) ये मेरे फ़ोन के बाद की पोस्ट है..?? हे हे हे.. :) कुश! देखो लाडला बिगड गया :)

    सागर, डुबा ले गये गुरु... इस वक्त बस यही अहसास हो रहा है कि हल्की हल्की डिम लाईट है, हल्की हल्की खुमारी और तुम्हारी पोस्ट मे घुलते आईस क्यूब्स..

    सागर जबरदस्त की घात जबरदस्त लिखता है..

    ReplyDelete
  17. कोई पीड़ा जब जीवन का अंग बन जाये तो उससे मुँह चुराना कैसा । उगता सूरज भी ढल जायेगा, यही तो सारे सुख दुख का निष्कर्ष है । संवाद बहा है विचारों के बँधे किनारों पर और जब तक सागर पा नहीं ले, बहता ही जायेगा ।

    ReplyDelete
  18. ek smmoch me chir nindra ka khumaar.... hmmm
    ayadat ko aane ka intejaar to kar lete ....
    bolne do ki lab aazad hai mere .....

    ReplyDelete
  19. @ पंक (कीचड ) + ज,

    राज़ खोल रहे हैं जनाब और मुझे रोकते हैं... आपका नशा उतरना हम जानते हैं.. उतार भी चुके हैं... खैर...

    शुक्रिया यार, तुम्हें अच्छे से इम्तेहान के बाद पढूंगा...

    ReplyDelete
  20. @ प्रवीण जी,बहता भी रहूँ तो कोई बात है, यहाँ तो अलाम यह है कि नहीं बहने के कारण पानी गन्दला हो गया है.

    आखिर जुस्तजू क्या है? ??

    @ सत्या,
    शब्द ब्रह्म है. बोलो यार, किसने रोका है.

    ReplyDelete
  21. देख रहा हूँ पंकज.. बिगड़ा हुआ तो था ही ये पर अब बिगड़ता ही जा रहा है..
    अच्छा पढने की आदत डाल दी साले ने..

    ReplyDelete
  22. @ कुश Babu,
    " बिगड़ता ही जा रहा है.."
    ... प्रगतिशील पंक्ति कुश बाबू....

    कब तक स्टेशन से छुपाकार ख़रीदे गए सस्ती किताबें सिरहाने छुपाये रखियेगा

    प्रतियोगिता का ज़माना है हमने मुफ्त में उपलब्ध करवा दी... भाग मनाइए :)

    ReplyDelete
  23. किताब खरीदने के लिए जेब में दमड़ी तो हो बांगड़ू..
    तुम चिरनिंद्रा में ख्वाब भी लेते रहते हो...

    लेते रहते हो... ये पंक्ति भी प्रगतिशील है जानी)

    ReplyDelete
  24. पोस्ट का कबाड़ा कर रहे हैं मियां .. यह सब मेल पर :)

    ReplyDelete
  25. हम पंकज और प्रशांत के अनुशंषा पे यहाँ आये! आपका ये पोस्ट दो बार पढ़े...तब जाके समझ में आया. इतनी गहराई में राज़ क्यूँ छुपा देते हैं? :) वैसे गलत भी क्या है...मोती भी तो सीप के अंदर ही होता है न....बहुत सुन्दर!

    ReplyDelete
  26. ऐसे ही लिखते रहिए, और गिलास बीच-बीच में घुमा या हिला भी लीजिए, ताकि बर्फ़ और अच्छे से गले।
    रगों में दर्द है या दर्द ही लहू बन गया है - एक रुबाई याद आ गयी -
    मिस्रा है-
    "रग-रग में जिसके नश्तरे-ग़म के उगें शिगाफ़, वो क्या बताए दर्द कहाँ है - कहाँ नहीं!"

    ReplyDelete
  27. @ स्तुति,

    कभी अनुशंषा छोड़ ऐसे भी आइये.. वैसे भी यह एक 'आलय ' (घर) ही तो है.


    @ हिमांशु Ji,

    सराबी सिलसिले अच्छे लगेंगे,
    यूँ ही से वास्ते अच्छे लगेंगे

    जरा दो चार सदमे और सह लो,
    फिर हमारे फलसफे अच्छे लगेंगे :)

    लिखते रहेंगे... बर्फ लगाने की कोशिश कई साल से जारी है.

    ReplyDelete
  28. हाय सागर ! इतना गंदा सोचते हो...छिः छिः ...राम-राम ... तुम तो हमसे भी गंदा सोचते हो... लब मीठा करने का कितना गंदा तरीका सोच रहे हो.
    और पोस्ट की क्या कहें ... ये तो दिल में ऐसे ही घुल गयी, ज्यों व्हिस्की में बर्फ धीरे-धीरे और वो बर्फ ठंडा करती है, इसने सुलगा दिया...

    ReplyDelete
  29. ये वाली पोस्ट तुम्हारी लिखी मेरी अब तक की सबसे फेवरिट पोस्ट है. कई बार लौट आती हूँ इसे पढ़ने के लिए.

    ReplyDelete
  30. http://www.youtube.com/watch?v=bfk6AzvyX4k

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …