Skip to main content

आँखों में कैद चंद मंज़र

दृश्य -1
एग्जामिनेशन होल में, किसी सवाल का जवाब सोचते हुए कनपटी से पसीने की एक धारा फूटती है... टप! कान के नीचे गिरती है. सवाल बदल जाता है.

"गर्मी से निकली पसीने की बूँद ठंढी क्यों होती हैं?"

दृश्य -2

बेरोजगारों ने बेंचों पर मां-बहन की गालियाँ लिख कर खुन्नस निकाली है... गिनता हूँ 1-2-3-4-... उफ्फ्फ ! अनगिनत हैं दोनों तरफ...

बाहर गांधी मैदान में, 'बहन जी' की रैली है... हर खम्भे पर हाथी है.

दृश्य -3

"तुम्हारी कंवारी पीठ पर के रोयें हिरन जैसे सुनहरे हैं"

अगली बेंच पर बैठी श्वेता को जब मैं यह कहता हूँ तो वो दुपट्टे का पर्दा दोनों कांधों पर खींच लेती है. कभी फुर्सत में तुम्हें  "एक सौ सोलह चाँद की रातें, एक तुम्हारे काँधे का तिल" का मतलब समझाऊंगा... मैं सोचता हूँ.

दृश्य -4

बाहर निकलता हूँ...आसमान में मटमैले बादल छाए हैं... गंगा शहरवालों से उकताकर तीन किलोमीटर पीछे चली गयी है. मैंने इतनी परती ज़मीन बरसों बाद देखी है...

मुझे गुमां होता है कि मैं राजा अशोक हूँ और हवा मेरे कान में कहती है " बादशाह! यह पाटलिपुत्र की सरज़मीन आपकी हुकूमत का हिस्सा है"

दृश्य -5

शाम का हाट सज चुका है... मुरझाये सब्जियों पर छींटे मारे जा रहे हैं.. एक अधनंगा बच्चा आम को अपने हाथ में लिए बड़ी ललचाई नज़रों से देख रहा है.... उसकी दादी उसके हाथ से छीन बिकने के लिए वापस टोकरी में रख लेती है...

मैं सड़क पर चल रहा हूँ, तेज़ हवा के बायस मेरे हाथ, कुरते के घेरे में बार-बार फंसते हैं.. मेरे मुंह से गाना छूटता है... "जिंदगी कैसी है पहेली हाय" ...

पीला फलक, कोरस में "हूऊऊऊ" गा कर मेरा साथ देता है... मुझे अपनी हैसियत का पता चलता है.
...यह सारे मंज़र मेरी आँखों में कैद हो जाते हैं.

"कोई नागिन ढूंढ़ के लाओ रे... अब यहाँ के आगे बदला ले"

Comments

  1. गाँधी मैदान- पटना का एक विशाल मैंदान, पटना का दिल.

    पाटलिपुत्र- पटना का पुराना नाम, यह शहर सम्राट अशोक ने बसाई...
    अभी इस नाम की कोलोनी है.

    ReplyDelete
  2. नमस्ते,

    आपका बलोग पढकर अच्चा लगा । आपके चिट्ठों को इंडलि में शामिल करने से अन्य कयी चिट्ठाकारों के सम्पर्क में आने की सम्भावना ज़्यादा हैं । एक बार इंडलि देखने से आपको भी यकीन हो जायेगा ।

    ReplyDelete
  3. कतरा कतरा जोड़ कर आपने वास्तव में सागर बना दिया ...

    ReplyDelete
  4. Sabhi manzar aankhon ke aage se guzar gaye...chalchitr kee tarah..

    ReplyDelete
  5. पढाई, लिखाई, कन्या की दिखाई और शहर की घुमाई सब जोर पर है :-)

    ReplyDelete
  6. bas itna hi, shandaar.
    http://udbhavna.blogspot.com/

    ReplyDelete
  7. द्रश्यों में बसी दुनिया ... शब्द उनमें सच पिरोते हुए ... सुंदर! ..

    ReplyDelete
  8. इत्ता अच्छा क्यों लिखते हो सागर ??? देखो बड़े लेखक बन जाना तो हमें मत भूल जाना... बहुत अच्छा लिखा है.

    ReplyDelete
  9. अच्छा लिखे हो गुरु !
    शुभकामना , बड़े लेखक बनो भाई !
    और हाँ , भूलने के विरुद्ध भी !

    तथ्यात्मक त्रुटि है एक !
    पाटलिपुत्र नगर अशोक ने नहीं बल्कि
    उदयन ( उदयभद्र ) ने बसाया है !
    कालोनी अशोक की हो , कोई अचम्भा नहीं !

    जारी रहें आर्य पर भौतिक-दैहिक इतिहास भूगोल
    चकाचक रखते हुए ! आभार !

    ReplyDelete
  10. सन्नाटा बिखेर दिया है चारो तरफ.. हर बार पिछली बार से अलग ले आते हो बाबु.. लिखे तो उम्दा हो ही जानी..

    और ये अमरेन्द्र भाई क्या कह रहे है.. बिना रिसर्च के लिख मार रहे हो.. पाटलिपुत्र से बाहर क्या गए भूल ही गए..

    ReplyDelete
  11. ... बेहद प्रभावशाली है ।

    ReplyDelete
  12. vaaah....kayaa kahu sagar ke itane tukare kar diya our har sagar pahale jitna hi vishaal.....

    ReplyDelete
  13. सारे दृश्य देखे हुए थे...यहाँ तक कि वो रोयें भी..पर वो कहते हैं न कि देखना काफी नहीं होता है...आँखें सुजानी पड़ती हैं.

    ReplyDelete
  14. यह शिल्प अभी कुछ दिनों पहले तक कितना ताज़ा लगता था…तुम्हारे यहां अब तक उस ताज़गी की छाया है…मुझे क्यों लगता है कि इसे बचाये रखने के लिये तुम्हें फिर तोड़ना पड़ेगा

    ReplyDelete
  15. अच्छा लगा यहाँ आकर.
    दृश्य जो भी हैं कहीं न कहीं सोचने के लिए विवश कर देते हैं.

    ReplyDelete
  16. ह्म्म..कुछ वक्त तो बीत गया तब से..उम्मीद है कि अब तक काँधे के तिल का मतलब अच्छे से समझाया जा चुका होगा..और जिंदगी की पहेली न सही इम्तिहान की पहेली तो सफ़लतापूर्वक सुलझायी जा चुकी होगी..गरमी मे पसीना ही ठंडक देता है..सो लगता है कि खूब ठंडक होगी आपकी तरफ़..और आम की तरफ़ अब भी ललचायी निगाह से देखते वक्त आपकी पोस्ट याद आयेगी... :-)

    ReplyDelete
  17. ये सारे दृश्य (एक कुंवारे की) जिंदगी का वो हिस्सा है जहाँ कायदे से जीने के लिए सोचना बहुत पड़ता है.

    ReplyDelete
  18. अच्छे दृश्य खींचे है आपने उम्मीद है मार्क्स भी अच्छे मिलेंगे :)

    ReplyDelete
  19. आपका डिजिटिल कैमरा पसंद आया ...जिन्दगी की नब्ज को आँख के जरिये टटोलता ....खूबसूरत,सच्चा ,दिल के करीब ,वक्त से रूबरू कराता ..इस बयानगी -दीवानगी का कायल होना ही है ..आभार ...सभी पोस्ट नहीं पढ़ पाती हूँ आपका कमेन्ट अपूर्व के ब्लॉग पर देखा ..और यहाँ चली आई ....इधर आते रहेंगे तो ब्लॉग तक पहुंचना आसान होगा ...अपूर्व के कमेन्ट बेशकीमती होते हेँ ...आप समझ सकतें हेँ . ईमानदारी की कीमत ईमान दारी ही हो सकती है ...आमीन

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …