Skip to main content

बारिश

         रात की घाटी में पिछले पहर से ही मुसलसल बारिश हो रही है. आज सूरज नहीं निकला लेकिन शायद ही किसी को शिकायत हो.... हाँ मैं फेरी वालों से भी बात कर आया हूँ. कोई आज काम नहीं करना चाहता है. मैं अपने दोस्त से पूछता हूँ तेरा, आज का क्या प्रोग्राम है?

चिकन और चावल का, और तेरा ?

कॉफी पीते हुए कोई कहानी पढ़ने का.

पड़ा रह साले.

         किन्तु मेरा मन पढ़ने में भी नहीं लगता... बरामदे में बारिश पूरे मूड में बरस रही है. मैं बाहर निकल जाता हूँ. सड़कों पर भी बुलबुले छुट रहे हैं... सब सपने जैसा लग रहा है. कहीं झपकी गिर रही है तो कहीं मदहोश नींद.. सबको चुन-चुन कर उठा लेने का दिल करता है.

          पेड़ों के तने पके हुए से लग रहे हैं... झुलसी पत्तियां हरे होकर खिल गए हैं. वे आँखें फाड़-फाड़ कर देखती हुई प्रतीत होती है. पत्तियों ने अपने शरीर फुल लेंथ की लम्बाई में तान दिए हैं मानो किसी तरुणी से बारिश रूपी आशिक प्यार कर रहा हो और उस भीगी सी जवान युवती ने मस्ती में अपने टांगें खोल दी हो.

          ढका हुआ दिन एक खुमार बन कर छाया है. मौसम नशा दे रही है... ऐसे दिनों में मंटो की लिखी घाटन की कहानी याद आती है और सिगरेट और कॉफी की तलब-बार-बार लगती है. प्रकृति पर रीझते हुए, एक जोरदार कश खींचकर अपने अंदर रोकना फिर नाक से धुंआ निकालना आराम देता है. आखिर माज़रा क्या है, जुस्तजू क्या है ?

          कुछ दूरी पर घुटने भर पानी में बच्चे फुटबाल खेल रहे हैं, सबने सिर्फ जींस पहने हैं. वे पानी से सराबोर हैं... उनको कोई फ़िक्र नहीं... वे कितने आज़ाद हैं और उनके जीवन में कैसी रवानगी है ! आँखों से आगे से बचपन ब्रीफकेस लिए निकलता है. ब्लैक एंड ह्वाइट में यह शेड ज़ेहन में अटक जाता है.

             सड़कों पर लगे पानी से बच कर निकलने की कोशिश नहीं करता. चाहता हूँ, कोई गाडीवाला गुजरे तो मुझे और भिगोता हुआ निकल जाए. स्कूल में छुट्टियाँ हो गई हैं. बसों में बैठे बच्चे बड़ी हसरत से मुझे देख कर आंहें भर रहे हैं... कृष्णा निकेतन के लड़कियों के दिल में भी यही ख्याल आये होंगे पर ...

              आकाश में सफ़ेद बादल हैं ... बारिश की बूंदें तीन मंजिले मकान के ऊंचाई जितनी दिखती है, उससे ऊपर नहीं नज़र नहीं आती. सारे गमलों में पानी भर गया है... गुलमोहर का फूल हर बूँद को अपने दामन में रोकना तो चाहता है पर सफल नहीं हो रहा है... हर पत्ता इतना ताज़ा है बस तोड़ कर पान के जैसे मुंह में रखे को जी चाहता है.

          बीच बीच में तेज हवाओं से पेड़ों की डालियाँ बेतरह एक दूसरे में उलझ गई हैं. यह दो भिन्न-जातियों का मिलन सा लगता है. कोई गुफ्तगू चल रही है.

प्रकृति और नारी ईश्वर की बनायी गई दो सबसे खूबसूरत और अनमोल चीजें हैं. मुझे सुमित्रानन्दन पन्त की कविताओं की भूख लगने लगती है.

          ... और ऐसे में जिस बालकनी में आपकी महबूबा, हाँ वो जो सूरज बन वहाँ चमकती थी, जुल्फें खोल रात का पर्दा डालती थी, आपको नाउम्मीदी भरा खत लिखा करती थी फिर भी तोहफे में चंदन की छोटी-छोटी डालियाँ भेजा करती, आपको उसकी महक उनके बदन सी लगती,  उसी गली में आप उम्मीद की झोंके की तरह आते थे. उनकी बहनें और सहेलियां एक-दूसरे को कोहनी मार ताना कसती थी, लेकिन वो आपको मुहब्बत का फरिश्ता बताते हुए मुस्कुराती थी. 
  
          ... वो जो नाव बीच में डूब गई थी और इसका दर्द जब भी आपको सालता है आप दीवानगी के आलम में मेरी तरह निकल पड़ते हैं... ऐसे में अपनी महबूबा की गली से गुज़ारना हो जाए जिनसे तो सिर में मीठा सा दर्द तो उभरना लाज़मी हो ही जाता है.


          अंततः पैर में पत्थर बांधे दबी जुबान से जगजीत सिंह की कोई गज़ल गाते हुए आप आगे बढ़ सकते हैं अलबत्ता यह स्केच भी रुक गया होगा.

Comments

  1. कहीं तारीफ सुनने की आदत सी ना हो जाये ...लिखने वाला इस बरसात में फिसल ना जाए .....इसलिए प्रिकॉशन लेते हुए नहीं करती तारीफ ...हाँ ! बरसात मुबारक हो ....हर तरह की :-)

    ReplyDelete
  2. मन्टो की लिखी घाटन का नाट्य रूपान्तरण देखा था, नसीरुद्दीन शाह निर्देशित। अब तो उद्घाटन का ज़माना है।

    ReplyDelete
  3. क्या कहे ..बारिश का मौसम होता ही है ऐसा बूँदें नहीं नशा बरस रहा है
    If all the raindrops were vodka, breezers and tequila shots, Oh what a day this would be!!! ;))

    ReplyDelete
  4. पिलाने का ये अंदाज़ भी निराला है बर्खुरदार...!
    नशा भी हो जाए और इलज़ाम भी ना लगे...

    यही बैठे बैठ भीग रहा हूँ मैं तो..

    ReplyDelete
  5. अमां यार तुम तो ना नशा करवा के छोड़ोगे .....इनी नशीली पोस्ट लिखी है कि.....एक जाम और पीने को कर रहा है !!

    ReplyDelete
  6. बारिश बीत भी जाये तो देर तलक टपका रहता है... आपकी पोस्ट पढ़ के भी कुछ ऐसा ही लगा... शब्दों से खींचे स्केचिज़ देर तलक ज़हन में रहेंगे...
    गुलज़ार साब की ये नज़्म याद आ गयी... आपकी इस पोस्ट को डेडीकेट कर देते हैं :)

    शीशम अब तक सहमा सा चुपचाप खड़ा है,
    भीगा भीगा ठिठुरा ठिठुरा
    बूँदें पत्ता पत्ता कर के,
    टप टप करती टूटती हैं तो
    सिसकी की आवाज़ आती है !
    बारिश जाने के बाद भी,
    देर तलक टपका रहता है !

    तुमको छोड़े देर हुई है
    आँसू अब तक टूट रहे हैं...

    -- गुलज़ार

    ReplyDelete
  7. अच्छा अंदाज है बारिश के वर्णन का ।

    ReplyDelete
  8. Maja aa gaya pad kar, nahi nasha karne wale ko bhi nasha ho jaye ye pad kar.

    ReplyDelete
  9. sir..ye bhi khoob rahi :))))))))))))
    meri hoslaafjayi ke liye lakh lakh dhaywaad!!

    ReplyDelete
  10. चश्म-ए-साकी से पियो, या लब-ए-सागर से पियो
    बेखुदी आठो पहर हो, ये जरूरी तो नहीं.....

    ReplyDelete
  11. - कहीं झपकी गिर रही है तो कहीं मदहोश नींद.. सबको चुन-चुन कर उठा लेने का दिल करता है।

    बस वाह वाह!

    - ढका हुआ दिन एक खुमार बन कर छाया है

    ’ढका हुआ दिन’ बोले तो? नही समझा :( बताओगे/समझाओगे?

    - अंततः पैर में पत्थर बांधे...
    अच्छा प्रयोग किया है.. शायद ऎसा ही कुछ बिम्ब मैने अपूर्व की एक कविता मे भी देखा था..

    बाकी पोस्ट अच्छी है... लेकिन तुम्हारी वन ओफ़ द बेस्ट नही :। :।

    P.S. अपने दोनो हाथो से हमने अपना चेहरा छुपाया हुआ है तुम्हारी उस घूरती नज़र से बचने के लिये... :|

    ReplyDelete
  12. प्रिय पंकज,
    ढका हुआ दिन मतलब : जिस दिन सूरज ना निकला हो, दबी हुई रौशनी वाला दिन.

    ReplyDelete
  13. ह्म्म ..तो कृष्ण-निकेतन की बालिकाओं के दिल का अभी भी उतना ही खयाल रहता है आपको..ह्म्म!!
    खैर मौसमानुकूल पोस्ट..पढ़ कर लगता है कि दिल्ली मे बारिश कैसी टूट कर अंगड़ाइयाँ ले रही होगी..और किन-किन कलेजों मे सलवटें पड़ कर रह जाती होंगी..खैर हमारी भी खरोंचें हरी होती हैं...सावन है!!
    उम्मीद है मुहब्बत का फ़रिश्ता बरसती गलियों मे बरसाती पहन कर फ़ुल-टाइम ड्यूटी दे रहा होगा... ;-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …