Skip to main content

तोहफ़ा



कविता : समय की अदालत में

कवि :
अपूर्व शुक्ल



फरमाइश /आइडिया : कुश वैष्णव

तकनीकी सहयोग : पूजा उपाध्याय, कुश वैष्णव एवं प्रशान्त प्रियदर्शी

वोइस ओवर आर्टिस्ट : बाबला कोचर
(बबला कोचर दिल्ली के मशहूर एंकर/वोइस ओवर आर्टिस्ट हैं)


निर्देशन : सागर


साउंड रिकार्डिस्ट : चंकी


प्रस्तुति : सागर


नोट: कविता बिना पूछे/धमकाए ही ली गयी है. कवि अगर मुकदमा ठोकना चाहे तो स्वागत है.

Comments

  1. @ ओ समय! अपूर्व,
    विनम्रतावश छुप कर बैठे रहने के फिराक में ना रहें. कुछ कहें

    ReplyDelete
  2. kyaa bat hai ...........................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................................

    ReplyDelete
  3. सागर भाई , जो मुझे लगा सुनते हुए उसे कह रहा हूँ ..
    अपूर्व भाई कविता से पहले से ही परिचित हूँ .. इसकी श्रेष्ठता असंदिग्ध है ..
    पर ... ...
    यहाँ कविता का जो वाचन हुआ है , इसे सफल नहीं कहूंगा ..
    कविता का यह अतिनाटकीय वाचन है , जो कविता के साथ न्याय करता नहीं लगा , पढ़ते हुए 'वीर-जारा' फिलिम के 'कैदी नं. ७८६ ' के कविता-वाचन की याद बरबस आ बैठी , क्योंकि यहाँ शाहरुख खान जैसा ही अतिनाटकीय प्रयास/वाचन दिखा .. इससे कविता के व्यंग्यार्थ/व्यंजनार्थ-ग्रहण में बाधा आयी है ! .. मेरे हिसाब से एक सफल कवि की कविता का असफल निर्देशन हुआ है .. क्षमा चाहूँगा !! .. आभार !!

    ReplyDelete
  4. Tripathiji se sahmat hun...kavita ke alfaaz anupam hain.Ise seedhe saral tareeqese padha gaya hota to asar aur adhik hota. Please is sujhav ko anyatha na len.

    ReplyDelete
  5. उस समय दफ्तर से सुन नहीं सका.. अभी सुन रहा हूँ.. बढ़िया है.. :-)

    ReplyDelete
  6. बाबला कोचर की आवाज मुझे हमेशा ही अच्छी लगी है, वे एक अच्छे अभिनेता रहे पता नहीं क्यों छोड़ दिया अभिनय.
    यहाँ भी उनको सुन कर प्रसन्न हुआ.
    कवि अपूर्व शुक्ल की रचना अच्छे पुरस्कार के योग्य है.
    इसे बनाने में जिन लोगों ने मेहनत की है सभी बधाई के पात्र हैं. इसे मैं डाउनलोड करके अपने पीसी में सहेजना (छिनना) चाहता हूँ, प्यार से कोई तरीका बता दें तो ठीक वर्ना अंगुली टेढ़ी करनी होगी. :-)
    सच में यह रचना सभी के लिये सहेजने योग्य है.

    ReplyDelete
  7. बिना बताये साजिश?..कहाँ हैं कापीराइट वाले...नोटिस भेज रहा हूँ..वकील की फ़ीस का इंतजाम कर लो..छोड़ूँगा नही..
    खैर..जोक्स अपार्ट..क्या कहूँ..कृतज्ञ हूँ..आपका और जुड़े सभी लोगों का..एक साधारण व्यक्ति की सामान्य सी रचना जैसी कुछ को इतनी भावपूर्ण आत्मीयता देने के लिये...कवि होने का दम्भ तो नही भर सकता..बस इतना गर्व अवश्य कर सकता हूँ कि आभासी दुनिया मे कुछ विरल प्रतिभाशाली और सहृदय आत्मीय लोगों की संगति का सौभाग्य मि्ला है..
    ...बस भई ध्यान रहे वानर को खजूर पर चढ़ा देने की प्रतिभा है आपकी..मगर नीचे उतरने का मंत्र देने का काम भी आपका ही होगा... ;-)

    ReplyDelete
  8. @ अमरेन्द्र जी,
    जय हो. आप जैसे लोग ले जायेंगे हमें आगे, या यूँ कहें आप जैसों के सहारे ही होगा सही सृजन... दिल की बात आपने कह दी.. मैं ताक में था कि कोई ऐसी बात कहे और मैं अपनी स्वीकारोक्ति दूँ..... सच है निर्देशन कमजोर है पर यह समय की बाध्यता थी और यह पूर्णतः मेरे दिशा निर्देश पर नहीं हुआ है... चूँकि यह पहला अवसर था बबला जी ने इसे ड्रामाटिक अंदाज़ जान बूझ कर देने की कोशिश की क्योंकि यह एक होलसम कंफेसन था... बाबला चूँकि बहुत, बहुत ही अनुभवी एवं पारखी हैं (यहाँ तक कि साउंड निर्देशक ने भी इसे नाटकीय रूप देने का समर्थन किया ताकि यह ब्रोडकास्ट के लायक हो, सीधे-सपाट सरल रीडिंग तो कोई भी कर लेगा और उससे मनास पटल पर कोई गहरी छाप नहीं पड़ेगी) अतः मैंने इसमें कोई दखल नहीं दी... हाँ काम मेरे तहत संपन्न हुआ इसलिए निर्देशन में अपना नाम लिखा है.

    आपका इसमें क्षमा मांगने वाली बात का कोई तुक नहीं है... आभार तो आपका कि आपने जैसा महसूस किया वैसा कहा और मैं भी यहाँ वही बता रहा हूँ जो हुआ था...

    फिर भी हुई गलतियों कि जिम्मेदारी लेता हूँ जनाब... शुक्रिया.

    @ अपूर्व,

    सनद रहे, copyright से जुड़े सारे मामले दिल्ली न्यायिक क्षेत्र में ही सुलझाये जायेंगे :)

    ReplyDelete
  9. अपूर्व भाई आगे बढ़ो हम तुम्हारे साथ है..
    अमरेन्द्र भाई से सहमत हूँ.. दरअसल इस ऑडियो में बैकग्राउंड म्यूजिक डालने के बाद भी कोई फीलिंग तक नहीं ले जा पाया.. तब मैंने इसे सागर को बिना पार्श्व संगीत के ही पोस्ट करने के लिए कहा.. अपूर्व ये बात जानता है कि इस कविता का यह पहला ऑडियो नहीं इस से पहले मैं खुद अपनी आवाज़ में इसे रिकोर्ड कर चुका हूँ और दो ऑडियो अन्य लोगो के भी है मेरे पास पर कही से संतुष्टि ना मिलने पर मैंने अपूर्व को फोन किया और उस से उसी की आवाज़ में रेसाईट किया हुआ ऑडियो माँगा ताकि कविता के साथ न्याय हो सके.. पर अपूर्व साहब की व्यस्तता के चलते ये संभव हो नहीं पाया.. :)

    पर सागर ने एक आइडिया को कैरी किया और उसे एक्जिक्यूट किया इसके लिए हम उनके आभारी है.. और सागर के इस इनिशिएटिव के लिए प्रशंसा ज़रूर की जानी चाहिए..

    ReplyDelete
  10. सबसे पहले तो ब्लॉग के नाम ने और फिर इस प्रस्तुति ने आकर्षित किया...अब हम यहीं के हो कर रह गए हैं....आनंद आ गया इस प्रस्तुति पर...
    नीरज

    ReplyDelete
  11. bahut khub ...aaj ke liye itna hi fir aate hain aapke is blog par ..bahut kuch baaki hai abhi yahan par padhne ke liye ...

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …