Skip to main content

आँखें जैसे कि...


क्षितिज पर शाम का सूरज लाल हुआ जाता है और उसकी लालिमा इन आँखों में उतर आई है. उधर सूरज उतरता जाता है इधर पीने की ख्वाहिश जवां हुई जाती है... ये शराब मांगती लाल आँखें हैं. कई हलकों में कई रात से जागी हुई. इनमें बसे सपनों को गर दरकिनार कर दिया जाये तो एक हथेली नींद भरी है जो किसी भी वक्त पूरे बदन को अपने गिरफ्त में ले उसे दुनिया से पल भर में जुदा कर सकती है.


बुरी तरह से थके हुए इस जिस्म में थकान, टूटन, बुखार और दहशत एक साथ तारी है मानो पुलिस द्वारा रात भर दौड़ाया गया हो और अब जबकि थकान में चूर होकर शरीर ने जवाब दे दिया है तो ऐसे में कमर नीचे की ओर झुक आती है और दोनों हाथ बरबस घुटनों पर आसरा पाते हैं.

ये लाल-लाल आँखें मानो रम का रंग घुल आया हो इनमें और ऐसे में चेहरा ऐसा जैसे दो बरस बाद किसी अपमान को सोचते हुए लाल पपीते का जमीन पर गिरना, किसी हत्या का गवाह होना जैसे श्मशान में पिछली रात जल कर ख़ाक हुए शव की राख कुरेदते परछाई.

आँखें जैसे बदहवास पोरों से बुखार से तपते पलकों पर वर्जिश के बहाने रूह तलाशने की कोशिश, एक एकमुश्त मुहब्बत, जैसे बोरे में भर कर सील ली गई हो अमानत...

क्षमा करें श्रीमान,

            यह किसी माशूका की आँखें नहीं हैं, यह मुझ जैसे एक आवारे की मुसलसल चलती, दौड़ती, रेंगती, चढती (सकारात्मकता) और उतरती (निराशावादी, अवसादग्रस्त और हथियार डालती) कैमरे की मानिंद आँखें हैं जिसके पलकें झपकने की दर तेज है और इन दौरान उन दृश्यों को दिमाग में सेव कर लेने आदत है जो बरसों बाद आपको काउन्टर नम्बर्स के साथ पूरी लिस्ट दे सकने का माद्दा रखती है, ना यह बिजली से चलती है ना किसी बैटरी से. अपने चलने की वजेह ढूंढती यह आँखें प्रकाश डालकर रौशनी खोजती है.

इन आँखों से बातें ऑफ द रिकोर्ड होती हैं....

मदोन्मत्त आँखें कहती हैं :

ऐ खुदा ! हम संजीदगी से आवारागर्दी कर रहे हैं

Comments

  1. इन आँखों से बातें ऑफ द रिकोर्ड होती हैं....

    मदोन्मत्त आँखें कहती हैं :

    ‘ऐ खुदा ! हम संजीदगी से आवारागर्दी कर रहे हैं’
    Inheen aankhon kee sachhayi se dar ke to ham aankhen churate hain,jab pakde jane ka dar hota hai!
    Bahut sundar likha hai!

    ReplyDelete
  2. श्मशान में पिछली रात जल कर ख़ाक हुए शव की राख कुरेदते परछाई.

    हे खुदा, तुम संजीदगी से कईयों को परेशान कर रहे हो.

    ReplyDelete
  3. ये आवारागर्दी जारी रहे .यही दुआ करते है ..आमीन !

    ReplyDelete
  4. आँखें जैसे बदहवास पोरों से बुखार से तपते पलकों पर वर्जिश के बहाने रूह तलाशने की कोशिश, एक एकमुश्त मुहब्बत, जैसे बोरे में भर कर सील ली गई हो अमानत"

    - - - - यह पंग्क्ति रसीदी टिकट का एक खास प्रसंग पढ़ते हुए ज़ेहन में आई थी, सोचा सांझा कर लूँ

    ReplyDelete
  5. अच्छी डूब के किताबे पढ़ते है पता चलता है..अभी कितनी बंद किताबे पड़ी होंगी...:)

    कई घटनाएँ जब घट रही होती है
    अभी अभी लगे ज़खमों सी
    तब उनकी कोई कसक अक्षरों में उतर जाती है...(रसीदी टिकट)

    ReplyDelete
  6. चढ़ती को सकारात्मक ही पढ़ रहे है.. सबको अपने जैसा समझ लेते हो बांगड़ू.. ??
    लग रहा है नीरो बंशी बजा रहा है..

    ReplyDelete
  7. अभी जब तुम मेट्रो पे सवार हो रहे थे, बड़ा मन किया कि तुम्हारे साथ हो लूँ इस सुलगी विल्स क्लासिक और ओल्ड मौंक के साथ ही...शायद इन "मदोन्मत आँखों" का हलफ़िया बयान रूबरू सुन पाता।

    रसीदी टिकट का जिक्र कर तुमने जैसे मुझे पिछले जनम में पहुँचा दिया...उस जनम में जब मैं बड़ा होकर अमृता प्रितम से शादी करना चाहता था... :-)

    कुछ बिम्ब इन आँखों के जहाँ चौंकाते हैं, वहीं कुछ बिम्ब अपने अटपटेपन का भी अहसास दिलाते हैं....जैसे "दो बरस बाद किसी अपमान को सोचते हुए लाल पपीते का जमीन पर गिरना"।

    जा रहा हूँ, तेरी कवितायें पढ़ने।

    ReplyDelete
  8. कहीं कोई होगी जो इन निराशावादी, अवसादग्रस्त और हथियार डालती आँखों को चूमकर कहेगी की ये दुनिया की सबसे प्यारी आँखें हैं...

    ReplyDelete
  9. कुश ने अच्छा नाम दिया है तुम्हें 'बांगडू', तुम्हारी आवारगी जिंदाबाद. बहुत थक गए हो...थोड़ा सो लो...कुछ हसीन सपने आयेंगे... और आखिर में पंकज के ये शब्द...
    "कहीं कोई होगी जो इन निराशावादी, अवसादग्रस्त और हथियार डालती आँखों को चूमकर कहेगी की ये दुनिया की सबसे प्यारी आँखें हैं..."

    ReplyDelete
  10. .यह आप जैसे कि नही............ आपकी ही आंखे है सागर जी।
    बहुत खूब लिखा है आप्ने
    सत्य

    ReplyDelete
  11. ऐसी संजीदगी पर हैरान हूँ.

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …