Skip to main content

यहीं, रत्ती भर की दूरी पर...


सारे अरमान और सपने दिल में समेट कर एक सांस में उसे बाहर लंबी ठंढी आह भर कर बाहर फैक दिया, बाहर पैंतालीस डिग्री के कोण से अन्धकार बरस रहा है. इस कोण पर तो इंसान का अभिमान भरा गर्दन होता है...

रत्ती भर का फासला है उस तरफ ... बस खेल खत्म ही समझो, बला से मुक्ति, उधेड़बुन से निजात पर क्या यह मोड इतिहास का बड़ा बदन मोड होगा? क्या इसे पढते वक्त कोई पाठक यह पन्ना मोड कर रखेगा? कोई पेंच, गुलाब, रेशमी धागा या मार्कर को बरतेगा ?

उस पार कितनी शांति है, बीच में थोडा सा गंदला पानी जरूर है जैसे बरसात में खोली और गली के बीच में होता है पर जब पार करने के लिए ईंटों पर पैर रखते थे तो उम्मीद होती कि तर गए लेकिन याद है कैसे वो भीतर से खोखली हुआ करती और पाँव बीच पानी में उलट जाते... एक छपाके से डूब जाते, पूरी सांस फिजा में निकल जाती, गर्दन तक डूब जाते मनो दिल डूब गया हो... और हर बार एड़ियों में मोच रह जाती.

उदासी के हसीन टुकड़ा सामने दिखा, वक्त हमको कुत्ते की तरह ललचाता है उसको उछल कर लाख पकड़ना  चाहते हैं, हाथ नहीं आता. आज जब सारी आकृति ने मुझसे संतोष कर लिया है तो यूँ निकम्मा मरते अच्छा नहीं लग रहा.

जाने कैसी मनहूस घडी है, काकी के पेंशन के पैसे खतम हो गए और दादी के अचरे में बीड़ी भी नहीं हैं पर मेरे जैसे मतलबी आदमी के पास दारु रहते हुए भी इसकी घूंट कसैली लग रही है...

कभी ऐसा भी होता कि मरीज को तसल्ली हो जाती कि सामने वाले ने उसका मौजूदा हालात और हालत दोनों समझा है. काश हर बार उफुक देख कर प्यार से इतना कहते री सखी, तेरे राज़ मैं जानता हूँ, देख मेरे मुख पर कैसी भावुक सी प्रसन्नता है, यह हंसी में नहीं बदलती है, बस इसकी चमक आँखों में झलकती है

ज़िन्दगी भी तो एक सिनेमा है इसकी स्क्रिप्ट भले ही कमजोर हो पर कुदरत ने प्रकाश व्यवस्था अच्छी कर रखी है. उसको उठाने में, जीने में, बरतने में...

राजेश बाबू पनीली आँखें लिए मुस्कुराते हैं... जैसे सब जानते थे. रूह का एक-एक सिरा पकड़ कर बुनकर के माफिक बड़ी कुशलता से सुलझाते थे...


Comments

  1. उपरवाला बहुत खराब डाइरेक्टर है यार...उसको समझ ही नहीं आता कब सुख के पल होने चाहिए कब दुःख के...अच्छी फिल्म है पर उस फिल्म को जीना उतना ही मुश्किल.

    तुमने अपनी मारक शैली मे लिखी है...जगजीत सिंह को सुन रही हूँ तुम्हें एक बार पढ़ चुकी हूँ...ओ कवि.

    लिखने की बहुत इच्छा है...आज बस इतना ही, बाकी फिर पढूंगी तो लिखूंगी.

    ReplyDelete
  2. "क्या इसे पढते वक्त कोई पाठक यह पन्ना मोड कर रखेगा?"
    बेटा, सब समझ रहे हैं.. तुम्हारा मोबाइल गया तो चाहते हो सभी मोड़ने के चक्कर में अपना कम्प्युटर तोड़ लें.. :)

    ReplyDelete
  3. pd bhai, ishq mushq me sunte hain log phone number udaane ka program banate hain, sagar wali to anokhi honi hi thi...phone hi gayab kar liya ;)

    ReplyDelete
  4. एक छपाके से डूब जाते, पूरी सांस फिजा में निकल जाती, गर्दन तक डूब जाते मनो दिल डूब गया हो... और हर बार एड़ियों में मोच रह जाती...

    One of the best quote of Sochalay..

    ReplyDelete
  5. कसम से तुम्हारे भीतर अभी बहुत कुछ ओरिजनल बचा पड़ा है .उलीचने को .....कभी कभी सोच में पड़ जाता हूँ के ज्यादा हिलने डुलने से साला छलक भी जाता होगा ....मार्के का लिखा है ....बढ़िया पोस्ट कहना इन्सल्ट हो जाएगा ......
    ओर हाँ

    करेक्शन मी लोर्ड.....राजेश बाबू नहीं ..ऋषिकेश दा! ....

    ReplyDelete
  6. master piece !
    next......:)
    @PD: तुम्हारा मोबाइल गया तो चाहते हो सभी मोड़ने के चक्कर में अपना कम्प्युटर तोड़ लें..मुझे भी ऐसा ही लगता है. :)

    ReplyDelete
  7. ज़िन्दगी भी तो एक सिनेमा है,नहीं ऐसा तो नहीं है इतना नाटकीय भी नहीं है जिन्दगी .....इसकी स्क्रिप्ट भले ही कमजोर हो पर इतनी भी kamjor नहीं है ki hum use sambhal na saken..

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …