Skip to main content

लाईटर



पैकेट खुला रखने की आदत से सारे सिगरेट में बरसाती हवा लग गई है. कई बार तो उसे जलाने में तीली को आधे रास्ते तक सफर तय करना पड़ता है. पहले ऐसा नहीं था एक भरम भर होता था कि तीली सुलगाई है. सिगरेट के पास ले जाते ही सिगरेट जल उठती

ज़िन्दगी, सुनसान जगह पर किसी पठानी औरत के साथ ठहरी लगती है. वो कसाई जैसी आँखों से मुस्कुराती हुई देख रही है.

बत्तीस इंच कंप्यूटर स्क्रीन पर यू ट्यूब में वृहत फलक लिए उदासी भरा गीत सुन रहा हूँ. फिलहाल गीत चल रहा है पर दृश्य रुक गया है.

मस्तिष्क की स्मृति में कई गैर जरुरी वायलिन का नोट्स छूट रहा है .. मुझसे बाहर कितनी लहरें है जिसके भिगोने का कोई टाइम टेबल नहीं है. बदन सूखते ही बौछारें अपने गिरफ्त में ले फिर से जगा जाती है

थोड़ी नींद, थोड़ी खुमारी, आधी बंद लाल आखें और बायीं बाजू पर औंधे पड़ी जांनिसार अख्तर की किताब.  कितनों कि ज़िन्दगी में हमारा अपना अक्स है लेकिन हम नहीं जान पाते कि इस बिनाह पर हमारा क्या होना है... उम्म्म्म.... किसे लिख सकते हैं हम ना होंगे तो हमको बहुत याद करोगे ?


और अंत में :

रोज कितने ही लड़के इस शहर में आते हैं और जाने कैसे उन दिनों बसर करते हैं, किसी के पास पैसे की कमी, तो किसी के पास काम की, कोई घर की याद से बेहाल तो किसी पर कई सपनों का धुन, विज्ञापनों का शोर और रफ़्तार भरी गाडियां... लेकिन वो हिम्मत ना हारे

उस दुर्लभ क्षण में जब आवाज़ दर्द की टीस से लरजता, झुकता होता है और प्रेम या विरह की हिलोरें कचोट मारती हैं उसका ऐसा कॉल हैरानी से भर गया

(कल रात प्रोग्राम के लगभग अंत में एक बजकर एक्वावन मिनट पर का काल )

...  शुक्रिया लड़की (कुछ और दिन उम्मीद जलाने के लिए)

लाईटर जलती है, सुलगाती है. जलाती है.

Comments

  1. तुम्हारी हिंदी की लिखावट कई बार परेशान करती है /(कुछ अशुद्धियाँ),

    लेख काबिले तारीफ है ।

    ReplyDelete
  2. रोज कितने ही लड़के इस शहर में आते हैं और जाने कैसे उन दिनों बसर करते हैं.....
    bahut se aate hain kabhi koi jane ke liye aata hai to koi jane ke liye...likn unke sath kuch yaaden bhi aati hain jo na to kahin aati hai na hi jati hain...bus unke sath ghun ki tarah chipki rah jati hain........

    ReplyDelete
  3. वैधानिक चेतावनी: धूमपान स्वास्थ्य के लिए हानिकारक है... इसे बढ़ावा देना एक सामाजिक अपराध है...
    ज्यादा सोचना भी स्वास्थ्य के लिए ठीक नहीं है. स्वास्थ्य बड़ी नेमत है, इसे संभालकर रखिये.
    "इ लईकिया कौन है हो???"
    चलो अच्छा मत बताओ...
    ये बताओ कि और कौन-कौन सी बुरी आदतें हैं तुममें:-)
    नॉट: इस टिप्पणी को सीरियसली मत लेना. आज ज़रा 'लाइटर' मूड में हूँ:-)

    ReplyDelete
  4. रश्क हो यार ऐसी लड़की से जिसमें उम्मीद को जलाये रखने का माद्दा है!

    पोस्ट तुम्हारी स्पष्ट छाप लिए हुए है. लगता है जैसे जिंदगी का पोस्टमार्टम किया हो.

    ReplyDelete
  5. bhaut inspirational hai..inko padh kar na jane maine kitne sari poems likhee hai...
    sochalay rocks


    antaswork.blogspot.com


    sari articles mai tumhare jaisa style hai..
    thankyou

    ReplyDelete
  6. ज़िन्दगी, सुनसान जगह पर किसी पठानी औरत के साथ ठहरी लगती है. वो कसाई जैसी आँखों से मुस्कुराती हुई देख रही है.

    पता नही जिंदगी हमेशा ऐसी जगह पर सबसे ज्यादा क्यों पायी जाती है..जहाँ उसके होने की सबसे कम उम्मीद हमें होती है..खैर एक प्यार का नग़मा है..मौजों की रवानी है..जिंदगी यूं ही अनगिन कमियों तले शहर मे बसर करते ऐसे कितने लड़कों की कहानी है..
    लड़की के दिल का साइज जरूर कम-स-कम एशिया के बराबर का होगा..उसे भी सलाम!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ