Skip to main content

सागर रिपोर्टिंग, सर !




 रात के बारह बज चुके हैं. सारी ख़बरें कल में तब्दील हो चुकी हैं. न्यूज़ रूम में सोनी ब्राविया के  पूर्ण फ्लैट 9 टी.वी. लगे हुए हैं. सभी चैनल एक साथ किकिया रहे हैं. न्यूज़ का फास्ट ट्रैक शेड्यूल चल रहा है. 10 मिनट में 20 बड़ी ख़बरों का विज्ञापन है. ऐसे में दूरदर्शन सपाट खबर दिखा कर सबसे अलग प्रतीत हो रहा है. पिछले कई दिनों से किसी चैनल पर किसी गाँव की खबर नहीं देखी. हम शायद अब टी. वी. पर गाँव की रिपोर्टिंग देखना भी नहीं चाहते. शायद क्या, पक्का नहीं चाहते. पंचायत, परधानी यह सब दूर की बात हो गयी है. हमें अब फिल्में देखते वक्त गरीबी भी अच्छी नहीं लगती.


कलर्ज़ पर बिग बॉस आ रहा है. यह घर देख कर लग रहा है की हिंदुस्तान ऐसा ही चमचमाता होगा. काश मेरे पास अच्छा कैमरा होता तो दिखता की नेशनल स्टेडियम के सामने रात को मजदूर कैसे दुष्यंत कुमार की "नहीं चादर तो पैर से पेट ढक लेंगे" वाली लाइन सिध्ध करते हैं. इस लाईफ स्टायल को सभी जीना चाहते हैं. लोगों की दिलचस्पी गोसिप में किस कदर बढ़ी हुई है. मेरे सामने वाले डेस्क पर के सहयोगी मेरी हालचाल नहीं लेते लेकिन ऑस्ट्रेलिया पर विशेषज्ञता उनको न्यूज़ रूम में विशिष्ट बनाती है.  एक हमारे सिनिअर एडिटर हैं उनपर एक प्रोग्राम लोकसभा चैनल पर आ रहा है. मुझे हंस में उनकी एक बहोत वाहियात कहानी याद आती है. कहानी क्या थी थोड़ी सी बस पत्रकारिता की झलक थी. कोमन वेल्थ गेम ने कई और ख़बरों की जगह ले ली है. कागजों की बर्बादी अगर किसी को देखना हो तो न्यूज़ रूम आये. इनके बाप की जाती तो समझतेमेरी आत्मा कटती है.

मैंने सामजिक सरोकार से जुडी एक खबर बड़े तबियत से बनायीं है. आखिरी गत्ते पर लग कर बुलेटिन के लिए वो जा तो रहा है पर हर बार लौट का वापस आ जा रहा है. आखिरकार जाने क्या सोच कर मैंने उस खबर को खुद के अक्स से जोड़ लिया है. उसका बार बार बिना पढ़े लौटना मुझे अपने खाली हाथ लौटना जैसा लग रहा है. अमृता प्रीतम ने शायद कुछ ऐसा ही सोच कर अपने किताब का नाम रसीदी टिकट रखा होगा.

मैंने अपनी एक पुरानी प्रेमिका को खबर कर उसका नाम एफ़ एम पर अनाउंस करवा दिया है. उसके नाम से समर्पित एक गीत "तेरे बिना बेसुवादी- बेसुवादी रतिया" चल उठा है. वो बहुत खुश है. अपने पति की बाहों में लेटी हुई इस वक्त वो एक पल तो मेरे बारे में सोची ही होगी.  शायद इससे ज्यादा मैं उसे कुछ दे भी नहीं सकता था. अपनी - अपनी औकात है प्यारे... 

बुलेटिन के बाद बालकनी में सिगरेट पीना सबसे अच्छा अनुभव है.  पांचवे मंजिल से कनाट प्लेस, राष्ट्रपति भवन, संसद भवन, योजना भवन, पी टी आई और कई मंत्रालयों को आधी रात के आगोश में देखना रूमानी अनुभव है. दिल्ली की सड़कें खाली हैं.  दिन में यही मंत्रालय भ्रष्टाचार का अभेद किला लगता है. जेब में पैसे हो और धक्के ना खाने पड़े तो दिल्ली वाकई एक खुबसूरत शहर है.

बंगला साहिब पर रात के ढाई बजे चाय पीना भी खुद के लिए एक सुखद एहसास है. दुधिया रौशनी में सफ़ेद संगमरमर ताजमहल सा लग रहा है.  सामूहिक प्रार्थना गूंज रही है:

" सहस्यनान पालक वोहे ता एक्क ना चल्ले नाल  
किव सचियारा होइए किव पूरे टुट्टे पाल  
हुकुम रचाई चलनां, नानक लिख्या नाल "

अभी कुछ महीनो में ठंढ शुरू हो जायेगी. पिछले साल दिसंबर की हड्डियाँ जमा देने वाली सर्दी में आधी रात को ड्यूटी के बाद दफ्तर की गाडी ठुकराकर अपनी मस्ती में लारी में हवा खाते वक़्त वापस आने में एक ख्याल आया था .. इसी तरह रोज़ के लिए जैक भी  अटलांटिक महासागर में गल गया होगा मगर मैं किस चीज़ के लिए गल रहा हूँ ?

इस वक्त मैं वहीँ खड़ा हूँ जहाँ रंग दे बसंती की शूटिंग हुई थी. और यही तस्वीर फिल्म में दिखाई गयी है. इधर स्टूडियो में फेडर दे दी गयी है : यह आकाशवाणी है, अब आप आशा निवेदी से समाचार सुनिए ...

कुछ घंटे में सुबह हो जायेगी और हर इमारत पर सूरज के साथ तिरंगा खिल उठेगा.

Comments

  1. तुम्हारी इस पोस्ट ने दिल को बहुत गहरे तक स्पर्श किया है बन्धु....तुम्हारे ब्लॉग पर पढ़ी गयी दिलकश पोस्टों में से एक

    ReplyDelete
  2. night सिफ्ट मेरे कुछ कुछ जागने जैसा और कुछ कुछ खोने जैसा रहा है...जब निकलते हैं तो थके हारे घर की याद सताती है तो कभी कोई चेहरा ही याद आता है...अक्सर मैं भी पैदल निकला हूँ अकेले घर को ऑफिस से......

    ReplyDelete
  3. "...उसका बार बार बिना पढ़े लौटना मुझे अपने खाली हाथ लौटना जैसा लग रहा है. अमृता प्रीतम ने शायद कुछ ऐसा ही सोच कर अपने किताब का नाम रसीदी टिकट रखा होगा."
    "...जेब में पैसे हो और धक्के ना खाने पड़े तो दिल्ली वाकई एक खुबसूरत शहर है."
    ...
    और कुछ नहीं कहूँगी सागर, पर तुम कभी-कभी इतना दुखी क्यों कर देते हो? क्यों शब्दों के नश्तर दिल में इतने भीतर तक बेध देते हो कि वो छलनी ही हो जाए...
    वैसे ही ज़िंदगी में दुःख कम हैं क्या?

    ReplyDelete
  4. ओह! उतर गई लेखनी सीधे भीतर तक...

    ReplyDelete
  5. तुम्हारी बेहतरीन और जेनुइन राइटिंग का नमूना है..खैर रातें होती ही ऐसी हैं...गुड वर्क! :-)

    ReplyDelete
  6. Behtareen ....seedhe dil mein utar gayi......gud job.....aisi hi dil ko chhuti poste likha karo......

    ReplyDelete
  7. दुष्यंत की ही दो और पंक्तियाँ याद आती हैं.
    उफ़ नहीं की उजड़ गए
    लोग सचमुच गरीब हैं
    ---------
    जेब में पैसे हो और धक्के ना खाने पड़े तो दिल्ली वाकई एक खुबसूरत शहर है. - ये पंक्ति कहीं गहरे चोट करती है. वैसे देखो खूबसूरती देखने के लिए जरूरी है कि पैसे हों, थोड़ा बहुत ही सही...वर्ना किसी को खूबसूरत चाँद, किसी को रोटी का टुकड़ा नज़र आता है.
    कोई भी शहर खूबसूरत लगने की दो शर्तें हैं...दो में से एक भी पूरा हो तो शहर खूबसूरत लग सकता है...प्यार हो, या फिर पैसे हों.

    दिल्ली का सच्चा चित्र...सागर की नज़र से.

    ReplyDelete
  8. वाह !! बेहतरीन रिपोर्टिंग... सच्ची पत्रकारिता... पर अफ़सोस कि ऐसी तबियत से लिखी हुई रिपोर्ट्स अक्सर बुलेटिन से बिना पढ़े बैरंग ही लौट आती हैं... क्यूँकि जैसा आपने कहा लोग ऐसी ख़बरें शायद देखना-सुनना ही नहीं चाहते... "शायद क्या, पक्का नहीं चाहते"...

    दुष्यंत कुमार की बात चल रही है तो उनकी कुछ पंक्तियाँ हमें भी याद आ गयीं...

    मेरी प्रगति या अगति का
    यह मापदण्ड बदलो तुम,
    जुए के पत्ते सा
    मैं अभी अनिश्चित हूँ ।
    मुझ पर हर ओर से चोटें पड़ रही हैं,
    कोपलें उग रही हैं,
    पत्तियाँ झड़ रही हैं,
    मैं नया बनने के लिए खराद पर चढ़ रहा हूँ,
    लड़ता हुआ
    नयी राह गढ़ता हुआ आगे बढ़ रहा हूँ ।

    ReplyDelete
  9. नौटंकी साला...!!!!

    ReplyDelete
  10. हम शायद अब टी. वी. पर गाँव की रिपोर्टिंग देखना भी नहीं चाहते. शायद क्या, पक्का नहीं चाहते. पंचायत, परधानी यह सब दूर की बात हो गयी है. हमें अब फिल्में देखते वक्त गरीबी भी अच्छी नहीं लगती.

    घावों पर नश्तर चला दिया है आपने....गहरे उतरी ये रिपोर्टिंग.

    ReplyDelete
  11. इस छोटी सी पोस्ट में मानो ज़िन्दगी का चक्र अपना एक वृत्त पूरा कर लेता है.आपकी बेहतरीन रचना..

    ReplyDelete
  12. तुम्हे पढते-पढते झटके लगते हैं !

    ReplyDelete
  13. आज के दौर का इन्सां वहां होता है जहाँ नहीं होता.

    ReplyDelete
  14. सागर की गहराई का अंदाजा आज महसूस हुआ ,बहुत अच्छा लगा लगे रहो पत्रकारिता की दुनिया का एक करवा सच यह भी है,ब्लांग का उपयोग करो मन शांत रहेगा। वैसे तुम्हारा मोबाईल लगातार बंद बता रहा है पिछले कई माह से बात नही हो पा रही है।

    ReplyDelete
  15. आँखों के सामने बहती हुयी एक पटकथा। बहुत ही सुन्दर।

    ReplyDelete
  16. दूर खड़े होकर स्वयम को कितने नजदीक से देखने में समर्थ हो!!

    ReplyDelete
  17. लेखन के लिये “उम्र कैदी” की ओर से शुभकामनाएँ।

    जीवन तो इंसान ही नहीं, बल्कि सभी जीव जीते हैं, लेकिन इस समाज में व्याप्त भ्रष्टाचार, मनमानी और भेदभावपूर्ण व्यवस्था के चलते कुछ लोगों के लिये मानव जीवन ही अभिशाप बन जाता है। अपना घर जेल से भी बुरी जगह बन जाता है। जिसके चलते अनेक लोग मजबूर होकर अपराधी भी बन जाते है। मैंने ऐसे लोगों को अपराधी बनते देखा है। मैंने अपराधी नहीं बनने का मार्ग चुना। मेरा निर्णय कितना सही या गलत था, ये तो पाठकों को तय करना है, लेकिन जो कुछ मैं पिछले तीन दशक से आज तक झेलता रहा हूँ, सह रहा हूँ और सहते रहने को विवश हूँ। उसके लिए कौन जिम्मेदार है? यह आप अर्थात समाज को तय करना है!

    मैं यह जरूर जनता हूँ कि जब तक मुझ जैसे परिस्थितियों में फंसे समस्याग्रस्त लोगों को समाज के लोग अपने हाल पर छोडकर आगे बढते जायेंगे, समाज के हालात लगातार बिगडते ही जायेंगे। बल्कि हालात बिगडते जाने का यह भी एक बडा कारण है।

    भगवान ना करे, लेकिन कल को आप या आपका कोई भी इस प्रकार के षडयन्त्र का कभी भी शिकार हो सकता है!

    अत: यदि आपके पास केवल कुछ मिनट का समय हो तो कृपया मुझ "उम्र-कैदी" का निम्न ब्लॉग पढने का कष्ट करें हो सकता है कि आपके अनुभवों/विचारों से मुझे कोई दिशा मिल जाये या मेरा जीवन संघर्ष आपके या अन्य किसी के काम आ जाये! लेकिन मुझे दया या रहम या दिखावटी सहानुभूति की जरूरत नहीं है।

    थोड़े से ज्ञान के आधार पर, यह ब्लॉग मैं खुद लिख रहा हूँ, इसे और अच्छा बनाने के लिए तथा अधिकतम पाठकों तक पहुँचाने के लिए तकनीकी जानकारी प्रदान करने वालों का आभारी रहूँगा।

    http://umraquaidi.blogspot.com/

    उक्त ब्लॉग पर आपकी एक सार्थक व मार्गदर्शक टिप्पणी की उम्मीद के साथ-आपका शुभचिन्तक
    “उम्र कैदी”

    ReplyDelete
  18. बड़ी देर से ’सोचालय’ में बैठा ’सोच’ कर रहा हूँ....घूमता-फिरता इस पोस्ट पर तनिक ठिठक कर रह गया, सोचा तुम्हे बताता चलूँ।

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …