Skip to main content

जलता और पकाता चूल्हा



(विंध्यवासिनी मंदिर के ऊपर एक छज्जे पर बैठे दो कबूतरों की बातचीत (एक नर, एक मादा)  ज्ञातव्य हो की दर्शन की बेला है और दोनों बातचीत में बार-बार अपने चोंच और नज़र को सीढ़ियों पर चढ़ते लोग की तरह इशारा कर रहे हैं )

एक घर होता है जहाँ तुम पैदा होकर बड़े होते हो. कुछ रिश्तेदारों के बीच एक और किरदार दिखता है जिसका आम सा संबोधन नहीं होता या घिसे हुए संबोधन होने के बावजूद वो खून का रिश्ता नहीं होता. पर उस किरदार का पूरे परिवार में और लिए जाने वालों फैसलों में पूरा दखल रहता है. तुम्हारे  पिता के बाद वे मुखिया का स्थान ले लेते हैं. तुम बड़े होने तक नहीं जान पाते कि यह आखिर हैं कौन... पहले तो सिखाया जाता है कि इस किरदार को यह पुकारो, पर जब अक्ल खुलती है फिर पड़ताल करने पर यह पता चलता है कि इसका हमारे खानदान के खून से कोई रिश्ता नहीं .. यह एक अपरिभाषित रिश्ता है, एक अनाम सा जिसे तुम बुआ, ताई, जिज्जी, काकी या फिर नाम से ही बुलाते रहे हो. यह किरदार घर की भलाई के बारे में तुम्हारे पिता (अगर जिम्मेदार हुए तो ) से कम नहीं सोचता. ऐसा होने के कारण कई रहे होंगे और अब चूँकि वो अपनी जवानी खो चुकी है और सारे बदनामियाँ और जालालत उस उम्र में दोनों ने अपने सर माथे ले चुके हैं और पूरा परिवार इसका अभ्यस्त  हो चुका है तो हम भी सोचना छोड़ इस रिश्ते को वैसा ही अपना लेते हैं जैसा सब मान चुका है. फिर कोई खोट भी नहीं दिखती क्यूंकि ना उसके बच्चे हैं और सारा प्यार तुम पर उसके द्वारा उडेला जा चुका है सो कोई संदेह नहीं बनता. जिससे पिता शादी नहीं कर सकते थे लेकिन उसे छोड़ भी नहीं सकते थे, वो दंगे में मिली होगी, वो मर रही होगी, उसने तुम्हारे पिता को कुछ ऐसे प्रोपोज किया होगा कि वो इनकार नहीं कर सके होंगे, कुछ कसम होगा, कोई रसम होगा कुछ नहीं तो इंसानियत होगा.

-आह इंसानियत (आज के सन्दर्भ से उठ कर बोलें) कितना गर्म शब्द है ! इस सर्दी में ठिठुरन का एहसास देता हुआ

- तुमने ठीक समझा ठिठुरन तभी होता है जब थोड़ी गर्माहट लगनी शुरू होती है.

(कबूतरी अचानक थोड़ी मोटी हुई जाती है, लगता है किसी ने हाथ से उसके सारे पंख उलटे कर दिए हों)

- ओह तुम्हारे फर रजाई जैसे हो गए हैं, लगता है रोंगटे खड़े हैं 

- ह्म्म्म... अभी ठीक हुआ जाता है 

- इसका एक इशारा और भी है कि तुम्हारी खून अब तक गर्म है और तुम जवान हो 

- उफ्फ़ जवानी ! यह तो और भी गर्म शब्द है  

- कितना गर्म ?

- तुम्हारे उफ्फ़ में मौजूद ठंढेपन कि तासीर जैसा गर्म ... 

- गर्म ! गर्म भी कितना गर्म होता है, मिजाज़ का गर्म होना जैसे मैं... बदन का गर्म होना जैसे तुम, 

- उफ्फ्फ... 

- इस जवाब में वजह वाली गर्माहट थी. 

- तुम्हें कुछ हुआ ?

- हाँ मेरा दिल धड़का. 

- तो समझो तुम भी जवान हो.

- मेरे जीवन में तुम भी वही किरदार हो, अपनाई हुई पर अलग, अलग और साथ-साथ, साथ साथ और दूर दूर, दूर-दूर और करीब, करीब लेकिन शारीरिक सम्बन्ध की निषेध आज्ञा के फरमान के घेरे में

- हाँ, अपरिभाषित, एक मौन समझौता... मौन, शांति, चुप्पी, शरद चांदनी की रात में बर्फ के उजले फाहों जैसा, नीरव शांति में टूटता पत्ता जैसा. धूप का ज़मीन को छूने जैसा, रूई का वातावरण में विलीन हो जाने जैसा.  

-  देखो ज़रा, शोर मचाते हुए लोग कहाँ -कहाँ नहीं जाते. 

(दोनों नीचे देखते हैं फिर एक दुसरे से नज़रें मिला कर तसबीहें फेरने लगते हैं )

Comments

  1. सोलह आने सच बात, भले ही कबूतरों ने कही हो. तुम्हारी तारीफ़ क्या की जाय. तुम सच में रिश्तों के कितने करीब जाकर देख लेते हो. सच में क्या दूसरों के घर में झाँकने की आदत है ?
    इस पोस्ट में कई वैयाकरणिक त्रुटियाँ हैं, जैसे इस लाइन में "ऐसा होने के कारण कई रहे होंगे और अब चूँकि वो अपनी जवानी खो चुकी है और सारे बदनामियाँ और जालालत उस उम्र में दोनों ने अपने सर माथे ले चुके हैं और पूरा परिवार इसका अभ्यस्त हो चुका है तो हम भी सोचना छोड़ इस रिश्ते को वैसा ही अपना लेते हैं जैसा सब मान चुका है" "सारे बदनामियाँ" का जगह "सारी" होना चाहिए था, जालालत सही है या जलालत, "दोनों ने" के साथ "ले चुके हैं" का प्रयोग सही नहीं है, इसमें से "ने" हटा दें, तो अच्छा हो. आखिर में "जैसा सब मान चुका है" नहीं "चुके हैं" होना चाहिए.
    चलो अच्छा, चलेगा. अब कबूतरों की हिन्दी में थोड़ी बहुत कमियां तो हो सकती हैं ना :-)

    ReplyDelete
  2. सागर जी बिलकुल सही कहा.

    ReplyDelete
  3. कबूतरों ने सारी समझदारी अपहृत कर ली है, मानवता से।

    ReplyDelete
  4. @ मुक्ति,
    शुक्रिया, आपका यह सच ऊपर लिखे गए सच के सम्बन्ध में कहे जाने का एक एक्सटेंशन है. सोचालय पर अमूमन पोस्ट नशे में लिखी जाती है. आज सुबह मैंने जब खुद इसे फिर से पढ़ा तो ब्लंडर गलतियाँ दिख रही हैं. लेकिन पोस्ट करते समय अगर मैं फिर से पढ़ लूँ तो खुद को कन्विंस नहीं कर पाता हूँ की यह कहने लायक कोई बात है, (ऐसे में साल लग जायेंगे मुझे एक पोस्ट कहने में)

    "व्याकरणिक गलती" यह पहली बार नहीं है लेकिन मुझे लगता है कि ब्लॉग पर पढ़ते समय आप परोसे गए बात को पढने कि मनः इस्थिति बना लेते हैं. आप जो पढना चाहते हैं वो निकाल ही लेते हैं जैसे आपने निकाला या फिर मुझे प्रूफ रीडर की जरुरत है.

    अब सुधार भी नहीं सकता फिर आपके कमेन्ट का मतलब ख़त्म हो जाएगा सो आपका ह्रदय के अंतिम छोर से भी धन्यवाद!

    ReplyDelete
  5. ओये-होये...इत्ते रोमांटिक कबूतर!!:-)
    और फिर
    "- हाँ मेरा दिल धड़का.
    - तो समझो तुम भी जवान हो."

    ..भई दिल तो हमारा भी धड़का..पढ़-पढ़ कर!! :-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …