Skip to main content

धूप निकली है मुद्दतों के बाद, गीले ज़ज्बे सुखा रहे हैं हम




कभी उससे पूछना कि वो कितना अकेला होता होगा जब तुम उसे छत पर कड़ी धूप में सूखने छोड़ आते होगे। वो सूती साड़ी जो तुम्हारे बदन से लगकर अपने पोर पोर में तुम्हारे होने को अपने में समेट लेता है। कभी उससे पूछना कि वो जब दोपहर के ढ़ाई बजे छत पर कड़कड़ाता है तो कैसी तनहाई घेरती है उसे कि दिखाने के लिए झूलता रहता है। 

आज तुमसे देर तक बात करके देर तक उदास रहे। ऐसी उदासी बरसों से नहीं आई थी। जो आई थी इस दौरान तो वो नौकरी, करियर, आटे दाल की कमी की उदासी थी। तुम्हारे छूने की उदासी नहीं थी। साथ जिंदगी गुजारने की बात यों थी कि बगैर जिंदगी गुजारना। साथ जिंदगी गुजारना महज़ एक हसीन बात थी। अपने आप में खूबसूरत ख्याल और हकीकत उदासी लिए हुए। कितना अजीब होता है कि हम अपने अतीत पर हैरां होते हैं और कई चीज उम्र बीत जाने के बाद मिलती है। भरी जवानी समंदर किनारे घूमने निकले और कुछ न मिला और एक दिन जब फेफड़े में हवा ना रहा ना ही गले में ताकत तो गीले रेत संग पानी में शंख से पैर टकराता है। हम उठाकर देखते हैं, अपने बालों को इधर उधर झटका देते हुए जांच परख करते हैं और फिर यह अधिक से अधिक ड्रांइग रूम में सहेजने के लायक नज़र आता है। तुम्हारा मिलना दूर के डाल के पंख फड़फड़ाता पंछी जैसा था। जो प्यार चाहा था वो मिलने के बाद भी... 

मार्च के इस मौसम में जब गुलाबी से ठंड में (जब तुम बालकनी में अपनी गोरी नंगी बाहों को इस ठंड के बाइस सहलाते हुए आती हो) रातों को उजास चांदनी फैली रहती है, चांद के दाग ज्यादा गहरे दिखते हैं और वो झीनी सी उसी तन्हा सूती साड़ी के पार खिलता है, चांद को नीले काले कैनवास पर कोई बनाता है और उसपर हल्के हाथ से झाड़ू बुहार देता है।

राजधानी की सड़कों पर नीम तथा अन्य पेड़ो के पत्ते पटे हुए रहते हैं, पत्ते जो सड़को पर ही गिरे गिरे सड़ रहे हैं हमारा मानस पटल भी ऐसा ही राजमार्ग बन जाता है जहां कई यादें छींकती हुई हैं तो कई बीमार, कई सहेजे हुए, कई उत्साह से लबालब पर सभी अपनी जगह गल रही है, उसी से महक उठता है और एकाकार होकर खड़ा क्या होता है - कुछ स्नेह संबंध, कुछ प्रेम संबध।

देर से आना, तुम्हारा हाथ पकड़ खुद को सांत्वना देना है। वो सुख पाना है जो बस मिल जाना होता है।

... और अब दिल में यही चाहत करवट ले रही है कि जोर से तुम्हारी हथेली रगड़ और दूर तक के वीराने जंगल में आग लगा दूं। लग जाएगी यकीन मानो। ये भावावेश नहीं, तुम्हारे मिलने के खुशी पर नहीं बल्कि उदासी के उस ढ़ेर पर खड़े होकर जुटाए से आत्मविश्वास से कहा जा रहा है।

Comments

  1. उदास होते हुए भी बेहद ख़ूबसूरत पोस्ट... जब मुद्दतों बाद यूँ धूप निकलती है तो यकीनन उसे ओक में भर के पी जाना चाहिये... उन लम्हों को यूँ संजो लेना चाहिये, उस साथ को अपने आप में यूँ जज़्ब कर लेना चाहिये की वो लम्हें भले बीत जाएँ, भले वो साथ उम्र भर ना रहे पर उन साथ बिताये पलों की रौशनी ज़िन्दगी के तमाम सीले कोनों को रौशन करती रहे... ता-उम्र !!!

    ReplyDelete
  2. कलम थामने की देरी है आकाश खुद-बखुद पन्नो में सिमट जाता है...

    ReplyDelete
  3. ये पास्ट उदासी भरा भी हो तो सोच को एक खूबसूरती तो दे जाता है.....कई बार जब जिन्दगी में कुछ नहीं होता बीते हुए लम्हे भी जीने की वजह बन जाया करते हैं...सागर के मिजाज़ से अलग पोस्ट है...हल्की-फुलकी सुकूँ देने वाली.... एक लाइन जिसे पढ़ कर रुके थे हम वो है " कई चीज उम्र बीत जाने के बाद मिलती है। भरी जवानी समंदर किनारे घूमने निकले और कुछ न मिला और एक दिन जब फेफड़े में हवा ना रहा ना ही गले में ताकत तो गीले रेत संग पानी में शंख से पैर टकराता है। हम उठाकर देखते हैं, अपने बालों को इधर उधर झटका देते हुए जांच परख करते हैं और फिर यह अधिक से अधिक ड्रांइग रूम में सहेजने के लायक नज़र आता है।"

    ReplyDelete
  4. गीले जज्बे सुखाने वाली धूप तो हमारी जिन्दगी में आयी ही नहीं।

    ReplyDelete
  5. उदास पोस्ट

    ReplyDelete
  6. आते दाल के भावो में उलझे है.. खैर लिंग का दोष यहाँ भी रहा.. साडी अगर स्त्रीलिंग होती तो कशिश और बढ़ जाती.. इतने बार कहने के बाद भी नहीं मानोगे तो गलती तुम्हारी ही है..

    ReplyDelete
  7. "कितना अजीब होता है कि हम अपने अतीत पर हैरां होते हैं और कई चीज उम्र बीत जाने के बाद मिलती है।"
    अतीत के साथ ही न जाने कितनी यादें जुडी हैं.......समय-असमय घूमती फिरती "अपना अस्तित्व भी कभी था"
    बताने चली आती हैं हमें.....!!
    आज का वर्तमान कल फिर हमारे सामने अतीत बन कर खड़ा हो जाने वाला है !!
    सुखद वर्तमान भी अतीत में दुःख देता है ..!!

    ReplyDelete
  8. ऐसी पोस्ट के लिए कभी कभी उदास होना बुरा भी नही..
    कुछ चीज़े देर से मिलती है अगर वक़्त पे मिल जाये तो ये हसीन यादें किधर जाये.
    आदि मानव भी कित्ता भोला था बेकार पत्थर टकरा के आग निकालता रहा....हथेली वाला concept उसे पता न होगा....:)

    ReplyDelete
  9. wah....sagar bhai.........

    ye udasi to khushi ke beez hain........


    jiyo.....

    ReplyDelete
  10. ऐसी उदासी बरसों से नहीं आई थी। जो आई थी इस दौरान तो वो नौकरी, करियर, आटे दाल की कमी की उदासी थी। तुम्हारे छूने की उदासी नहीं थी।

    jeet raho mere bhai...kya lkh diya hai...kurban hun tum par..

    ReplyDelete
  11. उदास होते हुए भी बेहद ख़ूबसूरत पोस्ट| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  12. ateet aue vartmaan aur udaasi ki dher per aatmvishwaas yun hi nahi janm leta ... aapki kalam ko naman

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …