Skip to main content

अमलतास, गुलमोहर और चाँद के देस में गुम एक जाति





तुम्हारे शहर में कोई और लड़की देखना अपने आप में क्या कुछ है। समझौता, मजबूरी, गुस्सा, बदला या कि तुमको फिर से तलाश करना। रिडिस्कवरी। दो गुदाज बाहें जब नंगी हथेलियों में थरथराए, तेज़ तेज़ सांसों का उतार चढ़ाव से ज्यादा हो, चढ़ाव इसलिए कि उतार एकाग्र हो, चढ़ाव इसलिए कि उतार में खत्म होना हो, चढ़ाव इसलिए कि उतार को जी सकें, प्यास बुझा सकें। बेकाबू धड़कनों का आरोह अवरोह किसी सनकी खूनी के तरह दलदल में चमकीले खंज़र लेकर उतर आए तो सीने पर उठता गिरता चांदी का चेन जिस जिस उलझन टकराता हो। इससे इतर तुम्हारे बगैर सोचना क्या है ? बिना गुलमोहर के पाटलीपुत्रा की कल्पना, बिना बेलपत्र महाशिवरात्रि का दिन या कि बिना भांग के होली।




एल

ठंढ़ी बहुत ठंढ़ी... कोई बर्फ का टुकड़ा स्मृति में फूटता, बारिश वाले दिन में ढ़लान भरी बिजली के तारों पर ढ़कलती चमकीली बूंद, कहीं पलते हुए जब हम बड़े होते हैं अमुक अमुक स्थान के कारण वो शहर हमें याद नहीं होता बल्कि अपने बेतरतीब ढलानों में भी सौंदर्य छिपाए होता है। अपना शहर कोई तीर्थ स्थल नहीं होता जो स्थान विशेष के कारण याद रहे। वहां विपरीत दिशा से आ रही आॅटो में दो लड़कियों के बीच बैठी महबूबा की भवहों की मुस्कुराहट पहचान में आ जाती है।





आई
ऐसे तस्वीर की कल्पना तुममें हरगिज हरगिज नहीं की जा सकती है। छाया भर बस पड़ सकती है। सांझ ढ़ले घर से अलग स्टोर रूम में डरते हुए बस दीया दिखाने भर जैसा। पत्थर की बड़ी सी सिल्ली पर एक कदम रख रौशनी को वहां महसूस भर करने जैसा। एक संजीदा छाया। किसी नमाज़ की वाजिब रूह लेकिन जुदा शक्ल होगी तुम। हू ब हू वैसा नहीं हो सकती हो जैसी तस्वीर में कल्पना की गई है। थोड़ा शार्ट दुपट्टा में थोड़ी दूर का संतुलन, एक टिंच बैलेंस रिश्ते और आकर्षण का।



कायनात पर फैली चांदनी अपने खूबसूरती के शबाब में भी अकेला है। इस कदर अमीर जैसे सबसे गरीब। कोई सानी नहीं, मगर कोई मानी भी नहीं। बस इतना कि चमकते सूरज का ताप रेगिस्तान के हर रेत को सुलगा रहा है। लेकिन वहां पांव पकते हैं यहां तुम पर तरस आता है। पूछना कभी देर रात जब नींद ना आए कि शिखर पर अकेले बैठने में क्या कुछ खोना पड़ा और यहां तक पहुंचाने में हमें क्या कुछ चुकाना पड़ा। सारे जवाब तुम्हारे अंतर्मन ही देंगे। हम क्या आज हैं, कल कहीं, परसों नहीं।


एन

The mysterious girl-next-door.

इश्क पर गालिब का मुकम्मल सा शेर किंतु मेरे में अपाहिज सा बचा हुआ - ''देखना मेरे बाद यह बला कितनों के घर जाएगा।'' हम उन पर हंसते हैं जो खुद वही काम देर सवेर करते हैं। खून बहाने का उदाहरण भी उन्हीं में से एक था। रूमाल आज भी तह कर के रखी है और हाथ का कड़ा छह साल में लचीला हो चला है। इश्क का रेशा, गांठ बन चुका है। अब तो कांटों पर साल दर साल एक धागा चढ़ा कर स्वेटर बुन लेते हैं।

कितना मारते हो अपने आप को कि चोट हड्डियों में लग आई है। जो जितना पाक है खून से लथपथ है। यह कैसी गलतफहमी है कि चुपचाप किनारा कर लेना रक्तरंजित अंत नहीं कहलाता ?

(डायरी-अंश)

Comments

  1. धूप बयानी, छाँव बयानी...अंजुली में गंगाजल लेकर संकल्प करने जैसा.

    तुम्हारा ये रंग सागर...उफ़.

    ReplyDelete
  2. शीर्षक पर फ़िदा हो के रह गए

    ReplyDelete
  3. जी चाहता है इल्जाम लगा दूं "आपको तारीफ सुनने की बुरी आदत है" :-)
    हाँ! सहमत हैं हम पूजा से... शीर्षक में मगजमारी की या फिर एवे ही ?

    ReplyDelete
  4. kis khayaal mein likhte ho ..jo apne saath padhne wale ko bhi usi khayalo ki duniyaa mein le jaate ho ...इश्क का रेशा, गांठ बन चुका है। shaayad isi gaanth mein bandh kar rah gaye hai

    ReplyDelete
  5. इस गुम जाति को सागर जैसे ही ढूंढ कर ला सकते हैं...

    ReplyDelete
  6. @ प्रिया,

    कुछ ख़ास मगजमारी नहीं करनी पड़ी. फिर भी इसने ९०-९५ सेकेण्ड का समय तो लिया ही. पहले शीर्षक : "अमलतास, गुलमोहर और चाँद के देस में एक संथाल परगना" रखने वाला था.

    ReplyDelete
  7. बहुत ही सरल-सहज ढंग से ह्रदय के गहनतम भावों की अभिव्यक्ति......

    ReplyDelete
  8. सब तारीफ़ कर रहा है उससे चैन नहीं पड़ा तुमको? जो खुद भी अपनी तारीफ़ करने बैठ गए?

    ReplyDelete
  9. कुछ कह नहीं पा रही हूँ....ऐसा लिखना कितना कठिन होता होगा ! मगर तुम्हारी लेखनी से मक्खन की तरह निकलता है! तीन बार पढ़ चुकी हूँ पर मन भरा सा नहीं लग रहा है!

    ReplyDelete
  10. किन गलियों में ले जाकर कहाँ छोड़ दिया, वापस घर पहुँचने में समय लग रहा है।

    ReplyDelete
  11. "अमलतास, गुलमोहर और चाँद के देस में गुम एक जाति"
    जैसे ये उन्वान ही अपने आप में सब कुछ था..... बाकी तो बोनस में पढने को मिला. दमदार रचना

    ReplyDelete
  12. टाईटल वाली बात पे हम पूजा और प्रिया, दोनों से ही सहमत है.. लास्ट वाली तस्वीर का इम्पैक्ट पूरा पूरा है..
    देख रहा हूँ कि सोचालय में जान आ रही है.. सागरी अंश पे दिल लट्टू है जनाब

    ReplyDelete
  13. जी नहीं भरा...और..और...!
    इतने दिन बाद पढूँ तो और..और... की प्यास तो रहती ही है !

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …