Tuesday, May 31, 2011

सम्मन जारी किया गया





पुराने किले से सदा आती है। हवा उन दीवारों को छूते हुए आती है, किसी घुमावदार सुरंग तो तय करती। हवा इनमें जब भी घुसती या निकलती है मानो को काई अजगर पैठ या निकल रहा हो। बहुत सारा वज़न लिए। मुहाने पर निगरानी करता नीम का पेड़ बारिश का पानी पी कर मदमस्त हो चला है। तने ऐसे सूजे हैं जैसे किसी नींद में एक पुष्ठ छाती वाली  औरत लेटी हो जिसके बच्चे ने उसका ब्लाउज सरका दूध मन भर पिया हो। 

xxxxx

पीपल के पत्ते की तरह नज़र आते हैं कुछ लोग। अपनी जगह पर हिलते, हवा के चलने पर सरसराते। हवा कोई खबर लिए पेड़ में घुसती है और तने को पनघट मान सारे पत्ते एक दूसरे से सटकर वो खबर सुनने गुनने लगते हैं। ये बड़े क्षणिक पत्ते हैं। जीते जागते हुए भी एक मरियल हथेली से। अपनी जड़ों से तुरंत उखड़ आने वाले। एक दिखावटी टा टा करता, हिलता कोई हाथ। पलट कर देखो तो ऐसा ही लगे कि किसी अपने की तलाश में पराए घर में आया था। मेहमान होते हुए खुद खर्च किया और जाते वक्त पूरा घर लाज लिहाज के मारे हाथ रूख्स्त कर रहा हो। 

xxxxx

एक दयनीय सी स्थिति यह है कि हमारे चारो ओर दलदल है, पीठ के नीचे कांटे हैं, दिमाग में रेंगता कोई तलाश है और तलवों मे लगती गुदगुदी है। अपने अंधकार में खुद को एडजस्ट करने की कला खोज रहे हैं हम। कभी कुछ पढ़ा है, कभी कुछ देखा है और थोड़ा सा सुख कभी भोगा है। ये मेले में हीलियम की गुब्बारों के लिए तलवे उठाते बच्चों की तरह जिद करते हैं। 

xxxxx

अमीर और गरीब लोगों के बीच एक बड़ा बारीक सा फर्क यह है कि अमीर के घर कोई काम नहीं रूकता। चार महीने की बिना तनख्वाह पाया ट्यूशन मास्टर देखता है कि कैसे दीवारों के बीच नया दीवार सेट किया जाता है। पुरानी टी.वी. के जगह फ्लैट टी.वी. कैसे रिप्लेस होता है। दशहरे पर नए डिजायनदार कपड़े लिए जाते हैं। बड़ा बेटा  फोन पर ट्रेवल एजेंट से मुंबई की फ्लाइट की टिकट के लिए बहस करता है। इसके उलट गरीब के घर में एक काम के बदले सारी चीज रोकी जाती है। अगर स्कूल का फीस भरना है तो सुबह का एक पाव दूध रोकना होगा, लकडि़यां ज्यादा चीरनी होगी और रात को बाप का डिक्लोज करना कि आजकल नींद नहीं आती सो कल से काम के बाद चार किलोमीटर पैदल चल लिया जाए तो अच्छी थकान हो जाएगी।

xxxxx

सफेद, बहुत साफ कमरा। दूधिया ट्यूब लाइट की रोशनी में नहाया हुआ। उज्जवलता दिमाग के किसी कोने में विंड चाइम्स सा बजा रहा है। क्रिसमस के पेड़, बड़े बेमौसम, सुस्ताई पत्तियां नीम बेहोशी में.... फूलझाड़ू के हल्के बुहार की तरह। और कोने में नया लगता कोई जाला जिसकी अभी बस शुरूआत भर ही हो। अगर किसी ने अपने गर्लफ्रेंड को बचपन से बड़े होते देखा हो तो उसके बगलों पर उगता हुआ बाल जैसा... बेहद चिकना, नर्म और मुलायम, हल्के काले-सुनहले बाल, संगमरमर की सफेदी के बीच.... आखिरकार एक लोभ संवरण।

xxxxx

हथेलियां रगड़ो, कोई तसल्ली दिलाओ मुझे।

(डायरी- अंश)

6 comments:

  1. काम कहीं नहीं रुकते हैं, इच्छायें रुकने लगती हैं।

    ReplyDelete
  2. सीलन भरे कमरों में उठा कर लाये धूप के ये टुकड़े हथेलियाँ गर्म कर रहे हैं..कई बार एक सुरसुरी सी दौड़ गयी...बातें स्तब्धता से ही शुरू करके स्तब्धता पे ख़त्म कर देते हो..:)

    ReplyDelete
  3. रात के बारह बज के छ मिनट हुये हैं ...एग्जेक्टली! पोस्ट पढ़ी, और अभी-अभी तुम्हें काल किया| शायद सो रहे हो| फोन नहीं उठाने पर सम्मन जारी किया गया है :-0 और दूसरा सम्मन डायरी के ऐसे पन्नो को साझा करने पर|

    उस दिन कहीं उलझा हुआ था....

    ReplyDelete
  4. साफ़ पानी की सतह पर जिंदगी की विषमताओं को पारदर्शी करते अंश ... निस्तब्ध अन्धेरा, भय और दफ़न उम्मीदें... फिर भी डायरी के पन्ने पलटने को अगुलियां मचलती हैं...

    ReplyDelete
  5. पेड़ के ताने का महिला की छाती से कोई लिंक समझ नहीं आया..??

    ReplyDelete
  6. @ गौतम जी,
    और रात्रि बारह बजकर बीस मिनट पर आपसे बात हुई :)


    @ भाई कुश,
    पेड़ों के तने बारिश में भीग कर पुष्ट हो जाते हैं, विशेष कर अगर नीम के पेड़ को देखें तो उसकी हर दरार पानी में फूल कर सूजी हुई- सी हो जाती है. ये लिंक वहीँ से लगाया हुआ है.

    ReplyDelete

Post a 'Comment'

Friends

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...