Skip to main content

बैक लो, बैक लो, और पीछे. हाँ वहां से बाएं !



बूंद जो रूकी होगी गुलमोहर के डंठल पर उसे कहना मेरा इंतज़ार करे। पेड़ के तनों का रंग लिए जो मटमैला सा गिरगिट होगा उसे कहना भुरभुरी मिट्टी देख कर ही अंडे दे। गंगा पार जब सफेद बालू पर परवल पीले फूलों वाला मिनी स्कर्ट पहन कर सीप में मोती सा पड़ा हो तो उसे कहना तुम कुछ दिन और हरे रहो। राजेंद्र प्रसाद के पुण्य स्थल पर अलसुबह हुए बारिश में अपनी ऊंगली से उन सफेद संगमरमर पर कोई नया ताज़ा शेर लिख जाना। इस शहर में दशहरे के वक्त आसमान लाल नहीं होता। अव्वल तो आसमान देखना ही नहीं होता। अपना शहर अच्छा है शिकायत होते ही आकाश तकते हैं। यहां यह शाम के लिए बचा कर रखना पड़ता है।

छत पर वाली बाथरूम के बगल वाली जगह खाली रखना जहां हमने न्यूटन के गुरूत्वाकर्षण वाले नियम की परख की थी। यहां के मकानमालिक उस गज पर भी नोट कमाना चाहते हैं। पाल पोस कर बड़ा किया हुआ जगह अंतर्मन में अपने कुछ स्थान छोड़ जाता है। कई दिनों बाद जब वहां जाना हो तो चार आदमियों से बात करते हुए भी कनखियों से देख लेना होता है। वो शिवालय पर 'शिवम-शिवम' का लिखा होना, महावीर मंदिर पर 'महावीर विनउ हनुमाना। राम जासु जस आप बखाना' देख लेना, मोड़ पर का ढ़लान, द्वार पर वाले चौड़े गड्ढ़े में लहलहाता अलता का पेड़। और बहुत जज्बाती होकर यूकिलिप्टस के चिकने सादे से कागज़ जैसे तने पर उकेरे गए अजीज़ लोगों के नाम। किसी अच्छे ख्याल पर झूलते आम जैसे समर्थन करते हों और बाहों में भर कर एक जोरदार चुंबन लेने पर बेलों का झूमते देखना।

अड़हुल के फूल से लकदक डालियों से लाल लाल फूल तोड़ डलिए में रखना। बेवजह भैया के कोहबर में जा कर सुहाग वाला कोई गीत भूला भूला से गुनगुनाना। ओसरा के कमरे में चौखट के बाद गहरे नंगे पैरों की धमक और गाने का रफ्तार पकड़ना। दादी को यूं याद करना कि अपना ही अचरा जांच लेना। मिलते थे ना विक्टोरिया के सिक्के वहां पर पिंकी जो तुमने इनारे पर गोयठा (उपला) के नीचे छुपा कर रखती थी। कागज़ में लपेट कर एक बिसरा हुआ स्वाद वाला अचार भी लाना .... कच्ची सरसों तेल वाला और दाग ऐसा जो अब कभी ना छूटे।

पिंकी, धूप तो तेज़ हुई जाती है पर हमारा कद उस तरह से नहीं घट रहा।

Comments

  1. बैक लो, बैक लो, और पीछे---बहुत दूर तक पीछे ले गये...बेहतरीन!!

    ReplyDelete
  2. aur kitna back lenge... gaadi ko gear mein daaliye....aur dandanate hue before waqt nikal jaaiye... forward baniye..forward aaiye....aitna nahi samjh mein aata hai

    waise likhe theek thak ho :-)

    ReplyDelete
  3. बूंद जो रूकी होगी गुलमोहर के डंठल पर उसे कहना मेरा इंतज़ार करे।

    मन तो पहली लाइन पर ही अटक गया उस बूँद के साथ... हौले हौले ढुलकते हुए नीचे आया तो दिल हुआ पीले फूलों वाली मिनी स्किर्ट पहने परवल को देख कर ज़ोर से सीटी मारने का (लड़कों के अंदाज़ में) ... बारिशों में संगमरमर पर शेर तो नहीं लिखे कभी, अलबत्ता सड़क पर खड़ी गाड़ियों के धूल भरे डैशबोर्ड्स पर उँगलियों से न जाने कितने ऑटोग्राफ्स दिये हैं :)

    पोस्ट पढ़ते-पढ़ते कनखियों से यादों की कितनी ही भूली बिसरी गलियों में झाँक आये... हाँ! ऐसा ही तो करते हैं हम सब, पर ऐसे शब्द नहीं होते उन्हें बयां करने के लिये... पर आपने हर एक शब्द को झाड़ पोछ कर इतने प्यार और ख़ूबसूरती से एक-एक याद सजाई है कि यादों को भी ख़ुद पर ग़ुरूर होने लगे...

    ReplyDelete
  4. अरे पोस्ट के शीर्षक की तारीफ़ करना तो भूल ही गये... बैक लो... बैक लो... और पीछे... हाँ, तो शीर्षक के लिये खड़े हो कर तालियाँ !!!

    ReplyDelete
  5. तेज धूप में ही हमारा कद घटने लगता है, शाम तक चौड़े होकर बैठ लेते हैं हम।

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ