Skip to main content

सोचते रहते हैं कि किस राहगुज़र के हम हैं




शरणार्थी तो हम थे ही, यह हमें भलिभांति ज्ञात था लेकिन वो होता है न कि किसी दोस्त के जन्मदिन की पार्टी में हम भूलने की कोशिश करते हैं कि हमारे साथ पिछला क्या बुरा हुआ है। तो बस आधी रात को वही थोड़ी के लिए भुला बैठे थे। पानी भरने के लिए जगने का अलार्म लगाया था। कभी कभी ऐसा होता है न कि बिस्तर पर पूरी रात बिताने के बाद भी लगता है दिमाग जागा रहा और हम बस आंखे मूंदे पड़े रहे इस इंतज़ार में कि अब नींद आ जाएगी। अंधेरे में अंधेरा ज्यादा होता है। कोई दोस्त कमरे की लाइट जला दे तो पलकों के पर्दे के पार अंधेरा हल्का हो जाता। ऐसे में आंखें जोर से भींच लेते। मस्तिष्क पर एक अतिरिक्त दवाब बनता और सवेरे लगता है जागते हुए ही रात कटी है। लगता लेकिन नींद तयशुदा वक्त से पांच मिनट पहले खुल गई। मन हुआ नल चेक करें क्या पता पानी आना शुरू हो गया हो। पीठ पसीने से तर थी। बिस्तर पर के चादर में चिपटी हुई..... गीली। उचाट सा उठा, किचन गया, नल खोली। पानी नहीं था लेकिन उसने आने की आहट थी। आधी रात के सन्नाटे में सांय सांय की शोर करता नल... कहने को शांति में खलल डालता लेकिन जिसके मधुर आमद का स्वर... ऐसा ही लगा जैसे सूरज डूबने के बाद किसी समुद्र तट पर चला गया होऊं... नंगे पैर नम रेतों पर चलता ... दूर बहोत दूर तक निकल गया हूं ....और एक सांस सांय की आवाज़ घेरे है। 

यह दुलर्भ है। नहीं मिलता है। हमें हर वो चीज़ नहीं मिलती है जो हमें मिलनी चाहिए। जिसकी बुनियादी जरूरत हमारी है। रोष यहीं से उपजता है। हमारे तर्क भी नहीं सुने जाते। एक अंधेरी सुरंग में लिटा कर बस छोड़ दिया जाता है। हम हाथ पांव मारते हैं। आवाज़ लगाते हैं। शायद सुरंग के मुहाने पर के उजाले तक हमारी आवाज़ पहंुचती भी हो। आवाज़ गूंजती है लेकिन तब पता लगता है कि कुछ आदमियों ने ही उस आवाज़ को दबा दिया। इस तरह संघर्ष वर्गों में बंट जाता है।

शहर की नल में पानी का इंतजार करते हमने खुद को एक पल के लिए मानसूनी प्रदेश का कोई गरीब किसान मान लिया जैसे पानी आएगा तो सारे दुख दूर हो जाएंगे। इस शरणार्थी होने का दंश सिर्फ हम अकेले नहीं सह रहे थे। सामने वाले दरवाज़े की जब सिटकनी सरकी तो उससे निकली लड़की भी बाल्टी लेकर बाथरूम में चली गई। नल खोला। पानी आ गया। लेकिन एक ही फ्लोर पर पानी दो भागों में बंट कर आ रहा था। बाल्टी में पानी यूं गिर रहा था जैसे मोटे कपड़े का अवरोध लगा दिया गया हो। मैंने इंतजार किचन में खड़े होकर बोझिल पलकों में काटी उसने तीसरी मंजिल और आकाश की ओर खुलने वाले सीढ़ी पर बैठकर। दूर एक बेहद धीमी रेलगाड़ी चल रही थी... बहुत धीमी। रेलगाड़ी क्यों इसे मालगाड़ी कहिए। जिसे बस यह संकेत मिलता है कि अपनी गाड़ी किनारे कर लें फलाना एक्सप्रेस गाड़ी आने वाली है।

आखिरकार मैंने जैसे तैसे पानी भरा। मन हुआ बालकनी में थोड़ा रूकें। नज़र घुमाई तो छोटे छोटे अंधेरे छज्जों पर खामोश कबूतर बैठे थे। रात की निस्तब्धता में एकदम खामोश किसी मूर्ति की भांति। थोड़ी नीचे और नज़र सरकी तो बिजली के तारों पर दो कबूतर बैठे थे। एक दूसरे की विपरीत दिशा में मानो कह रहे हो - क्यों रोती हो ? अरी हम ही नहीं, धरती पर राज करने वाला इंसानों के बीच भी कुछ इंसान निष्कासित हैं। जब वे शरणार्थी की तरह जी सकते हैं तो अपना तो छोटा सा जीवन है। 

कबूतरी उसकी बातों को सुनकर पंख फैला देती थी मानो इन बातों को सुनकर असहज हो रही हो और असहमति में प्रतिक्रिया यह दे रही हो।

जीने को प्राथमिकता देने में हमने सारे सकारात्मक तर्क इसके साथ जोड़ दिया. हमारे पास नहीं था कोई उचित जवाब तो जीना सबसे आसान लगा.

Comments

  1. बहुत से सवाल हैं जो सवालों के भीतर से निकलते हैं. जैसे निराशा के समानांतर कोई दो आँखें चल रही हो ऐसी आँखें जिन्हें बंद हथेलियों के बीच के अंधेरों में देखा जा सके.

    ReplyDelete
  2. ओर हमें गुलज़ार की एक नज़्म याद आ गयी.....इन कबूतरों के मुताल्लिक !

    ReplyDelete
  3. पता है क्या....सारी बात पता थी ऐसा लगा..तुमने बता दिया हमें बता दिया कि हमें पता है....

    ReplyDelete
  4. ऐसी बेचैन कितनी राते याद आ गई जो उमस में कटी थी

    ReplyDelete
  5. नए दिन की शुरुआत पानी के संघर्ष से ... उस पर रख दिया है माइक्रोस्कोप इन शब्दों ने...

    ReplyDelete
  6. "अंधेरे में अंधेरा ज्यादा होता है"
    बहुत बढ़िया बात कही सागर भाई....

    ReplyDelete
  7. "यह दुलर्भ है। नहीं मिलता है। हमें हर वो चीज़ नहीं मिलती है जो हमें मिलनी चाहिए। जिसकी बुनियादी जरूरत हमारी है। रोष यहीं से उपजता है। हमारे तर्क भी नहीं सुने जाते। एक अंधेरी सुरंग में लिटा कर बस छोड़ दिया जाता है। हम हाथ पांव मारते हैं। आवाज़ लगाते हैं। शायद सुरंग के मुहाने पर के उजाले तक हमारी आवाज़ पहंुचती भी हो। आवाज़ गूंजती है लेकिन तब पता लगता है कि कुछ आदमियों ने ही उस आवाज़ को दबा दिया। इस तरह संघर्ष वर्गों में बंट जाता है।"

    गज़ब फ़िलॉसफ़ी... एकदम पसंद आयी :-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

यही आगाज़ था मेरा, यही अंजाम होना था...

-1-
-2-


प्यार में कुछ नया नहीं हुआ, कुछ भी नया नहीं हुआ। एहसास की बात नहीं है, घटनाक्रम की बात है। हुआ क्या ? चला क्या ? वही एक लम्बा सा सिलसिला, तुम मिले, हमने दिल में छुपी प्यारी बातें की जो अपने वालिद से नहीं कर सकते थे, सपने बांटे और जब किसी ठोस फैसले की बात आई तो वही एक कॉमन सी मजबूरी आई। कभी हमारी तरफ से तो कभी तुम्हारी तरफ से।
सच में, और कहानियों की तरह हमारे प्यार की कहानी में भी कुछ नया नहीं घटा। प्यार समाज से पूछ कर नहीं किया था लेकिन शादी उससे पूछ कर करनी होती है। घर में चाहे कैसे भी पाले, रखे जाएं हम उससे मां बाबूजी और खानदान की इज्ज़त नहीं होती मगर शादी किससे की जा रही है उस बात पर इज्ज़त की नाक और बड़ी हो जाती है।
कोई दूर का रिश्तेदार था जो मुझ पर बुरी नज़र रखता था। मैंने शोर मचाया तो खानदान की इज्ज़त पैदा हो गई। और जब अपने हिसाब से जांच परख कर अपना साथी चुना फिर भी इज्ज़त पैदा हो गई। बुरी नज़र रखने वाला खानदान में था इससे इज्ज़त को कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन एक पराए ने भीड़ में अपने बांहों का सुरक्षा घेरा डाला तो परिवार के इज्ज़त रूपी कपास में आग लगने लगी।
और प्यार की तरह हमार…