Skip to main content

ऑफ स्टंप से चार ऊँगली दूर गुड लेंथ गेंद, पॉइंट में चौका मारने का प्रयास, बल्ले का बाहरी किनारा .... और गेंद स्लिपर के हाथ में!



सुबह साढ़े तीन बजे सोया और सवा नौ बजे उठना हुआ। फिर भी अभी नींद आ रही है। पलके आधी मूंदी हुई हैं और ऐसे में गौतमबुद्ध नगर से गाड़ी होती हुई दफ्तर आई। जाने कितना तो विशाल है भारत। कहीं दो सिलसिलेवार मकानों की लड़ी के बीच पार्क होता है जहां कोई बैठने वाला नहीं होता फिर भी माली दिल्ली विकास प्राधिकरण माली लगाते हैं जिनकी तनख्वाह चौदह हज़ार होती है तो कहीं मकानों का ऐसा जमात होता है जिनपर प्लास्तर नहीं चढ़ा होता। उनके बीच कीचड़ भरे रास्ते होते हैं। वो कीचड़ भी गहरा ज़ख्म लिए होता है कि पता चलता है काला पानी दूर तक छींटे के रूप में उड़ा होता है कि अभी अभी कोई ट्रैक्टर उनको रौंदता हुआ गया है। शहर को परखना इन्हीं अलसाए हुए पलों में होता है। शहर तभी चुपके से हमारी रगों में दाखिल हो जाता है। जहां पाॅश इलाकों के रास्तों पर कमर में हाथ डाले, जाॅगिंग करते फिरंगी टाइप लोग घूमते हैं। या बेदखल किए हुए बौद्धिक बुजुर्ग वहीं गंदी मकानों की श्रृंखला में जिंदगी सांस लेती है। सायकल के टायर घुमाते नंगे बच्चों की बाजियां हैं। एक मधुर टुन टुन सा संगीत है। मौसी का किरोसिन लाना है और फलाने का पोता आया है तो दो सेर दूध भिजवाने तक की चिंता है वहीं धनाढ्यों के बंगलों में एक सन्नाटा पसरा रहता है। कई कई मकानों की खिड़कियां महीनों नहीं खुलते। एक में झुकासो इनन अगर खुल भी जाता है तो दूसरा भी ग्राउंड फ्लोर पर आहूजा रिजेंसी खुलवा लेता है।

हम सभी अपने अपने लेवल के हिसाब से बाहर भागते हैं। कोई मधुबनी, सहरसा से पटना आता है। तो पटना वाला दिल्ली, मुंबई। दिल्ली वाले न्यूयार्क, आॅस्ट्रेलिया जाते हैं। सबके अपने बंटे हुए सरोकार हैं।

कितने तो पेड़ हैं, विलुप्त होते पक्षी हैं। आवाज़े हैं। राग है। भोर का गाढ़ा मेघ है। सारस की लम्बी चोंच है। दिन के हल्के नीले बादल हैं। साफ आसमान है उनमें फटे हुए दूध की तरह उजले उजले बादलों का फाहा है।

शहर को महसूस करने के लिए वहां इश्क होना बहुत लाजमी है। क्योंकि इश्क के बुखार में हर चेहरे में वही नज़र आता है और वही देखने के लिए हम मारे मारे फिरते हैं। इस गली से उस मोड़ तक। जाने कौन कौन से अनजाने और अनचीन्हे रास्तों पर भटकते हैं। जाने कहां कहां जाकर क्या क्या तलाश करते हैं। पता करते हैं कौन सी जगह सिगरेट फूंकने और दारू पीने के लिए मुफीद जगह रहेगी। कौन सा और किस जगह का पेड़ उनका नाम लिखने के लिए उपयुक्त रहेगा। अमरूद का स्वाद जीभ की नोक पर कैसा लगता है और तालु पर जाकर कितना हल्का हो जाता है। उनसे मिलकर आने पर धतूरा को फूल बैण्ड बाजे वाला का साजो सामान लगता है और उमस भरी दुपहरी में किसी काली मिट्टी वाले खेत में उतर कर लाल साग वाले खेत में डूब जाने का मन होता है। घर से थोड़ी दूर किसी झोपड़ी से आते विविध भारती, मुंबई से आती दिलकश आवाज़ें रह रह कर अटकती है और गुमां होता है कि जैसे उद्घोषक को हमारा हाले दिल मालूम हो। ऐसा लगता है वो हमारे लिए ही यह सब गाने बजा रहा हो। हम ट्यूशन पढ़ाते हैं, पैसे बचाते हैं और दूसरे महीने के वेतन से एक रेडियो ख्चारीद कर लाते हैं। फिर सुबह पांच - पचास के वंदे मातरम् से रात के ग्यारह दस तक का जय हिंद सुनते हैं। इस दौरान शहर मिलता है और परिवेश की आबोहवा में हमारा जिस्म सिचंता है। पोर पोर भींगता है। गोया यह कोई बूढ़ों प्यार थोड़े ही है कि बस पार्क में कुर्सी लगा कर बैठ किसी दूब के खिलने में प्रेम खोज रहे हैं ? 

शहर यूं खड़ा होता है। ऐसे नहीं कि ढ़ाई बजे रात को रिज रोड पर के जंगल के पास उतार दिया जाए और लाॅरी वाले से मिन्नत कर उसमें पीछे बैठना पड़े और महसूस हो कि अप्रवासी भारतीय हों और गुलाम बना कर गुलामी करने माॅरीशस भेजा जा रहा हो।

Comments

  1. हाय तुम्हारा ये शहर सागर...इससे तो किसी को भी प्यार हो जाए...हमको तो खैर हो ही गया.

    कितनी लाइनों में अटके..खुद को ढूँढा और पाया भी. ऐसा खिला खिला शहर कितना जिया हुआ लगता है. पता है पटना में पहली बार जब रहने के लिए गए थे तो जुलाई का महीना था और बारिश के कारन हर तरफ पानी ही पानी...स्कूल के पीछे से गंगा के होने का आभास आता था...हिलोरें मारते हुए.

    पहली बार में शहर बहुत गन्दा लगा था...पाटलिपुत्र में होने के बावजूद...पर शहर रगों में ऐसा बहने लगा कि आज तक मौजूद है...तुम एकदम सही कहते हो कि 'शहर को महसूस करने के लिए वहां इश्क होना बहुत लाजमी है।'

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लगा आपका ये आलेख। एक समय के अपने शहर को आपकी आँखों से देखना अच्छा लगा। 'एक समय का' इसलिए कि अब उससे वो इश्क़ नहीं रहा। कारण तो आप इंगित कर ही चुके हैं। मैं कभी पटना को इन नज़रों से नहीं देख पाया क्यूँकि ज़िदगी की असली ज़द्दोजहद किसी और शहर से शुरु हुई। ज़िदगी के वो पन्द्रह साल कबूतरखाने , बोरिंग व बेली रोड तक ही सिमट गए जिन्हें कभी यहाँ याद किया था।

    ख़ैर एक बात और बचपन के उन दिनों में रेडिओ के क्रिकेट कमेंट्रेटर होने का सपना देखा करता था इसलिए आपका शीर्षक तुरंत यहाँ खींच लाया। शीर्षक में 'स्लीपर' की जगह "स्लिपर' कर लें नहीं तो लोग क्रिकेट को सोने वालों का खेल समझ लेंगे।

    ReplyDelete
  3. सुंदर कोलाज सा.

    ReplyDelete
  4. बहुत सुन्दर सार्थक अभिव्यक्ति| धन्यवाद|

    ReplyDelete
  5. @ मनीष जी,
    बहुत शुक्रिया, 'स्लिपर' सुधार दिया गया है.

    ReplyDelete
  6. कसम से अपुन तो क्लीन बोल्ड हो गए ..."डक" पे

    ReplyDelete
  7. पढ़ते हुए कुछ गुम सा है....क्या मालूम नहीं .....शहर, लेखक, व्यक्ति एक लेकिन ..हर बार शख्सियत जुदा...इंसान की आधी उम्र खुद को समझने में और दूसरों को समझाने में जाती है .....वाकई अजीब हो सागर

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे के रोने में चिल्लाहट ब…