Skip to main content

घूँट-घूँट सिहरन...





जीने के मानी उतने ही होते हैं जितने में जी भर जाए। जी लेने के तुरंत बाद मरना मंजूर है। मरते हुए जीने के लिए भाग रहे हैं। जिन क्षणों में मर रहे हैं वह सिर्फ जिस्म को मार रहा है। बेचैनी हर बार बच निकलती है। एक मुकम्मल मौत चाहिए। पूरा का पूरा। वक्त की प्रकार में कसे पेंच पर पेंसिल सा लगा मैं हल्के हाथ से पूरा घूम जाना चाहता हूं। 

जिस्म एक समतल पार्क है। वक्त की डायल वहां माली सा घूमता रहता है। जब भी कुछ उठाओ बड़ी निर्ममता से छांट देता है। एकांत में बैठकर दो उंगली अपनी पलक पर रखो तो थरथराती प्रतीत होती है जैसे हल्की रोशनी में अधजगे से सो रहे हों। पलकें आंखे छोड़ कर भाग जाना चाहती है। आंखें लाचार और बीमार दिमाग छोड़कर। क्या ऐसा होगा कि यदि मेरी आंखें किसी को लगा दी जाए तो उसमें फिर उस व्यक्ति का मस्तिष्क प्रतिबिंबित होगा ?

एक सड़क दीखती है। लम्बी और आगे जाकर मुड़ती सी। दोपहर का सूरज तेज़ है। उसकी गर्मी से सड़क पर का पूरा कोलतार पिघल गया है। रास्ता काले मैग्मे का पूरा नदी बन गया है। नंगे पैर उस पर चलना होता है। पहला पग रखते ही तलवे की नर्म परत की छाल शरीर से अलग हो रास्ते पर चिपक जाते हैं। अगला पग रखते हुए जब पीछे देखता हूं तो तुरफ-फुरत का न्याय लगता है। एक मासूम सज़ा। एक क्षण में घटा हुआ और अपने लाल लाल हिलते दिल पर बूंद बूंद टपक टपक कर गिरता हुआ गर्म कोलतार सा। आंखें भीतर तक भींच लो कि यह जलन गूंगा कर देगा। इसकी सजा की प्रतिक्रिया चीख रूपी प्रत्युत्तर में नहीं निकलने वाली। कहा था - एक क्षण का दण्ड। चुप रहकर बर्दाश्त कर लो तो ठीक और न कर पाए तो पूरा जीवन ढेर सारा रोना - धोना। एक आसान उदाहरण से समझो तो बस की भीड़ में किसी का पर्स मार लेना। अगर तुम्हें पता चल गया और तुमने मंुह बंद कर ली तो ठीक है... अब वो दुख बर्दाश्त करो।

सबको बताना समाधान था ही कब ?

आज तो मरने की तम्मना जागी है। और यह काम अनुशासनपूर्वक करने का दिल हो आया है। बस किसी बिस्तर पर जाकर चप्पल खोल चादर ओढ़ कर सो जाने जैसा। जीना अनुशासन में नहीं हुआ। जन्म अनुशासित ही था। जीने के बीच मरना वैसे कई बार हुआ था कभी जोर का कभी रिस रिसा कर... मरना, मुर्गें की मौत की तरह नहीं चाहिए कि पंख नुच कर भी रह रह कर बदन कांपे, दोनों पैर बार बार झटकना पड़े और गला रेते जाने के बाद भी कुछ मिनट बाद तिलमिलाते हुए खत्म हों। मछली की तरह तो और भी नहीं कि कोई पहले गलफड़े की लाली जांचे क्योंकि बेचैनी ही कुछ इस तरह की वसीयत में मिली है कि उम्मीद है कि पका कर खाए जाने तक भी किसी की थाली में हिलता डुलता मिलूंगा।

मुझे एक इत्मीनान भरी मौत चाहिए। जो मुझे सुकून तो दे ही सभी के जीवन में जिससे राहत आए। जहर का प्याला कबूतर के गले की नीली गोटी जैसा होना चाहिए। हल्का गाढ़ा, पानी के ऊपर किरोसिन तेल सा तैरता हुआ। जीने में मरने की मिली हुई गंध सी और मृत्यु इतनी पुख्ता कि बीच का बचा जीवन...

...24 कैरेट का खालिस सोना।

Comments

  1. maut maangne kaa ye tareeka ...alhada hai

    ReplyDelete
  2. मुझे एक इत्मीनान भरी मौत चाहिए...bhaymukt khwaahish

    ReplyDelete
  3. अभिशप्त...जिंदगी और मौत के बीच यूँ त्रिशंकु से टंगे रहने को...दर्द से छटपटाते लाइलाज, लाचार हैं.

    सब कह देने और सुन लेने के बावजूद...मौत चाहने की शिद्दत में कुछ कमी महसूस होती है वरना जिंदगी इतनी बेरहम भी तो नहीं.

    ReplyDelete
  4. Negative post hai....haan Life ka ek moment ye bhi....jo abhi hai aur abhi nahi....puja ke comment ko like kiya hamne

    ReplyDelete
  5. मुझे एक इत्मीनान भरी मौत चाहिए। जो मुझे सुकून तो दे ही सभी के जीवन में जिससे राहत आए। जहर का प्याला कबूतर के गले की नीली गोटी जैसा होना चाहिए। हल्का गाढ़ा, पानी के ऊपर किरोसिन तेल सा तैरता हुआ। जीने में मरने की मिली हुई गंध सी और मृत्यु इतनी पुख्ता कि बीच का बचा जीवन...
    Aisa to shayad kisee yogee ko hee uplabdh hoga!

    ReplyDelete
  6. gulzaar ko laga dete hain yahan


    " सब पे आती है बारी- बारी से,
    मौत मुंसिफ है कमोबेश नहीं आती

    जिंदगी सब पे क्यों नहीं आती "

    Jiyo sagar ....jiyo :-)

    ReplyDelete
  7. khud ka khud se khud ke liye ..... ki gaiee tammana ...... to kuch ..... hum jaison pe..
    bhi nisar ho..........


    sadar....

    ReplyDelete
  8. "...मरना, मुर्गें की मौत की तरह नहीं चाहिए कि पंख नुच कर भी रह रह कर बदन कांपे, दोनों पैर बार बार झटकना पड़े और गला रेते जाने के बाद भी कुछ मिनट बाद तिलमिलाते हुए खत्म हों। "

    आपका लेखन सचमुच अद्भुत है...काव्यात्मक गध्य लेखन है आपका जो विलक्षण है...मरने की छटपटाहट को सार्थक अभिव्यक्ति देने पर बधाई स्वीकारें...

    नीरज

    ReplyDelete
  9. हैं भाईजान...
    उधर गिरिजेश जी और इधर आप...
    का भई दोनों मिलकर ई का मरने-सरने की बात कर रहे हैं...

    खूब लिखे हैं...

    ReplyDelete
  10. सिर्फ बिस्तर तक जाना होता तो कोई भी चला जाता.. लेकिन चप्पल खोलकर सिर्फ सागर ही जा सकता है.. बहुत खूब लिखा है और हेडर में गिटार वाली फोटो भी लाजवाब है दोस्त..!!

    ReplyDelete
  11. मौत को उतनी शिद्दत से चाहने वाले जितना जीवन को वो थाली से लेकर अन्तरिक्ष तक हिलते - डुलते ही मिलेंगे !

    ReplyDelete
  12. बेचैनी ही कुछ इस तरह की वसीयत में मिली है कि उम्मीद है कि पका कर खाए जाने तक भी किसी की थाली में हिलता डुलता मिलूंगा। - ये किरदार तो शत प्रतिशत आप ही हो साग़र :)

    कल पोस्ट पढ़ी थी तो अजीब सी कैफ़ियत तारी हो गई थी.. कुछ कहा नहीं गया... आज दोबारा पढ़ी तो बहुत सी चीज़ों के मानी बदले... बहुत सी बेचैनी में लिपटा हुआ थोड़ा सा सुकून मिला...

    ये पढ़ कर क़तील शिफ़ाई साहब का एक शेर याद आ गया -
    "आख़िरी हिचकी तेरे ज़ानों पे आये
    मौत भी मैं शायराना चाहता हूँ"

    ReplyDelete
  13. गद्य कहाँ...यह तो एक नज्म है जो गद्यात्मक ढंग से लिखा गया है....

    सारे शब्द अन्दर कहीं गहरे जाकर अनुगूंज बन कान और मस्तिष्क से टकरा रहे हैं....

    यूँ ये शब्द निकले भले आपकी कलम से हैं,पर एकदम अपने लग रहे हैं....

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ