Skip to main content

रूई का एक गीला फाहा, जादू और हथेली का ग़मगीन होना.



दुनिया जब हमें तनहा समझ रही थी हम कोहरे वाले पहाड़ पर किसी के प्रेम में गुम थे।



अंर्तमन से एक आवाज़ आती। कोई पुकारता मगर उसमें आने या बुलाने का आग्रह लेशमात्र भी नहीं होता। पर कुछ वजह रही होगी कि हम ओवर कोट पहन पहाड़ के आखिरी सिरे तक चले जाते। तुम वहीं मिलती। किसी पत्थर पर बैठे एक धंुधली सी तस्वीर की तरह तुम नज़र आती। एक चुप्पी भरा मौसम था। बहुत ठंडा प्रदेश और मैं रात भर का जागा था। सोने की कोई वजह नहीं थी। खिड़की की ज्यादा पारदर्शी और थोड़े धुंधले शीशे के पार से रात भर होते बर्फबारी या थोड़े थोड़े अंतराल पर होते बारिश को देखते देखते ही जैसे रात कटी हो। सोफे पर कोहनी के नीचे एक तकिया और इंतज़ार थोड़ी सुबह होने का। तुम्हारी आवाज़ जिसे रात भर खिड़की के उस पार घटते/होते देखना था। कभी कभी कैसा होता है प्रेम कि यही हमें अनंत, अतल धैर्य भी दे जाता है। मैं मानता हूं कि अभी स्थिति वैसी नहीं आई है कि तुम्हारे वियोग में ज़हर खा ली जाए या फिर अपने ऊपर मिट्टी का तेल डालकर माचिस मार ली जाए।

जैसे मस्तिष्क में कोई आॅडियो कैसेट चलता हो। हम रिवाईंड कर के सुनते हैं। भोर पहर नींद में किसी सुखद सपने जैसा कि कोई अचानक अधूरे ख्वाब पर उठा भी दे तो उसे जवाब दे करे फिर से सोने की कोशिश करते हुए सपने का छूटा सिरा फिर से पकड़ें। 

सिर्फ दो पैग पर काटी गई रात के बाद आंखों के सामने रात भर खिड़की पार तुम्हारी आवाज़। क्या तुम सोच सकती हो मेरी आंखें प्रतिक्रियास्वरूप कैसी हो सकती हैं? थोड़ी लाल? थोड़ी बोझिल ? होंठो पर हल्के हाथ लगाई गई लिपस्टिक का पहली लकीर ? मेरी चाल में कोई उद्विग्नता नहीं। मुझे कहीं और नहीं जाना। वहीं आना है उसी आखिरी सिरे पर जहां से दस कदम दूर तुम दिखो फजां में गुम सी। खुले बालों को अपने पीठ से हटाए एक कंधे के नीचे सरकाए हुए। थोड़ी झुकी हुई। और हल्की अधखुली पीठ। किसी खिड़की से झांकती हुई एक प्याली चाय का आमंत्रण देती आंखें। 

वादी की क्षितिज से बादलों के साथ उठती एक अति तीक्ष्ण सिम्फनी सी धुन ! तुम्हारे आर्कषण का डोर का अदृश्य धागा। चलना, चलना और दूर तक चलते जाना...। ओवर कोट में हाथ की अंगुलियों से उलझता लाईटर। किसी विश्वस्तरीय सिनेमा में का उस तरह का सीन जब कोई किरदार आत्महत्या के लिए बढ़ रहा हो और किसी अपरिभाषित मोह में।

धुंए का एक छल्ला निर्वात में मेरे ही सिर पर एक वृत्त बनता हुआ। दो कदम आगे बढ़ फिर पलट कर देखो तो वो वृत्त रूका हुआ। कोई हलचल नहीं। स्पंदनहीन। गवाह बनते चीड़ और देवदार। नुकीली पत्तियों पर रूकने का संघर्ष करता बर्फ। चिनारों के बीच आज कोई फुसफुसाहट नहीं, सबको मालूम कि कदम किस ओर मुड़े हैं। अत्यंत खुले वातावरण में भी एक आवरण में बंद पूरा अस्तित्व। भारहीनता का अनुभव जैसे अंतरिक्ष यान में...!

बहुत रेशमी फर वाले पक्षी का टूट कर गिरता हुआ पंख.... धीमे- धीमे तैरते हुए ज़मीन की ओर अग्रसर....

              ... निर्वाण।



सचमुच,

दुनिया जब हमें तनहा समझ रही थी हम कोहरे वाले पहाड़ पर किसी के प्रेम में गुम थे। 
और जब नहीं समझ रही थी तब हम अकेलेपन के सर्वोच्च शिखर पर थे और पहाड़ का नुकीलापन हमारे तलवों में चुभ रहा था।

Comments

  1. पता है साग़र... आज की पोस्ट को सिर्फ़ पढ़ा नहीं... उसे जिया... खिड़की के शीशे के पार गिरती रुई के रेशमी फाहों सी उस बर्फ़ को महसूस करा... आँखें भींच कर उस टूटे हुए अधूरे सपने को पूरा देखने की कोशिश करी... दूर कोहरे में लिपटी धुंधली सी उस आवाज़ को सुना... और उसके सम्मोहन में खिंची जब उस पहाड़ी के सिरे तक पहुंची तो सुबह के धुंधलके में सूरज उगने का इंतज़ार करते ख़ुद को पाया उस बेंच पर बैठे हुए... उस ख़ामोश फ़िज़ा में ख़ुद को बेहद हल्का महसूस करा... भारहीन सा... निर्वाण किसे कहते हैं नहीं जानती... हाँ ऐसा ही होता होगा कुछ !!!

    ReplyDelete
  2. P.S. : अपनी कलम को एक काला टीका लगा देना :)

    ReplyDelete
  3. कैसी होगी वो जिसे तुम सफ़ेद कागज पर लिख कर ये अफसाने भेजा करते हो!
    दिल्लगी दोनों से करते हो - मौत से भी, जिंदगी से भी. आशिकमिजाज सागर साहब...सच बताओ तुम्हें वाकई में किससे मुहब्बत है?

    'आशिकी सब्र तलब और तमन्ना बेताब
    दिल का क्या रंग करूँ खून-ए-जिगर होने तक'

    ReplyDelete
  4. सागर भाई..एक बार पोस्ट को इस लिए पढ़ा की वाक्य विन्यास की सुंदरता देखी जाये...फिर पढ़ा की जरा गहराई से समझा जाये..और एक बार फिर पढ़ा की फील किया जाये...पर अभी भी लगता है की एक बार और पढाना चाहिए...शायद मन भर जाये..पर जानता हूँ ऐसा नहीं होगा...बहुत ही उत्कृष्ट रचना ..ज़रा पूजा जी के सवाल का जवाब भी दिया जाये... :)

    ReplyDelete
  5. kya kahoon. itni roomaniyat hai .. itne jazbaat hain.. apribhashit rishte.. atript aakankshaye.. kalpana me sakshatkar..bahut kuchh hai isme jo bahut sundar hai. poora blog padhna padega.shukriya.

    ReplyDelete
  6. कोई एक सतत प्रवाह है..अजस्र..जिसका कोई उत्स नही हो..जिसके बीच जीवन जैसे घटित भर हो जाता हो..पुष्प के परागमय हो कर झर जाने तक..पानी के अचानक बरस कर प्यासी जमीन के गर्भ मे समा जाने तक भर का अस्तित्व..यार हमारा जीवन बस एक मृगतृष्णा भर होता है..जीवन भर प्यासे रहते हुए भी प्यास का पता नही चलता..खैर..
    और पूजा जी के सवाल से अपना भी इत्तफ़ाक है..हालांकि हमे मालूम है कि यहाँ आपके लिये जवाब मे कमेंट बाक्स के कैरेक्टर्स और आपकी अपनी स्मृति दोनो की सीमायें हैं ;-)
    और आपके सिनेमाई सीन और आखिरी लाइन से क्यारस्तामी जी का कुछ याद आया शिद्दत से..कभी बैरंग पर साझा करने की ख्वाहिश के संग (बाकी की हजारो लाखो चीजों की तरह) :-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

यही आगाज़ था मेरा, यही अंजाम होना था...

-1-
-2-


प्यार में कुछ नया नहीं हुआ, कुछ भी नया नहीं हुआ। एहसास की बात नहीं है, घटनाक्रम की बात है। हुआ क्या ? चला क्या ? वही एक लम्बा सा सिलसिला, तुम मिले, हमने दिल में छुपी प्यारी बातें की जो अपने वालिद से नहीं कर सकते थे, सपने बांटे और जब किसी ठोस फैसले की बात आई तो वही एक कॉमन सी मजबूरी आई। कभी हमारी तरफ से तो कभी तुम्हारी तरफ से।
सच में, और कहानियों की तरह हमारे प्यार की कहानी में भी कुछ नया नहीं घटा। प्यार समाज से पूछ कर नहीं किया था लेकिन शादी उससे पूछ कर करनी होती है। घर में चाहे कैसे भी पाले, रखे जाएं हम उससे मां बाबूजी और खानदान की इज्ज़त नहीं होती मगर शादी किससे की जा रही है उस बात पर इज्ज़त की नाक और बड़ी हो जाती है।
कोई दूर का रिश्तेदार था जो मुझ पर बुरी नज़र रखता था। मैंने शोर मचाया तो खानदान की इज्ज़त पैदा हो गई। और जब अपने हिसाब से जांच परख कर अपना साथी चुना फिर भी इज्ज़त पैदा हो गई। बुरी नज़र रखने वाला खानदान में था इससे इज्ज़त को कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन एक पराए ने भीड़ में अपने बांहों का सुरक्षा घेरा डाला तो परिवार के इज्ज़त रूपी कपास में आग लगने लगी।
और प्यार की तरह हमार…