Skip to main content

गीत हमारे प्यार की दोहराएंगी जवानियाँ


एक एरा जीने का मन होता है। कि जैसे उन्नीस की उम्र में श्री 420 देखे हफ्ता ही हुआ हो और बारिश से रिलेटेड कुछ फिल्मी और कुछ अपनी इल्मी दृश्य गंुथ रहे हों। मन निर्देशक और नायक दोनों हो चला हो। रही पटकथा लेखक की भूमिका तो वो बीत जाने के बाद किसी घोर विरह में निभाई जाएगी (जैसे कि अभी निभाई जा रही है)

तो बारिश ऐसी है कि हवा किधर से आ रही है आज अंदाज़ा लगाना मुश्किल है। पहले अंधड़ उठा, धूप छांव में बदला, फिर अंधेरा में, नारियल और ताड़ के पेड़ बड़े भोंपू की शक्ल में तब्दील हो गए। सड़क पर हवा के गोल गोल डरावने भंवर बनने लगे और लाइब्रेरी जाने के रास्ते में उस भंवर में सिमटते चले गए। लाइब्रेरी में कुछ खास नहीं करना था। कोर्स की किताबों को दरकिनार करते हुए आषाढ़ का एक दिन और धर्मवीर भारती को पढ़ते हुए दो यादगार प्रेम पत्र लिखने थे। प्रेमिका को इस सदी की सबसे महान और खूबसूरत खोज बताते हुए कुछ मौलिक इन्सीडेंट्स की याद दिलानी थी। परवाहों को किनारे रख कर अमर प्रेम करना था। पत्र में कुछ दृश्य यूं साकार कर देने थे कि लड़की अपना घर बार और हकीकत को भूल बैठे, हमारे पैरों की हवाई चप्पल तलवे पर कैसे घिसती जा रही  है यह तो भूले ही साथ ही बाली उमर में मुहब्बत का वो दीया जला दिया जाए कि कोरी चुनरिया पर कोई दूजा रंग ना चढ़े और खुदा ना खास्ता चढ़े भी तो बस आपकी ही याद आए। क्योंकि सुबह सुबह ही किसी प्रेम पुस्तक में यह पढ़ा गया है कि हर मर्द चाहता है कि फलाना औरत उसका पहला प्रेम हो और हर औरत चाहती है कि चिलाना मर्द उसकी आखिरी मुहब्बत हो।

कि अचानक काले बादल घिर आते हैं, एक कचोट उठता है दिल में। सब छोड़ कर बाहर निकल जाते हैं। जाने कहां चलते जा रहे हैं। वही भींगते पेड़, लजरते पत्ते। टप टप गिरती बूंद। एक एक बूंद में प्रतिबिंबित समूची सृष्टि। दिमाग में ढेर सारे फिल्मी सीन। राजकपूर कैसी निश्छल हंसी। कैसी विनम्रता। काहे की चालाकी। मन पर तो सादगी से ही छाया जा सकता है हमेशा के लिए। अबकी मिलेगी तो माफी मांग लूंगा। मिलेगी ? कहां ? कैसे? किस तरह ? हम्म ! वक्त क्या हुआ ? साढ़े बारह में लाइब्रेरी से निकले थे। बहुत अधिक तो पौने दो हो रहे होंगे। उसके स्कूल की छुट्टी हो रही होगी। अभी एम जी रोड से उसकी बस गुजरेगी। दिखेगी क्या ? अगर खिड़की किनारे हो तब? चांस लेने में क्या जाता है। चलते हैं। खिड़की खुली होनी चाहिए बस। मैं तो कैसे भी पहचान लूंगा। वो मुझे देख पाएगी, पहचान सकेगी ? इतनी जल्दी में ? क्या फर्क पड़ता है, मुझे अपने मर्ज का इलाज करना है। यूं मारे मारे फिरते और इस हालत में देखेगी तो उसे दुख ही होगा।

बस गुज़र चुकी है। लड़के को एहसास भर ही हुआ है कि उसने उसे देखा है बस एक क्षण के लिए। निकलना, भींगना, चलना सफल रहा। एक पेड़ के नीचे बैठा है। सिनेमा के कुछ सीन फिर हावी हो जाते हैं। मीनार की छत होगी, अंधेरा होगा बस एक हाथ तक की दूरी तक दिखने जितना प्रकाश होगा। बारिश होगी। ठंड से कांपते हम दोनों होंगे। मुड़ी तुड़ी गीली सिगरेट होगी। थरथराते होंठों से उसको जलाने की कोशिशें होंगी। नीचे हर जगह पर हम कैमरा रख देंगे। क्लोज अप जहां इमोशंस लेगा, लांग शाॅट कविता के रूप में तब्दील हो जाएगी। यादगार सीन हो जाएगा। यही तो है सिनेमा। भोगा हुआ सच और कसक को पर्दे पर उतारना। जो नहीं हो पाया यहां साकार कर देना। और जो हो सकता है अधिकाधिक संभावना को दिखा देना। मरे और बुझे हुए हृदय में भी प्राण फूंक देना। आखिरकार प्रेम का संदेश देना। यही तो है सिनेमा। वाह राजकपूर वाह। तुम्हारे बहाने हम कितना कुछ सीख रहे हैं जान रहे हैं। मैं जानता हूं मुझे ये लड़की नहीं मिलेगा। जिंदगी इतनी भी फिल्मी नहीं लेकिन यह एहसास... ! इसका कोई जोड़ नहीं। प्रेम का कोई नहीं।  
ये शहर जियेगा हमारे प्रेम में. लड़का हिलता है। चिल्ला उठता है - प्रेम का कोई जोड़ नहीं। जैसे किसी ने झकझोर दिया हो। 

अब शब्द नहीं सूझ रहे। जिंदगी भी कैसी होती है न। अचानक मिली खुशी पर चहक उठते हैं और जब बहुत जतन से कुछ पाते हैं तो संतुष्टि दिल में अजगर की तरह पसरती जाती है। नहीं मिलता है तो कहने को कितना कुछ होता है- आंख भर आंसू के साथ ढेर सारी शिकायतें, बेशुमार बेचैनी, खारा समंदर जैसी जुबान, व्यक्तित्व में कसैला व्यवहार। मिल जाए तो बस एक शांत चुप्पी। बहुत अधिक तो खुदा के लिए भी - शुक्रिया।

Comments

  1. कोर्स की किताबों को दरकिनार करते हुए आषाढ़ का एक दिन और धर्मवीर भारती को पढ़ते हुए दो यादगार प्रेम पत्र लिखने थे। प्रेमिका को इस सदी की सबसे महान और खूबसूरत खोज बताते हुए कुछ मौलिक इन्सीडेंट्स की याद दिलानी थी।

    आप प्यार में जीते हैं? छिः... गलत बात सर

    (Darpan Sah)

    ReplyDelete
  2. darpan...ab ye din aa gaye ki apni id se comment nahin kar rahe...galat baat sir :P

    ReplyDelete
  3. Haan Puja Don't know comment hi nahin hote pehle ke 2-3 comemnt bhi sagar ke wahan any-mouse se hi kiye hain. :)

    ReplyDelete
  4. :) :) bade log bade log...moderate kar dete hain lagta hai :D

    ReplyDelete
  5. ये गाने देख सिहरन हो जाती है, अब भी।

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …