Skip to main content

मुझको देखे बिना करार ना था, एक ऐसा भी दौर गुज़रा है




ठीक है, ठीक है आपने उसका गर्दन चूमा था और खुद को वहीं छोड़ आए हुए चार साल होने हो आए। लेकिन उससे क्या ? इस दौरान अड़तालीस महीने गुज़र चुके, कई मौसम गुज़र गए। आसमान में बादलों ने यहां से वहां तक और मुहल्ले के बच्चों ने इस छोड़ से उस कोने तक रेस लगाई। दुनिया में मंदी आई फिर इससे उबरते हुए फिर से मंदी की कगार पर खड़ी है। कई पड़ोस की लड़कियां भागी और गर्भवती होकर अपने घर को लौट आई। कईयों की रातों रात शादी हो गई। निषेध आज्ञा वाली ज़मीन पर घर उठ गए उनमें किराए लग गए। और आप प्यार का रोना रो रहे हैं ? लानत है आप पर ! छि:

आप कहेंगे लेकिन इस दौरान रेलवे ट्रैक पर बारिश होकर बह गई। कितनी ही गाडि़यां अपनी पटरी से उतर गई। दुनिया आखिर फिर से अपने पुराने खेमे में ही है न। लड़की किसी ने किसी से साथ ही है न। गिने हुए विकल्पों में आदमी जी या फिर मर ही तो रहा है न। लोग या तो कुंवारे या शादीशुदा ही तो हैं न। मौसम में जाड़ा, गर्मी, बरसात ही तो आई न और सबसे सबसे बड़ी बात प्यार करने के दौरान आप भी तो होंठ से पैर की उंगलियों तक होते हुए पुनः होंठ पर ही पर ही हो लौटे न। आपने कौन सी नई जगह ईज़ाद कर ली? 

मैं आपकी खुद की तय की गई यात्रा अर्थात् उपलब्ध्यिों पर हैरान होते हैं और आप मेरे दिनचर्या की यात्रा पर ताज्जुब जाहिर करते हैं।

आखिर अपने प्यार को अतीत में घटे हुए प्यार की याद दिलाना क्या लगता है आपको कितना शर्मनाक है यह ? क्या है आखिर में मन में ? उस एवज में कुछ और वसूल करना, अपनी शाम खराब करना या उसी रिश्ते को फिर से शुरू करना?

देखो मियां हर बूंद चाहता है कि वो उन हरे चिकने फलाना पत्तों पर रूका रहे। गोया प्यार करते रहना कभी कोई दुख तो रहा नहीं। अगर आप ऐसे में स्थान विशेष पर ही रूक कर मर जाना या वहीं अपनी कब्र खुदवाना चाहते हैं तो आपसे बड़ा चूतिया कोई नहीं। जिसे चूम रहे हो अब अगर उसकी भी रज़ा पूछो तो यही होगी कि नीचे फिसल कर थोड़ी देर में यह उपक्रम  खत्म करो।

तुमने कभी किसी आदमी को गौर से देखा है आजकल ? सभी इस्तेमालशुदा लगते हैं। वे इस्तेमाल होने और इस्तेमाल करने की आदत से लैस हैं। निहायत खूबसूरत इंसान सबसे ज्यादा इस्तेमाल हो रहा है। वहीं बला का बदसूरत आदमी भी बुरी तरह से इस्तेमाल हो रहा है। खैर छोड़ो... तुम अपनी ही बात करो, अगर तुम्हीं से ईमानदारी से पूछ लिया जाए कि सुबह से कहां कहां इस्तेमाल हुए और कितनों पर इसका फंदा डाला तो बगलें झांकने लगोगे।

इसलिए मेरी मानो दोस्त कोई किसी का हमेशा के लिए नहीं है। पल विशेष में कब, कौन, कैसे तुमसे टूट जाएगा कह नहीं सकता। 100 प्रतिशत कुछ नहीं है। कभी वक्त तो कहीं आदमी खुद से उत्प्रेरक (कैटलिस्ट) की तरह काम ले रहा है। 
हम बाज़ार में होने वाले और कर रहे अनेक सौदे हैं।

Comments

  1. करार तब भी नहीं था और करार अब भी नहीं चाहे कितनी तसल्ली, तर्क-वितर्क दिए जाएँ ...आज की जिंदगी के निर्मम सत्यों का खुलासा करने के बावज़ूद प्यार और दर्द के सैलाब का तल नज़र आ ही जाता है...

    ReplyDelete
  2. किस ख्याल में डूबकर ऐसे लिखते हो ?

    ReplyDelete
  3. sagar me kuch din pahle hi blog ki dunia se parichit hun ouraapki har post apana gindjinama lagati he mere vicharo ko itane acche sabad dene ko kya sabd du/

    ReplyDelete
  4. पल विशेष में कब, कौन, कैसे तुमसे टूट जाएगा कह नहीं सकता..कोई किसी का हमेशा के लिए नहीं है....SAch

    ReplyDelete
  5. GGShaikh said:

    वाह ! सागर भाई !
    क्या लच्छेदार गुबार निकाला है...वाबस्ता भी है यहाँ कुछ वास्तव...
    मर्ज़ी-बेमर्ज़ी का खेल है इस्तेमाली...
    आज की परिस्थितियों सी ही, कभी उलझी कभी सुलझी मनःस्थिति...
    तुम्हारी भाषा-लय तो हमें सदा से पसंद...

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे के रोने में चिल्लाहट ब…