Skip to main content

मैं धारक को पचास रुपए अदा करने का वचन देता हूँ



हां बाबूजी, पचास का नोट मैंने पूरा का पूरा बचा रखा है। बेशक दो दिन हो गए, मैंने अभी तक कुछ नहीं खाया है और अभी कम से कम तीन दिन इस बात की नौबत नहीं आने दूंगा कि इसके खुल्ले कराने पड़ जाएं। दिन के डेढ़ बज रहे हैं। और मैं ट्रेन के जनरल बोगी से लगे स्पीलर क्लास की बोगी से सटे बाथरूम के बाईं ओर दरवाज़े पर खड़ा हूं। 

हवा लू के गर्म थपेड़े लगाते हुए उल्टी बह रही है। मेरे बालों की मांग रोजमर्रा के की गई कंघी से उलटे दिशा में हो गई है। मैं राॅड पकड़ कर झूल रहा हूं। थोड़ी थोड़ी देर पर चक्कर आते हैं और बहुत संभव है मैं गिर कर बेहोश भी हो जाऊं लेकिन मैं इस बात की यकीन दिला देना चाहता हूं कि बेशक मैं कहीं भी गिरूं, चाहे वो नदी हो, पहाड़ हो, पुल हो, बाड़ा हो, खाई हो, या जंगल हो मैं अपनी मुठ्ठी से यह पचास रूपए का नोट छूटने न दूंगा। यह मेरा अपने पर असीम भरोसा ही कह लो कि मैं इस मामले में अपनी जेब पर भी भरोसा नहीं कर रहा। जेब से जुड़े अपने खतरे हैं। कोई जेब मार सकता है। मेरे पैसे खुद-ब-खुद कहीं गिर सकते हैं लेकिन अगर कोई मेरे इस मुठ्ठी में बंधा पचास का नोट छीनना भी चाहेगा तो उसे पहले मुझसे लड़ना होगा। मेरे बाजू में अभी उतनी तो ताकत नहीं, हो सकता है कि मैं मारा भी जाऊं। लेकिन मेरी मौत के बाद भी अगर मेरे हाथ से वो नोट खींचेगा तो दो टूकड़े में होकर ही उसके पास आएंगे। 

इससे पहले मैं आपको बता दूं कि मैंने यह मुंबई-कुर्ला एक्सप्रेस रेलगाड़ी पास के स्टेशन से नहीं बल्कि डेढ़ मील दूर वाले हाल्ट से पकड़ी। हालांकि वो हाल्ट है इस कारण वहां एक्सप्रेस गाडि़या नहीं रूकती अलबत्ता गाड़ी धीमे जरूर हो जाती है। रहा सहा काम बिना फाटक रेलवे क्रोसिंग पर थोड़ा थमकर चलने का ईशारा देते मेरे झंडे दिखाने वाले दोस्त ने कर दिया। यकीन जानो बाबूजी चलती ट्रेन से ज्यादा खतरनाक कोई विलेन नहीं होता। उसकी सीढि़यां कहीं भी सुविधाजनक नहीं होती। कई मीटर दौड़ने के बाद मैं उसका ऊपरी पायदान पकड़कर लटक गया। मेरे घुटने और जांघों पर उसके कस कर लिए गए चुंबन के निशान अब तक ताज़ा हैं और यह गहरे सुर्ख लिपस्टिक से भी ज्यादा लाल, रक्तिम और छलछलाई हुई हैं। और ताजादम इतना कि जैसे नदी के अभी-अभी पकड़ी गई मछली के गुलाबी-लाल गलफड़े। 

कुल मिला कर मेरी अब तक की यात्रा बेहद सुरक्षित, सफल और आरामदायक रही है जैसा कि प्लेटफाॅर्म पर उद्घोषिका कामना करती रहती है। सेम टू सेम। यह सब मैं आपको इसी दरवाज़े की राॅड पकड़ कर इस पर लरज़ता हुआ सुना रहा हूं। यह कोई हसीन लम्हा सा लग रहा है ऐसा कि मैं अपने पहले प्यार में हूं और बड़ी कोशिशों के बाद आज जब प्रेमिका को प्रपोज किया तो वो पहले थोड़ा शरमा कर, फिर हंस कर मान गई हो और अब मैं जो जीता वही सिंकदर में आमिर खान की भांति पहला नशा, पहला खुमार के अंदाज़ में पेड़ की डाल पकड़ कर हवा में उड़ने की कोशिश वाले सीन की नकल कर रहा होऊं।

रह रह कर ट्रेन हिलती है। जैसा भूखा इंजन चलता है। जैसे बहुत ही खटारा बस या आॅटो लोगों के लदी हुई बिना नकली पेट्रोल और बिन मोबिल की चिकनाई सा चलता हो। एक पटरी को छोड़ कर दूसरे से जा मिलती है। रास्ते जि़ंदगी की नई राह खुलते जैसे चलते हैं। आप गौर से पटरियों को देखते रहो और अचानक से वो उस सिरे को छोड़ देती है। अभी आप इस किनारे यानी सबसे आखिरी लेन में चल रहे हो तो अगले ही पल अपने को पटरियों के मझधार में पाओगे, फिर एकदम बाईं तरफ। तय किए गए सफर को पीछे पलट कर देखो तो यह स्टेज पर खेले जा चुके नाटक के बाद गिरा हुआ ताजातरीन पर्दा लगता है।यह भारी सी मशीन बड़ी ज़ालिम सी चीज़ होती है बाबूजी! यह काॅमिक्स के किरदारों के दिमाग में अचानक से नया आईडिया आने जैसा लगता है। रेल आशिक है कई पटरियों के साथ बेवफाई करती चलती है। यह गोन विद दि विंड के टाइटल जैसी है, खुद मंजिल पर पहुंचने के चक्कर में बड़ी ही प्रैक्टिकल लेकिन सबको नोस्टोल्जिक करने वाली। 

मुझे यह दिन सा प्रतीत हो रहा है कि मेरे चेहरे पर एक स्मित सी मुस्कान है। हालांकि मेरा गला सूख रहा है लेकिन मैं इस समय एक बेहद मीठा सपना देख रहा हूं। देख रहा हूं कि सड़क पर रहने, भूख पर विजय पाने और बेमतलब समंदर किनारे बेरोज़गार बैठे रहने के एक महीने बाद मुझे एक काम के एवज में बतौर एडवांस कुछ पैसे मिले हैं। मैं सदियो बाद ढ़ाबे के बाहर एक बेंच पर दोनों तरफ पैर लटकाए चाय बिस्कुट लिए बैठा हूं। खाने से ज्यादा उन दोनों को देखना हो रहा है। जि़दगी की रेलगाड़ी जाने किस प्लेटफाॅर्म पर ठहरी है कि गरीबी की सोहबत में पले बढ़े आदमी को ओबेराय होटल के सुईट न॰ 234 पर कहानी लिखने को मिला है। 

मैं कुछ भी करूंगा बाबूजी। इस काम को भी उस पचास रूपए की तरह पकड़ लूंगा। हरगिज़ इसे हाथ से जाने न दूंगा। यह सीन बिल्कुल असली है। माना कि वक्त उस्ताद है और इस नाते वह वज़नी राग छेड़ डरा रहा है। लेकिन मैं भी जुगलबंदी कर दिखा दूंगा कि मैं भी तुमसे ज्यादा नहीं तो बराबर का उस्ताद हूं।

शीशे के ग्लास की अंतिम घूंट पी कर बेंच पर रख रहा हूं, काठ की बेंच पर ग्लास की गोलाई उभर आई है। एक लहजे के लिए लगता है, सरकार ने जो नई वाली एक रूपए का सिक्का चलाया है, रखा है। काश कि उठा सकता। 

Comments

  1. पर उतने में क्या मिलेगा, इसका वचन नहीं है।

    ReplyDelete
  2. रेल आशिक है कई पटरियों के साथ बेवफाई करती चलती है। यह गोन विद दि विंड के टाइटल जैसी है, खुद मंजिल पर पहुंचने के चक्कर में बड़ी ही प्रैक्टिकल लेकिन सबको नोस्टोल्जिक करने वाली।
    Awesome Saagar Awesome...
    ..Entire Post !!

    ReplyDelete
  3. नये नये आईडिया ऐसे आते हैं !

    ReplyDelete
  4. महेन के बाद तुम्हे पढ़ा ....शीर्षक अपीलिंग है.....उम्मीदे बढाता है ..चित्र भी उसके पेरेलल है क्वालिटी में ....अंत उतना ही क्लासिक है इस पोस्ट का ....तुम्हे पढता हूँ तो लगता है प्रमोद जी की तरह अपने आप को ब्लोगर बनाये रखने का कोई दबाव नहीं है तुम पर ......as darpan rightly said..Awesome Saagar Awesome...

    ReplyDelete
  5. आज फुरसत मिली पचास का नोट भूनाने की... ग्लास- बोतल, आशिक, आशकी, प्यार, बेवफाई, मुंबई की रेल, ओबेराय होटल का सुईट...सौदा मिला हजारों का...

    ReplyDelete
  6. वाह जी इस पचास के चक्कर ने तो खूब घुमाया आपको.. माया है माया.. हम सब इसका हिस्सा..
    शुरुआती धुंध के साथ फिर यह पोस्ट भी आपकी रेल की तरह गति पकड़ती है और अपने गंतव्य पर सही सलामत पहुँचती है जैसा वो उद्घोषिका चाहती है..
    बढ़िया है...

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …