Skip to main content

इश्क के जिस्म का घुटना आगे से सख्त मगर पीछे से चिकना, बिना रोओं का रंदा पड़ा और अनछुआ है




(अंजुमन-ए-इस्लामिया के पार्क में बैठकर ...)

नज़ाकत बस नाम का ही नज़ाकत है। नाजुकी तो उसमें है ही नहीं। अल्ला झूठ न बुलाए यास्मीन लेकिन मुझे शक होता है कि मियां खत भी दूसरों का ख्याल सुनकर ही लिखते होंगे। हुस्ना के चेहरे पर का नमक नाक के पास तेज़ हो आया है। मिलावट भरी खफगी से संगुफ्ता से कहती है। खुदा जाने लिखते हैं या दूसरों से लिखवाते हैं। गोया यह भी कोई उमर है सैनिक की तरह सलामी देने की! अरे इतना भी नहीं जानते कि मुहब्बत को सलाम करना भी इश्क का एक रूमानी अंदाज़ है। सलाम यूं हो कि वजूद का पूरा हाल बयां हो जाए। हाल-ए-दिल नुमायां हो जाए और दिल के गोशे-गोशे में सिमटा पाक मुहब्बत इत्र बन पूरी वादी को महका जाए। पाकीज़गी का एहसास हो और... और मैं तो कहती हूं सलाम ऐसा हो कि बस यूं लगे कि कुछ पल के लिए सांस रूके भी, थमे भी। इक ज़रा देर दम घुटे, सांस खींचू और महसूस हो कि वो रूखसार को छूते छूते रह गया। 

बेशक वो रह जाए लेकिन एक शदीद किस्म की छूअन का एहसास हो। संगुफ्ता ने ऊपर कहे पान में जर्दा लगाया।
संगुफ्ता, संगुफ्ता यास्मीन जो अभी जाहिद के अचानक दिख जाने के बाद हुस्ना को कोहनी मारने ही वाली थी। लेकिन हुस्ना का संजीदा सा चेहरा देखने के बाद यह इरादा मुल्तवी कर दिया और बेइरादा ही कहने लगी साहबजादे तो मुझे भी बकायदा ठोक बजा कर सलाम करते हैं। कसम से हम तो तरस जाते हैं कि कोई हमें इस तरह सलाम करे जैसे बड़ी बेकरारी से पूरे महीने रोज़ा रखने के बाद चांद का दीदार करता हो। 

अच्छा एक बात बता हुस्ना यह इश्क जिसके बारे में हम अपनी अपनी तनहाईयों में सोचते हुए इतने शब गुज़ारे हैं कभी कभी जिस्म थरथरा उठता है, ऐसी ज़ालिम चीज़ क्या सबके साथ होती है या हमीं सोचे जाते हैं या हमारे आशिक के साथ भी होते होंगे ? संगुफ्ता कहती जाती है और हंसती जाती है। हुस्ना कहती है - भीड़ में तो तू बड़ी शर्माती फिरती है और यहां मेरे सामने बड़ी बेहया हुई जाती है। वैसे भी जाहिद मियां तो माशाअल्लाह बड़े करम वाले हैं, तेरे खातिर इश्किया शाइरी लिखते हैं वो क्या था - 

"तेरे पाजेब से रश्क होता है महजबीं, 
उसके चूमे से तेरे पैरों की हिना की सुर्ख हुई जाती है।
खुदाया एक हमीं है जो चाह कर भी दीद को तरसे हैं, 
वरना सारा शहर तो तिरे जिक्र की वादी में जीता है।"

मरहबा ! काश कि मैं बयां कर पाती तेरे दर्दीले जुबां से यह नज़्म सुनना हुस्ना कितना सुकून देता है। कितना बेहतर होता कि जाहिद मियां खुद यूनिवसिर्टी के जलसे में यह मेरी जानिब देखकर सुनाते !

हां तो फिर सिर्फ तू ही क्यों कई और नाजनीन उनपर आशिक ना हो जाती।

*****

हंसी बह चली है, पेड़ों में सरसराहट हो रही है। वक्त बह रहा है, पुरानी दिल्ली की तंग गलियों के मुहाने पर रिक्शे का जोरदार कटाव और अचानक से किसी पर्दानशीं का खुद पर झुक आता है। एकदम फिल्मी सीन जलेबी, समोसे की दुकान के जंगल से मस्जिद की रोशन मीनारों से छनकर निकलते बस किसी को देखने की फुरसत नहीं कमबख्त आती सर्दी में भी पान के चस्के लगने वाले दिनों में ले आता है। यहां से आगे बस दो दरवाज़े ही खुलते हैं। अब इसे उमर का दोष ही कहिए जो दिल जवान होने की जिद लिए बैठा है। यूनिवसिर्टी भाभी को छेड़कर देवर की तरह हंस उठा है। उमर का यह कौन सा दौर है जब हकीकत से हम कोसों दूर हो जाते हैं?

उम्र का यह कौन सा दौर है जब ख्याल गुलाबी होकर यूं नर्म हो जाते हैं ? उन लड़कियों को देखकर मैं भी सोच में पड़ गया हूं कि इसी धरती पर, इसी जीवन में क्या कुछ हो जाता है, होता जाता है! 

Comments

  1. घुटने के पिछले वाले हिस्से को अतीत समझा जा सकता है.


    एक पिन इधर भी :
    http://www.youtube.com/watch?v=jJbneiUIRgA

    ReplyDelete
  2. "तेरे पाजेब से रश्क होता है महजबीं,
    उसके चूमे से तेरे पैरों की हिना की सुर्ख हुई जाती है।
    खुदाया एक हमीं है जो चाह कर भी दीद को तरसे हैं,
    वरना सारा शहर तो तिरे जिक्र की वादी में जीता है।"
    वाह... पढ़ती हमेशा हूँ , कमेन्ट कभी कभी

    ReplyDelete
  3. heading yaani sheershak kamal hai, likhte to aap hain he kamaal...sahi hai इसी धरती पर, इसी जीवन में क्या कुछ हो जाता है, होता जाता है!

    ReplyDelete
  4. तुम साले गलत लाइन में फंसे हुए हो.......फुलटाइम लिखो.....

    Amazing man.....

    ReplyDelete
  5. दुआ-सलाम कैसे की जाए!... सुभानअल्लाह!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ