Skip to main content

कोई जिस्म के ताखे पर रखी डिबिया आँखों की रास कम कर दे



एक ने अपना भाई खोया तो दूसरे ने अपना घर। कभी कभी मन थकने, उसमें शून्य भरने और दुनिया बोझिल लगने के लिए दिन भर के दुख की जरूरत नहीं होती। खबर मात्र ही वो खालीपन का भारीपन ला देता है। कोई पैर झटक कर चला जाता है और पहले से खोखली चौखट के पास उसकी धमक बची रह जाती है जो उसके अनुपस्थिति में सुनाई दे जाती है।

एक ही हांडी में दो अलग अलग जगह के चावल के दाने सीझ रहे थे। तल में वे सीझ रहे थे और ऊपर उनके सीझने का अक्स उबाल में तब्दील हो रहा था। ऐसा भी नहीं था कि वे सबसे नीचे थे। सबसे नीचे तो आंच थी जो उन्हें उबाल रही थी। बदन जब सोने का बन रहा था तो मन तप रहा था। शरीर इस्तेमाल होते हुए भी निरपेक्ष था। शरीर भी क्या अजीब चीज़ है, भक्ति में डालो ढ़ल जाता है, वासना में ढ़ालो उतर जाता है। कई बार उस मजदूर की तरह लगता है जो घुटनों तक उस गाढ़े मिट्टी और पानी के मिश्रण में सना है, एक ऐसी दीवार खड़ा करता जिसमें न गिट्टी है और न ही सीमेंट ही।

क्या दुख पर कोई कवर नहीं होता या हर कवर के नीचे दुख ही सोया रहता है? क्या दुख हमारे सिरहाने तकिया बनकर नहीं रखा जिसपर हम कभी बेचैन और कभी सुकून की नींद कवर और करवट बदल बदल कर सोते हैं।

आज तकलीफ ऐसे ही पेड़ में मरोड़ की तरह उठा। इतना केंद्रित कर गया जैसे जिस्म के बहुत संवेदनशील और उत्तेजित करने वाले हिस्से पर अपनी जीभ से पेशेवर खिलाड़ी की तरह खेल गया। संगीत के किसी अनजाने लय पर हौले हौले, गोल गोल घूमता। और इस दरम्यान हम जो अपनी दांत पर दांत रखकर, तकिये को अपनी उंगलियों से भींचे रहे। सोचिए तो क्या हम यही चाहते थे कि कोई हमें बेबस कर दे। अपनी बांहों में भर कर चकनाचूर कर दे। ख्याल जो हल्दी की गांठ की तरह मेरी जड़ में है उसे सिलबट्टे पर रख कर पीस दे। कि जैसे श्लोक झरते हैं  विद्वान के मुंह से। कि जैसे कोई तुतलाता हुआ बच्चा अपने पूरे नाम को दोहराता है कोई हमें भी वैसे ही घोर कर पी जाए। एक ज़रा अपनी साड़ी उठाए और हमें अपने जांघों पर रख मरोड़ कर डिबिए की बाती बना दे। उसे हटाने और आनंद लेने के बीच मेरा मन। ताकत नहीं जिस्म में कि इंकार कर सकूं। इच्छा नहीं ऐसे समय में ऐसा महसूस हो। तो अंदर के सूनेपन को हम कई बार बाहर से भर लेते हैं।

मन जो हुलस कर ज्वार की तरह उठता है और नाउम्मीद होकर भाटे की तरह गिरता है। शरीर जो चाहता है कि कोई शेरनी आए और हमें अपने दांतों में पकड़ किसी सुरक्षित स्थान पर छोड़ आए। तो ऐसी तो कोई जगह नहीं। हमें शेरनी नहीं बिल्लियों से प्यार होता रहा। मगर ऐसा क्यों होता है बाबू कि प्यार उसी से होता है जो दिल पर चोट लगाता रहता है। हमारे दिल पर अपने पंजों के निशान छोड़ जाता है।

वो ऐसी थी कि उसने होश में कभी संसर्ग नहीं जाना था। मैं ऐसा हूं कि अपने होश उस पल के लिए बचाकर रखता कि मेरी बांहों में पागल होने पर वो कैसी दिखती है। मैं अपनी होश खोने का नाटक कर उसे बेहोश करता और होशमंद बना रहता। क्या मैं कोई नाटककार हूं जिसमें कई चरित्र हैं फिर भी मेरी नज़र में सब सफेद हैं? उसका एक किरदार था फिर भी उसने कई रंग दिखाए।

डायरी - अंश

Comments

  1. रंगों में रंगी किरदारों की लंबी श्रंखला, सुन्दर चित्रण

    ReplyDelete
  2. अंतरजाल की आवारगर्दी के दौरान एक्सीडेंटली आपके ब्लॉग से मुठभेड़ हुई,शब्द चित्र दिलचस्प जान पड़े तो कई पोस्ट खंगाल डाले...ये तो नहीं कहूंगा कि मैं उनसे बेतरह प्रभावित हुआ हूं..इतना ज़रूर है उनमें निहित सृजनात्मत्मक स्पंदन ने दिल के दरवाजे पर दस्तक दी है..आजकल किसी लिखे हुए को पढ़ते हुए ऐसा कम ही होता है। आपकी लेखनी से ऐसा लगा कि हद दर्जे की जटिलता और बेतरतीबी के कायल हैं आप...अगर ये अनायास होता है तब तो बहुत अच्छा है लेकिन बौद्धिकता के बियाबान में इस क़दर भटक गए हैं कि यथार्थ का नखलिस्तान मिल नहीं पा रहा तो साहब....ये शाब्दिक वाग्जाल थोथा और निरर्थक ही कहा जाएगा...

    ReplyDelete
  3. Nice post.
    Inspirational Quotes to Inspire You to Be Successful.

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …