Friday, March 15, 2013

बिलबिलाया घूमा करता है नेवला


और चूहे बिल्ली की तरह हम दूसरे पर टूट पड़े। अपने अपने दायरे की सारी बातें भूलकर। वो क्षण सिर्फ मेरा था, वो क्षण सिर्फ उसका था। कभी मैं उसकी बाहों में था तो कभी वो मेरे आगोश में थी। हमले ज़ारी थे। वो बदहवाश सी थी और मैं केवल उसे जीत लेना चाहता था। उसके बदन के खड़े हो गए सारे सुनहले भूरे रोएं को सहलाकर शांत कर देना चाहता था। उसकी गोरी गुदाज बाहों पर च्यूटी काटना जैसे एक नीली तितली का कुछ क्षण के लिए उग कर मिट जाना। हम दोनों ने अपनी पूरी इसमें ताकत झोंक रखी थी। यहां हारना भी जीतना था। यह हिंसा भी बाप से मार खाने की तरह अधिकार सुख था। ऐसा लगता था जैसे मैं नगरपालिका द्वारा लगवाया गया टूटा नल होउं जो अब टूट गया है और वो झुग्गी झोपड़ी में रहने वाली स्थानीय निवासी जिसे मानसिक असुरक्षा इतना सताता है मानो पानी अब तीन चार दिन नहीं आने वाला सो वह पति के खाली किए जा चुके शराब की बोतलों तक में पानी भर रही हो। वह भी मुझको वैसे ही बरत रही थी जैसे मैं फिर उसे नहीं मिलने वाला। हम दोनों एक दूसरे को रौंद रहे थे। वो जांघें जो मेरी हसरत थे आज उस पर मेरी उंगलियां वहां मचल रही थी। उसकी पीठ दोपहर में नदी किनारे की पत्थर हो आई थी जिस पर प्यासी मछलियां मारे प्यास के पटपटाकर अपना मुंह रगड़ते मरती हैं।

मैं अक्सर सोचता कि कैसे उसका पति उसे संभालता होगा। बहुत सारी लड़कियों को टूट कर प्यार उसका पति नहीं सिर्फ उसके आशिक ही कर सकते हैं। कहां चूम पाता होगा उसका पति पूरी तरह उसे। क्षणिक इंटेंसिटी और अमर इंटेंसिटी में बेपनाह फर्क होता है।

उसकी आंखें पत्थर की हो आई थीं। पलकें जों खुल और बंद हो रही थी तो लगता वे मानो नीले कंचे हों जो इस तरह घूम रहे हों जैसे किसी ने अमानिका उंगली से उसे साधा हो। चन्न से वो अपनी ही जगह पर घूमती रही हो।  वो भरी भरी जांघें जो चूड़ीदार पाजामें में समंदर के हिलोरें जैसे लगती और जिसके बारे में चंद पल सोचते ही लगता मैं कपड़े उतार कर पानी में गले तक खड़ा हूं। सांसे बाधित हो जाती। लगता हवा की जगह पानी ही श्वासोच्छवास बन गई है। पानी की सांस ले रहा हूं पानी ही छोड़ रहा हूं। और पानी हिलोरें मारती शार्क की तरह पूरी ताकत से मेरे ऊपर एक भरपूर ताकतवर प्रहार करने वाली है। एक वार और काम तमाम। एक डर मिला रोमांच।

वे होंठ जिसे मैं अपने तनहाई के पलों में सोचा करता कि काश कभी मौका लगे तो इन होठों को इसी मुद्रा में चूम सकूं। या फिर कितना अच्छा होता अगर इसके होंठों का कटाव हमेशा ही ऐसा होता।

वे मोटे ओठ जो बनैले फूलों के बीच रहकर खिले हुए गुलाबों की तरह हो आए हैं जो लाॅन में बेदखल हैं जहां बाथरूम के फटे हुए पाईपों से पानी टपकता रहता है, खिड़की के उन छज्जों को फाड़कर जहां पीपल के पौधे उग आते हैं, जहां औरतें इस्तेमाल की हुई सेनेटरी नैपकिन फेंकती हैं, जिन जगहों के देखभाल माली नहीं करता। घर में ही वर्जित स्थल।

और पूरी तरह जब वो मेरी गिरफ्त में आई, जब उसपर आसमान बनकर मैं छा गया। घना बादल बनकर उस धरा पर मैं घुमड़ घुमड़ कर बरसने ही वाला था कि उसने मेरा नाम पुकारा। सागर... सागर.... सागर.... मेरे अच्छे सागर.... सिर्फ मेरे सागर। ऐसा कहते हुए उसकी उंगलियां कभी मेरे कानों के पीछे होती कभी मेरे बालों में, आँखों में स्नेह के महीन-महीन रेशमी धागे लिए हुए। 

सहसा मुझे एहसास हुआ, अब एक ऐसी लड़की जिसे किसी बात की जल्दी नहीं है. जो मेरी है सदियों से, वहीँ है, वहीँ तो है हमेशा से, उसे कहीं भी तो नहीं जाना है। लगा बदन के समंदर में डूबने से कहीं गजब है प्रेम भरे संबोधन में डूबना। एक थकी, लरज़ी हुई, आप पर हारी हुई आवाज़। चीनी की भारी चाशनी में सूखे और खोखले मैदे की तरह डुबकी लगाते तुम।

यकीन हुआ कि हमें एक पतली, कोमल, मादा आवाज़ आवाज़ की तलब होती है जो हमार सारे जटिलताओं और तकलीफों को सोख ले। जिसे सुनकर सारी थकान किसी पके हुए घाव से मवाद की तरह बह निकले।
तब जब उसके उभार एकदम सामने हों, जिंदा और गुदगुदे, फड़फड़ाते, किसी हवादार दिन नाव के भरे भरे पाल सरीखे। जिसकी चाहत में कई रातें ज़ाया की गई हो। हस्तमैथुन करने की तमन्ना हो मगर दिमाग में ज़ारी लड़ाई के बायस वो सफल न हो पाएं। जिसकी आंखों की लहक के आगे वो निस्तेज हो जाए। जो जब वहां से उठ कर जाए तो उसके स्पर्श तक फरेब लगे मगर सबूत सिर्फ इतना हो कि बिस्तर पर चार पांच सौंधे सौंधे उसके सीधे टूटे हुए बाल हों। जिसके चले जाने के बाद लगे क्या कोई आया भी था मेरे जीवन में?

वो खुन्क-खुन्क हाथ..... जो हाथ में हो तो लगे कि झूठे हैं, वो पारदर्शी शीशे सा बदन जिससे गुज़रे तो लगे कि सपना हो। वो आंखों में जानी जानी सी छवि जिसे जितना जीते जाएं झूठ की शंका बढ़ती जाए।

कई बार लगता है प्रेम सिर्फ एक मंच भर है जहां बाकी सभी किरदार झूठे हैं और बस हमें ही एकल प्रस्तुति देनी है।

क्या होता है आखिर संभोग, समंदर, जीवन और प्रेम में ? लील ही तो लिया जाना।

No comments:

Post a Comment

Post a 'Comment'

Friends

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...