Skip to main content

इ एम आई


मानो जिंदगी एक पज्ज़ल हो, बहुत तनहा हो, और जिम्मेवारी से भार से लदी फदी भी। ऐसे में वह अपने अपने अंतरतम से कनेक्ट हो गया हो। दुनिया के अंदरूनी सतह पर एक दुनिया और चलती है जिससे वह जुड़ गया हो। जहां खामोशी ही प्रश्न हो, चुप्पी ही उत्तर, मौन की बेचैनी हो। खामोशी ही वाक्य विन्यास हो, यही व्याकरण हो। मास्टर ने नंगी पीठ पर कच्चे बांस की लिजलिजाती करची से सटाक दे मारा हो और शर्त यह हो कि उस जगह जहां तिलमिलाते हुए हाथ न पहुंचे वहां नहीं सहलाना हो। 

वह लगातार फोन कर रहा है। मजाज़ का शेर चरितार्थ हो बहुत मुश्किल है उस दुनिया को संवरना, तेरी जुल्फों का पेंचो खम नहीं है। रिवाॅलविंग चेयर पर एक कान से फोन का रिसीवर चिपका हो और दूसरा हाथ हवा में जाने क्या सुलझा रही हो। जीने के कितने पेचीदा गुत्थी हो, मसले रक्तबीज हैं। अपने मसाइल सुझल नहीं रहे, ग्राहकों की वित्तीय समस्या सुलझाई जा रही है।

कि अचानक एक अधिकारी आवाज़ देकर बाॅस के चेंबर में बुलाता है। बाॅस का केबिन? प्राइवेट नौकरी यानि चैबीस घंटे गर्दन पर लटकती सलीब। दिखावे से शरीर से आॅफिस में उपस्थिति के बारह घंटे। प्राईवेट नौकरी की जैसी अपनी एक सरहद है, और आप मानो फौजी। बाकी के बारह घंटे भी मन से ड्यूटी पर। बाॅस अपने केबिन में क्यों बुला सकते हैं। आलम यह है कि नौकरी के लिए सर भी कटा दो तो बाॅस संवेदनहीन होकर बोले - यार इतने सालों के बात बात पर सर कटाई है लेकिन देखो इसे ठीक से सिर कटाना भी नहीं आया। मर गया लेकिन काश हमारे कंपनी के लिए खून भी देता जाता। फिर वो अगले वित्तीय वर्ष में इस बिंदु पर विचार करने के लिए भी कोई कोड आॅफ कंडक्ट लागू करेगा। खैर.... 

वह केबिन में जाता है। मन में एल लाख सवाल है। सिर्फ सवाल ही तो है। उफ सवालों का शोर कितना है? इतना है कि चमड़ी मोटी हो गई है। गलाकाट प्रतिस्पद्र्धा के दौर में इमोशन पर काबू रखना एक खास व्यक्तिगत गुण है जो कम्पटीशन सक्सेस रिव्यू सहित अमरीकी प्रबंधन संस्थाओं में तरक्की के लिए पढ़ाया जाता है। यह व्यक्तित्व विकास की सीढ़ी है। बाॅस नायक के शर्ट की तारीफ करता है। नायक बाॅस की बात को ज़ारी रखता है। बाॅस नायक को बैठने को कहता है। यहां से नायक के जुबान का संपर्क उसके दिमाग से कट जाता है। वह सिर्फ शिष्टाचार के नाते धन्यवाद ज्ञापित करता है। लेकिन उसके मन में सवाल वही है 7 क्या अब इस टुच्ची सी नौकरी से भी (अल्लाह माफ करना यही इस वक्त भी भगवान है) हाथ धोना पड़ेगा? 

कि अचानक आने वाला एक एक लम्हा स्लो मोशन में बदल जाता है। अरे ये क्या हुआ ? कैसे हुआ? यह भला हो कैसे सकता है ? क्या कान जो सुन रहा है, दिल उसे समझ भी रहा है? कहीं संघर्ष के नीले सपने उसे दिन दहाड़े सच में नहीं आने लगे? मैं सच्चा हूं या जग झूठा है? यह दृश्य हो भी रहा है या नहीं? 

बाॅस उसे कल से पक्की नौकरी पर रखने का प्रस्ताव रखता है। नायक के अंदर एक उत्तेजना सी उठी है। प्रशांत महासागर के गर्त में समाए किसी ज्वालामुखी में कोई वलवला सा उठा है। काश दिल से भी मैग्मा निकलकर पूरी धरती को पिघलाता हुआ वह देख सकता। यह प्रतिक्रिया व्यक्त कैसे हो? शब्दों में तो संभव नहीं। इस वक्त तो मुठ्ठी इतनी कसी कि दीवार को बारीक बुरादों में बदल दे। लोहे की छड़ चकनाचूर कर दे। गैर इरादती तौर पर मा....द....र.....चो.......द ही बोल दे। और ऐसा बोलते हुए उसकी वाइस उत्तेजना को व्यक्त करते हुए क्रैक हो। लेकिन फिर वही बात..... इमोशन पर कंट्रोल, व्यक्तित्व का विकास। लेकिन दिल तो है न संगो खिश्त....... सो प्रस्ताव सुनकर आंखों में आंसू भर आते हैं। पलकों का दरया छलकने को ही होता है। कपोल सहित गाल फड़कने लगते हैं। मन करता है एक मुक्का टेबल पर दे मारे और कहें - यस! या किसी बाॅलर द्वारा मिडिल स्टंप उखाड़ने पर जैसी प्रतिक्रिया दें और कैमरा उसे रिवांइड मोड में दिखाए। 

हम मध्यमवर्गों के लिए नौकरी यही चीज़ है। देवता। फरिश्ता। खुदा। इसके आगे सब हारे हैं। नतमस्तक हैं। इसी से सभी संभलते और संभाले जाते हैं। यही हमारे लिए अध्यात्म है। इसी से हमारा दुख भी जश्न मनाता है। इसी से हम राजा हैं। इसी से दुनिया चूतिया है। इसी के कोई मां का लाल हमारा कुछ नहीं उखाड़ सकता। यही हमारा हैप्पीनेस है। 

अपने व्यक्तित्व में कितने भी बगावती हों। यहां का बगावत माघ की रात में अंगीठी सेंके जाने बाद उस पर उलटा दिया एक लोटा पानी है।

द परस्यूट आॅफ हैप्पीनेस का यह अंतिम टुकड़ा देख कर उठा हूं। रात के एक बजकर तीन मिनट हो रहे हैं। बेचैनी सी महसूस हो रही है। बाहर बारिश है। ऊंचे लैम्पपोस्ट की गंदलाई रोशनी में बारिश रूई के फाहों सी झर रही है। हथेली पर कुछ बूदें लेता हूं। ये फाहे ठंडी हैं।

फिल्म के क्रेडिट्स उभर रहे हैं। प्रकृति नहीं बदली है, हमारी प्रकृति बदल गई है।

Comments

  1. कौन कहता है कि मुनीमों और लालाओं का ज़माना चुक गया। जिंदगी की इ एम आई इतनी तगड़ी है कि बाकी सब दूर की कौड़ी है।

    इ एम आई चुकाने में ही हम दो कौड़ी से भी सस्ते हो गए।

    ReplyDelete
  2. बिल्कुल सच कहा सागरजी ..इ एम आई चुकाने में ही हम दो कौड़ी से भी सस्ते हो गए .. काफी कुछ हम प्राइवेट सर्विस वालों दर्द बयाँ किया .. बहुत बढ़िया लगा ये लेख।

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

यही आगाज़ था मेरा, यही अंजाम होना था...

-1-
-2-


प्यार में कुछ नया नहीं हुआ, कुछ भी नया नहीं हुआ। एहसास की बात नहीं है, घटनाक्रम की बात है। हुआ क्या ? चला क्या ? वही एक लम्बा सा सिलसिला, तुम मिले, हमने दिल में छुपी प्यारी बातें की जो अपने वालिद से नहीं कर सकते थे, सपने बांटे और जब किसी ठोस फैसले की बात आई तो वही एक कॉमन सी मजबूरी आई। कभी हमारी तरफ से तो कभी तुम्हारी तरफ से।
सच में, और कहानियों की तरह हमारे प्यार की कहानी में भी कुछ नया नहीं घटा। प्यार समाज से पूछ कर नहीं किया था लेकिन शादी उससे पूछ कर करनी होती है। घर में चाहे कैसे भी पाले, रखे जाएं हम उससे मां बाबूजी और खानदान की इज्ज़त नहीं होती मगर शादी किससे की जा रही है उस बात पर इज्ज़त की नाक और बड़ी हो जाती है।
कोई दूर का रिश्तेदार था जो मुझ पर बुरी नज़र रखता था। मैंने शोर मचाया तो खानदान की इज्ज़त पैदा हो गई। और जब अपने हिसाब से जांच परख कर अपना साथी चुना फिर भी इज्ज़त पैदा हो गई। बुरी नज़र रखने वाला खानदान में था इससे इज्ज़त को कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन एक पराए ने भीड़ में अपने बांहों का सुरक्षा घेरा डाला तो परिवार के इज्ज़त रूपी कपास में आग लगने लगी।
और प्यार की तरह हमार…