Skip to main content

मरती हुई मछली याद में ज़िंदा रह जाती है


17.03.12 at 11:52 PM

आज अनजाने में ही ए का हाथ मेरे हाथ से छू गया। छुअन को लेकर मुझे लगता है कि हार्ड टच उनता अहम नहीं होता जितना किसी की त्वचा के साथ हमारे त्वचा के रोएं भर स्पर्श करें। इस सिलसिले में मुझे याद है तब मैं बारह की थी और सातवीं में पढ़ रही थी, लंच से ठीक पहले चौथे पीरियड में मृगांक ने एक लंबी गर्म सांस मेरी गर्दन पर छोड़ते हुए मेरे कान की लौ पर अपने नाक से एक धीमा सा स्पर्श कराया। मैं सिहर उठी थी। वो मेरी पहली सिहरन थी। छुअन का वो रोमांच मुझे आज तक याद है।  

खैर......आज के इस स्पर्श से हमदोनों ही चौंक गए। हमने खुद को एक दूसरे से एक झटके से अलग किया। जब भी हमारी नज़र मिलती, हम एक दूसरे को तौलते, बैलेंस्ड बनने की कोशिश करते। फिर रिपोर्ट को समझते समझते मैंने बनावटी गुस्सा अख्तियार किया तो ए पूरी तरह सहम चुका था। मुझे उसका यूं डरना अच्छा लगा।

22.04.12 at 8: 47PM

कल शाम ऑफिस से जल्दी पैक अप हो गया। मैं हूमायूं के क़िले को चली गई। जाने क्या मन हुआ कि मैं किले के अंदर न जाकर बाहर पार्क में ही टहलने लगी। आसमान बहुत गहरा नीला था। नीती जैसे अपने कैनवस पर नीले रंग के ताज़े गीले कलर का इस्तेमाल करती है। मैंने देखा कि आसमान में किले का गुंबद अकेला है। शम्मी के पेड़ के पत्ते मेंहदी के रत्ती रत्ती की तरह बिखरे हुए हैं। पेड़ों के झुटपुटे में कालिमा बढ़ने लगी। एक पेड़ है जिसका नाम मैं नहीं जानती (वैसे तो बहुत से ऐसे पेड़ है जिसका नाम मैं नही जानती) इस पर शाम को कई बड़े पक्षी चील और गिद्ध कयाम करते हैं। ये पक्षी दिन भर जैसे अपने डैने आकाश में फैला कर उड़ते हैं रात को वैसे ही चुप्पा बनकर सिर झुकाए रहते हैं जैसे कोई शुर्तुमुर्ग रेत में अपना सर धंसाए रहता है। तब मुझे इनकी लघुता का एहसास होता है। कोई भी हर जगह बादशाह नहीं होता। मैं प्रकृति की खूबसूरती निहार ही रहती थी कि शाम का धुंधलका कब बढ़ आया पता नहीं चला। शाम रात में बदल गई। 

मैं भी मैं कहां रही!

06.04.12 at 1:28 AM

सीसीडी में आज गर्ग ने अपना हाथ मेरे हाथ पर हिम्मत कर रख ही दिया। मैंने चाहा कि हटा दूं। सो इस दौरान हुए रिएक्शन में मैं हल्का सा कुनमुनाई मगर फिर रहने दिया। मुझे लगा कि मुझे गर्ग के इस टच को समझने की कोशिश करनी चाहिए। उन नज़रिए से नहीं जो मैं उसके बारे में प्रत्यक्ष और अप्रत्यक्ष रूप से रखती आई हूं। उस एंगल से भी नहीं जिसके दायरे में वो मेरे लिए पहचाना है। मैंने उसके टच को गर्ग के अस्तित्व से आज़ाद कर महसूसने की कोशिश की। मुझे उसके टच में एहसास और आत्मीयता की वो ऊष्मा महसूस नहीं हुई। एंड देन आई रिअलाइज्ड कि गर्ग इज़ नॉट फार मी। ये भी लगा कि कई बार हम बस पहचान के लोगों के साथ, उसकी आंखों में अपने लिए इज्जत की खातिर, उसकी दोस्ती को तरजीह देते हुए हम उसके साथ सहानूभूति से पेश आते हैं, या फिर दयनीय नज़र से उस भावुक रिश्ते को देखते हैं। डोंट नो डैट मैं खुद को समझा पा रही हूं या नहीं मगर मेरा दिल कह रहा है कि इस चीज़ को जो मैं इस वक्त लिख नहीं पा रही हूं वो बस समझ रही हूं। मुख्तसर बात ये कि प्यार में हमें किसी पर एहसान नहीं करना चाहिए और साथी के साथ और स्पर्श को आज़ाद ख्याल से सुनना चाहिए। अपना मनोभाव उसमें मिक्स कर उस रिश्ते को अपने ऊपर हावी नहीं होने देना चाहिए।

22.05.12 at 4:12 PM

डियर डायरी!
या... या.... यप्प.....। आई नो। आई नो। लांग टाईम नॉट रिटेन। बट मिस्ड यू सो मच। तुम्हारी याद तब तक आती रहती है जब तक तुमसे भागती रहती हूं। और अब.... अब तो बस तुम्हें जी रही हूं। इससे पहले कि भूल जाऊं कुछ बिंदु लिख लूं।

  • काग़ज़ कलम का क्या रिश्ता है? तौलकर बोलना क्या प्यार ?
  • आखिरकार सबको अपने घर ही लौटना है। और
  • मरती हुई मछली याद में ज़िंदा रह जाती है।
लव एन हग्स :)
S

Comments

  1. 'आखिरकार सबको अपने घर ही लौटना है।'

    सच है, लिख गया है "डियर डायरी" में, पढ़ा गया, अब याद रह जाएगा यह बिंदु, बिन्दुवत!

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

यही आगाज़ था मेरा, यही अंजाम होना था...

-1-
-2-


प्यार में कुछ नया नहीं हुआ, कुछ भी नया नहीं हुआ। एहसास की बात नहीं है, घटनाक्रम की बात है। हुआ क्या ? चला क्या ? वही एक लम्बा सा सिलसिला, तुम मिले, हमने दिल में छुपी प्यारी बातें की जो अपने वालिद से नहीं कर सकते थे, सपने बांटे और जब किसी ठोस फैसले की बात आई तो वही एक कॉमन सी मजबूरी आई। कभी हमारी तरफ से तो कभी तुम्हारी तरफ से।
सच में, और कहानियों की तरह हमारे प्यार की कहानी में भी कुछ नया नहीं घटा। प्यार समाज से पूछ कर नहीं किया था लेकिन शादी उससे पूछ कर करनी होती है। घर में चाहे कैसे भी पाले, रखे जाएं हम उससे मां बाबूजी और खानदान की इज्ज़त नहीं होती मगर शादी किससे की जा रही है उस बात पर इज्ज़त की नाक और बड़ी हो जाती है।
कोई दूर का रिश्तेदार था जो मुझ पर बुरी नज़र रखता था। मैंने शोर मचाया तो खानदान की इज्ज़त पैदा हो गई। और जब अपने हिसाब से जांच परख कर अपना साथी चुना फिर भी इज्ज़त पैदा हो गई। बुरी नज़र रखने वाला खानदान में था इससे इज्ज़त को कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन एक पराए ने भीड़ में अपने बांहों का सुरक्षा घेरा डाला तो परिवार के इज्ज़त रूपी कपास में आग लगने लगी।
और प्यार की तरह हमार…