Skip to main content

फिलहाल सिसकी......

अजीब बात है। आप किसी से कहां तक नाराज़ रहोगे, इस ज़माने में। नारियल का सा तो दिल है आपका। अंदर से श्वेत और कोमल और ऊपर से इगो। ऐसे में गर नाराज़ होते हो तो तुम्हारी मर्जी। हो जाओ। न तुमसे वो राब्ता रखेगा कि तुम अपनी नाराज़गी उस तक पहुंचा सको। न तुम गुस्से के मारे उससे वास्ता रख पा रहे होगे। इससे ज़ाहिर ही न कर सकोगे। तो बहुत दिनों बाद घुमाफिरा कर बात वहीं पहुंचेगी कि तुम्हें मुस्कुराना ही पड़ेगा। कितनी शिकायतें कहां तक पालोगे? लेकिन अपने दिल में कहां से क्या तक सोचते फिरोगे? खाने का निवाला, च्वइंगम जैसा लगेगा और लिथड़ता जाएगा जो कि हलक के नीचे उतरने का नाम  नहीं लेगा। ख्याल आएगा तो पानी का एक बड़ी घूंट लेकर उसे बस जैसे तैसे नीचे धकेल दोगे। पेड़ के पत्तों के गुच्छे के नीचे का अंधेरा अपने मन जैसा लगेगा। बाहर का धुंधला कोहरा कहेगा कि देख मैं तेरे मन का प्रतिबिंब हूं। इस कदर तुम्हारे दिलो दिमाग पर काबिज़ हूं कि कुछ भी साफ नहीं  है। सोच का समंदर दूर, बहुत दूर तक हिलकोरे मारेगा। एक लहर उठेगी और कहेगी - निकाले फेंक उसका ख्याल दिल से। दूसरी कहेगी कि होता है, उसे एक मौका और दे। तीसरी कहेगी, ऐसा पहले भी हो चुका है। चौथी - तूने भी तो फलां के साथ ऐसा ही किया था। पांचवीं -जाने दे, हर घटना अपनी कीमत लेती है। इस रिश्ते को भी आखिर कुछ न कुछ चुकाना ही था। छठी- अब से किसी पर यकीन नहीं करूंगा। सातवीं - लेकिन फिलहाल किसके कंधे पर सर रखकर रोएगा ? तू गुनाह से तौबा भी करता रहेगा और फिर इसी चीज़ को किसी न किसी बहाने न्यौता भी देता रहेगा। हाथ में कोई पेंसिल होगी तो एक ही लकीर पर उसे घिसते घिसते लकीर मोटी कर देगा। मुंह में कोई सुपारी होगी तो उसे महीन दर महीन पीसता चला जाएगा। नौवां ख्याल पूरे वारदात को फिर से नए सिरे से सोचने को कहेगा। तू उस पर इस बार थोड़ा सजग होकर अमल करेगा। अबकी संवाद ज़रा ज्यादा संभले हुए होंगे। नपे-तुले होंगे। लेकिन कुछ दूर जाने के बाद फिर एक ज़ोरदार लहर उठेगी। खुद को ठगे जाने का ख्याल पहले से ज्यादा कड़वा बनकर इस कदर हावी होगा कि सोचेगा ज़िंदगी जैसे सबको मज़े देने वाली वेश्या हो गई है। हालांकि वेश्याओं का तेरे मन में बड़ा सम्मान होगा लेकिन जिस तरह लोग उसे बरतते हैं अपना हाल भी कुछ वैसा ही है। कोई भाववश मीठे बोलों का मरहम रख अपना मतलब निकाल ले जाता है, कोई मसखरी कर जांघों पर जली हुई सिगरेट बुझाता है। दसवीं कहेगा - अबकी तेरे पास जो आए तो.... दसवीं (ए) उसके मुंह पर थूक देना। दसवीं (बी) - उसके मुंह पर एक मुक्का जड़ देना। दसवीं (सी) - उसे बुरी तरह इग्नोर कर देना और फिर उसकी प्रतिक्रिया देखना। दसवीं (डी) - उसे कुछ मत कहना। एक शब्द भी नहीं। बस चुपचाप रहना। चूंकि ये सारी चीज़ें इस तरह से खत्म नहीं होती है इसलिए विकल्प डी। फिर क्या होगा? फिर वो कहेगा कि क्या बात है? तुम - (अति उत्साह से, ध्यान तोड़ते हुए) नहीं.....। नहीं तो। वो एक घुन्नापन ओढ़ लेगा और तुम्हें देखता रहेगा। तुम्हारे सब्र का बांध टूटता जाएगा। तुम भूलते जाओगे कि तुम्हें चुप रहना था। तुम्हें इस बात पर गुस्सा आता रहेगा कि वो इतना शांत कैसे है? लेकिन इस नाटक में वो नेचुरल रहेगा। जबकि तुम अतिरेक जोश में तमाम कसमों और तौबा के बाद भी कोई बात नहीं है को साबित करने में ऐसे उपक्रम करोगे कि ऊन का खुल कर लुढ़कता हुआ गोला बनते जाओगे। फिर न संभलने वाले जज्बात का ऐसा सैलाब जिसे बांधा नहीं जा सकता। हो सकता है कि तुम्हारे सब्र का यह बांध भी टूट जाए और तुम आखिरकार रो ही पड़ो..... लेकिन तुमने यह तो नहीं चाहा था। तुम अभी वर्तमान में इतने गुम हो कि सोच नहीं पा रहे कि तुम्हारी एक बार फिर से हार हो चुकी है। और उसकी जीत। हालांकि यह अभी परिभाषित नहीं है लेकिन इस तरह के कुछेक घटनाओं के दोहराव से यह साबित हो जाता है तुम्हें उसकी जरूरत है और आगे भी होगी लेकिन यह उसकी मर्जी और फुरसत होगी कि वह तुम्हारी पीठ थपथपाकर चुप कराने को उपलब्ध है या नहीं।

(फिलहाल सिसकी.......)

Comments

  1. deja vu.
    ये घट चुका है तुम्हारे साथ पहले। फिर कब सम्हलोगे?
    ---
    वो अफसाना जिसे अंजाम तक पहुंचाना न हो मुमकिन...उसे एक फिलहाल तलक ठहराये हुये रखना?
    तुम्हारे खत खुदा के दरवाजे तक पहुंचते हैं...कह दो एक रोज सारा कुछ...

    पढ़ा है तुम्हें, जिया है तुम्हें, सोचा भी है दिन के कई पहर...हो ये भी तो सकता है कि कोई बस उतने भर के लिये था। तकलीफ जितनी उसने दी है, तुमने दामन फैलाये मांगी भी तो थी...वो जो खुदा बोल के बैठा है उपर। उससे कितने सवाल करोगे? रो रो के समंदर भर दो और फिर खाली दिल और दामन लिये उस किनारे से लौट आओ।

    दोस्त, हम जन्म से अकेले हैं। उदास क्षणों में तो और भी। इतने दिनों से किसी को पढ़ते रहने पर कुछ हक बन जाता है।
    सुनो, एक गीत सुनो...
    धारा जो बहती है, मिलके रहती है
    बहती धारा बन जा...फिर दुनिया से बोल

    http://www.youtube.com/watch?v=pGYjHQbV1KE

    सुनो, मुस्कुरा दो जरा। तुम्हारी सिसकी चुभती है बहुत।

    ReplyDelete
  2. समझाना तो उसे है जिसे सिसकने में पीड़ा हुयी, हम तो सोचते ही रहे।

    ReplyDelete
  3. ब्लॉग बुलेटिन की 750 वीं बुलेटिन 750 वीं ब्लॉग बुलेटिन - 1949, 1984 और 2014 मे आपकी पोस्ट को भी शामिल किया गया है ... सादर आभार !

    ReplyDelete
  4. नारियल सा दिल :)
    शानदार लिखते हो आप .........

    ReplyDelete
  5. एक कालचक्र की भाँती नाराज होने, शिकायत करने, कभी ना बात करने, मनाने की उम्मीद के दौर से ज़िंदगी में असंख्य बार गुजरना होता है पर हर बार खुद को इस चक्र में पीसते देख कर कुछ नहीं सीखते, हर बार घटना की कीमत चुका नयी घटना के लिए खुद को तैयार कर लेते हैं यह पोस्ट सभी की आपबीती है.

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

यही आगाज़ था मेरा, यही अंजाम होना था...

-1-
-2-


प्यार में कुछ नया नहीं हुआ, कुछ भी नया नहीं हुआ। एहसास की बात नहीं है, घटनाक्रम की बात है। हुआ क्या ? चला क्या ? वही एक लम्बा सा सिलसिला, तुम मिले, हमने दिल में छुपी प्यारी बातें की जो अपने वालिद से नहीं कर सकते थे, सपने बांटे और जब किसी ठोस फैसले की बात आई तो वही एक कॉमन सी मजबूरी आई। कभी हमारी तरफ से तो कभी तुम्हारी तरफ से।
सच में, और कहानियों की तरह हमारे प्यार की कहानी में भी कुछ नया नहीं घटा। प्यार समाज से पूछ कर नहीं किया था लेकिन शादी उससे पूछ कर करनी होती है। घर में चाहे कैसे भी पाले, रखे जाएं हम उससे मां बाबूजी और खानदान की इज्ज़त नहीं होती मगर शादी किससे की जा रही है उस बात पर इज्ज़त की नाक और बड़ी हो जाती है।
कोई दूर का रिश्तेदार था जो मुझ पर बुरी नज़र रखता था। मैंने शोर मचाया तो खानदान की इज्ज़त पैदा हो गई। और जब अपने हिसाब से जांच परख कर अपना साथी चुना फिर भी इज्ज़त पैदा हो गई। बुरी नज़र रखने वाला खानदान में था इससे इज्ज़त को कोई फर्क नहीं पड़ा लेकिन एक पराए ने भीड़ में अपने बांहों का सुरक्षा घेरा डाला तो परिवार के इज्ज़त रूपी कपास में आग लगने लगी।
और प्यार की तरह हमार…