Skip to main content

B. last seen yesterday at 10:22 PM



मैं उसके बारे में जितना सोचती हूं उसकी होती जाती हूं। एक उम्र के बाद खूबसूरती मायने नहीं रखती। पहचान वालों की मुस्कुराहट, मोटे लोगों के किसी खास पर उसकी अपनी खास मौलिक प्रतिक्रिया, फलाने का संशय, चिलाने का चिंताग्रस्त होकर घूमना, मीता का अनजाने में सीटी बजा उठना, किसी काले के आंखों की चमक, किसी गोरे की माथे की सिलवट, गंजे का खिखिलाकर हंसना, बूढ़े की भलमनसाहत दिल को भली लगने लगती है। कुछ के सीने के बाल याद रह जाते हैं, कुछ की बेसुरी आवाज़ भी मन को हांट करती है। कुछ के मेकिंग लव के दौरान बने क्षण याद रह जाते हैं। कुछ के जुबान से निकला शब्द सहलाते हुए से लगते हैं, कुछ की आवाज़ ही आराम दे जाती है। 

मुझे उसके प्यार करने का तरीका बहुत पसंद है। यह सच है कि वह मुझे पसंद करता है लेकिन एक स्त्री होने के नाते जाने अनजाने मेरा सिक्थ सेंस मुझे यह भी इंगित करता है कि उसकी यह चाहना मेरे शरीर के कुछ खास अंगों के प्रति ज्यादा है। वह मेरे गोरे रंग को लेकर अक्सर हैरतजदा रहता है। हम जब मिलते हैं, मेरा मतलब हमारा जब कभी भी बाहर मिलना होता है, कनॉट प्लेस के के एफ सी में, हौज खास के बरिस्ता में, ग्रीन पार्क के कोस्टा कॉफी में मैंनें उसकी आंखों में झांकते हुए कुछ और अनजाने रास्तों की तरफ खुद को ट्रैक से फिसलता पाया है। 

यह अजीब है कि 28 साल बाद भी मैं प्यार के मसलों में उदार हूं। और लगता है अब जैसे यह आदत ही बन गई है। मैं चीजों को वैसा का वैसा नहीं ले पाती जैसा वह कहा या किया गया है। उल्टे यह जरूर लगता है कि मैं उसमें थोड़ी अपनी सोच मिलाकर ग्रहण करती हूं। या कभी कभी जब अपनी स्वभाव के उलट जब जानबूझ कर थोड़ी से अपना विचार रखती हूं, वैसे ही दूसरों की बातों में अंर्तमन में यह अनुमान लगा लेती हूं कि शायद इसका मंतव्य भी कुछ वैसा ही हो। दरअसल प्यार नाम की इस शै को आप बहुत हल्के में नहीं ले सकते। यह कई जगह निशान लगाता हुआ निशाना करता है। या शायद प्यार को हल्के में लेकर ही जिया जा सकता है। कुछ भी हो यह ताउम्र मुझ जैसी लड़की के लिए अपने बालों को संभालते रहने जैसा है। हां इन बालों पर जिसपर आड़े कुछ वक्तों में आपको झल्लाहट भी होती है और कई बार जब किसी उधेड़बुन में हों या आपके बॉयफें्रड के साथ यदि हो रहा फ्लर्ट अपने सीरियस होने के उस मकाम पर पहुंच रहा हो जब उसमें तेज़ सांसों की मिलावट होने की गंध आने लगे, वह आपके हाथों के रोओं को सहलाते हुए, आपकी बांहों की तरफ बढ़ने लगे, उसके होंठ सूखने लगे, इन हरारतों से आप अपना दम साधने लगें और किम्कत्वर्यविमूढ़ता की स्थिति आ जाए। अब इस एकआध को जीयें या उसे यही से धकिया दें कि लड़ाई मन में चलने लगे। वैसे इस तरह के अनुभव के साथ साथ आप पर्टिकुलर इस अनुभव शब्द के बारे में आप क्या सोचते हैं? मुझसे शेयर कीजिएगा। लेकिन मुझे लगता है कि अनुभवों का दोहराव दरअसल अनुभव नहीं होता।

मैं अनालाइज बहुत करने लगती हूं। हां तो मैं कहां थी?। हां तो हमारा जब भी बाहर मिलना होता है। यप। यहीं थी मैं। वह मेरे प्रति ज़रा चौकन्ना रहता है। थोड़ा आगे की तरफ झुका हुआ। मुझे ज्यादा से ज्यादा कंफर्ट फील कराने की आड़ में चिंतित। जूझता हुआ सा। ऐसे वक्तों में हमारी आंखों एक दूसरे से बहुत ज्यादा मिलती है। कई बार मिलती है लेकिन कई बार वह नज़र बचा भी ले जाता है। जैसे उसे इस बात का पता होता है कि मैं उसकी आंखें पढ़ना चाहती हूं। चूहे बिल्ली के इस खेल में मैं मुर्गी की तरह कुट-कुट करते हुए उसे चुग लेती हूं। 

सरेआम उसके कोहनियों के स्पर्श में एक आग्रह है। ऐसा लगा है जैसे वह बंद कमरे में ही खुल सकने को अभिशप्त है। कुछ प्रमी होते हैं ऐसे खासकर दक्षिण पूर्व एशिया में। वे प्रेम में कई स्तरों पर जूझते हैं, यही वजह है कि मैं उन्हें एक सम्मानित प्रेमी नहीं मानती। इसके उलट वे एक डरपोक पिता, कंजूस बेटे और बीवी से चार बच्चों को जनकर भी वे शिखंडी पुरूष होते हैं। वे पूरी जवानी प्रेम करने के बाद अपनी खोल में घुसे चले जाने वाले चूहे होते हैं और तब उन्हें वो दुनिया सुरक्षित लगती है। यह सच है कि इंसान रूप में हम प्रेम करने को बाध्य हैं लेकिन मैं इसे हम स्त्रियों की खूबी मानती हूं कि हम प्रेम कर उन पुरूषों के उलट ज्यादा उदार, ज्यादा साहसी और निडर हो जाती हैं। माफ कीजिए, अगर आप मुझे ऐसे में आवारा समझेंगे तो मैं आपकी इस दयनीय सोच पर 'हुंह' भी नहीं कर सकती। 

वह मुझे रूचता है। मुझे ठीक ठीक याद है। उस दिन वह परतों वाला टी-शर्ट पहने था जिसका गला दो बटन से खुलता था। बिना मीन्यू देखे वह ऑर्डर देकर अपना सर नीचे झुकाए बैठा था। गौर से देखने की शुरूआत दरअसल ऐसे लम्हों में ही होती है जब सामने वाला आपसे अंजान हो। मैंने उस दिन उसके शरीर के खूबसूरती के बारे में महसूस किया। एम सपाट चौड़ा सीना जो उस वक्त और समय के बनिस्पत ज्यादा ही चौड़ा लग रहा था। वो शेव की हुई छाती थी जिसपर हल्के हल्के बाल उग आए थे। मैंने ख्याल किया वे अपने में उमस सेमेटे छाती है। मेरी उंगलियां कसमसाई। मन हुआ उनपर उल्टे हाथ उंगलियां फिराऊं। प्रेम करने का उद्वेग ऐसे ही रूटीन से हटकर अचानक से जगता है। दरअसल नाजो अदा से छूने का मन ऐसे ही कुछ चोर लम्हों में होता है। मेरी सांसे छोटी पड़ने लगी। अपने युवा प्रेमी की इस तरह कामना करने से मेरे ज़हन में उसकी उभरी हुई पिंडलियां, उसके जांघों की मजबूत पकड़, उठी हुई हड्डियां और उसकी गर्म सांसों से मेरा उलझाव उभर आया। पुरूष इस तरह कहां हमारी सेक्सुएलिटी के बारे में सोच पाते हैं! ऐसे अंतरंग पलों में खुद मेरी पीठ में एक तनाव उभर आता है। पीठ के कैनवस पर सर्दियों के दिन लद आते हैं और लगता है दो किस्सापसंद औरतें वहां ऊन कांटा लेकर लगातार फंदों पर फंदे बुनती जा रही है। और तब मेरी पीठ को आंच की जरूरत होती है।

Comments

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे के रोने में चिल्लाहट ब…