Skip to main content

दीदी का खत...



बिसरे ज़ख्मों पर नमक जैसे मेरे प्रिय बेटे,

तुम्हारा पिछला खत पढकर यह संबोधन दिया है जिसमें तुमने घर की याद के बाबत बात पूछी है.

नितांत एकाकी क्षणों में घर की याद आ जाती है. जैसे सूप में आपने आँखें फटकते हुए, फटे हुए ढूध का खो़या खाने में नमकीन आंसू का जायका तलाशते हुए या चावल चढाने से पहले उसे चुनते हुए हुए आनाज और कंकड के फर्क पर शंकित होते हुए... फिर अपनी पत्थर होती आँखों को कोसते हुए...

अबकी साल भी आम के पेड़ में मंजर खूब आया है और सांझ ढाले उनसे कच्चे आम की खुशबु घर के याद के तरह आनी शुरू हो गयी है... अब यह कमबख्त रात भर परेशान करेगी.

तुम्हारे घरवालों ने मुझे कहाँ ब्याह दिया, हरामी ने जिंदगी खराब कर दी. ससुराल जेल की चाहरदीवारी लगती है और मैं सजायाफ्ता कैदी सी.

मैंने ना ही कोई विवादास्पद बयान दिया, कोई विद्रोही तेवर वाली किताब ही लिखी है. कोई सियासी मुजरिम हूँ जो मुझे ससुराल में नज़रबंद रखा गया है.

मैं क्यों अपने घर से निर्वासित जीवन जी रही हूँ ? कहीं यह तुम दोनों दोनों पक्षों की मिलीभगत तो नहीं ??? मर्द तो दोनों जगह कोमन ही होते हैं ना ???

टेशन से छूटने वाली गाडी में भी उतना ईंधन नहीं होगा जितना भावुक ज्वलनशील पदार्थ एक ब्याही औरत के पास होता है... फिर भी रेल है कि आगे बढ़ ही जाती है पर मैं ???

भैया अपनी जिंदगी में सो कैसा फंसा है जो बाईस साल में कभी खुशी से मिलने नहीं आया और बाबूजी ने कोई चिठ्ठी नहीं लिखी.

तुम्हारे बाप को मेरे बेटे की फिकर नहीं है; वो यह भी नहीं जानते कि इस जून में उसने इंटर पास कर लिया है पर मुझे तुम्हारी याद आती है. मेरे दुश्मन बेटे, मैं उम्मीद करूँ तुमसे कि तुम इस परम्परा को तोडेगे और बूढी होती अपनी दीदी से मिलने आओगे!

अंत में, सुना है तुम्हारे बहन की भी शादी होने वाली है, और तुम उससे बहुत प्यार करने का दंभ भी भरते हो ? तो क्या मुझे जैसे को तैसा' वाली शाप देने की जरुरत है ??? 

लिखना

तुम्हारी अभागी दीदी

अंजन
*****



note : हमलोग पिताजी की बहन को दीदी बुलाते हैं.



अबके बरस 
भेज 
भैया को बाबुल... (फिल्म : बंदिनी)



Comments

  1. फिर इस बार एक जादू लाये हो जानी.. तुम आदमी चाहे कितने ही घटिया हो पर लिखते बढ़िया हो.. :)

    सोचालय.. अपने नाम को सार्थक करता ब्लॉग बनता जा रहा है.. मनन करने को बाध्य करते शब्द.. सोचने को विवश करती पोस्ट्स.. रेल वाली बात दिल ले गयी..

    ReplyDelete
  2. बढ़िया प्रस्तुति पर हार्दिक बधाई.
    ढेर सारी शुभकामनायें.

    संजय कुमार
    हरियाणा
    http://sanjaybhaskar.blogspot.com

    ReplyDelete
  3. @ संजय भास्कर जी,
    कभी कुछ अलग भी लिख दिया करें ... कम से कम शब्दों का हेरफेर ही कर दिया करें

    ReplyDelete
  4. Aapke posts pad kar hindi patrika "Vaagarth" ki yaad aa jati hai.

    :) agar same comment duhrana hoto shabdon ke herfer karna yaad rakhoonga

    ReplyDelete
  5. Achha kiya jo ant me bata diya ki,bua ko deedi kaha jata hai...mai kuchh der samajh nahi pa rahi thi,ki,khat kisne,kise likha hai!
    Khair! Peshkash bahut achhee hai..

    ReplyDelete
  6. bahut marmik aankhein nam ho gayi...kitna kasht hua aapki didi ko...

    ReplyDelete
  7. हमारे भारतीय परिवेश में अभी भी रिश्ते बचे हुए है,बुआ के उलाहनो को चिट्ठी की खो चुकी विधा में अच्छे से समेटा है आपने.पंजाबी में कहते है..ਧੀ ਨਿਸਰੀ ਭੂਆ ਵਿਸਰੀ.

    ReplyDelete
  8. bhaai ....gazab karte ho .....har seen kisi film ki tarh jahan me ghoomane laga ....maarmik chitran !

    ReplyDelete
  9. कुछ ऐसे भी खत हैं जो लिखे नहीं गए, बस आंसुओं से गालों पर लफ्ज़ से उभरते रहे, धुंधलाते मिटते रहे.

    "टेशन से छूटने वाली गाडी में भी उतना ईंधन नहीं होगा जितना भावुक ज्वलनशील पदार्थ एक ब्याही औरत के पास होता है... फिर भी रेल है कि आगे बढ़ ही जाती है पर मैं ???"

    पढ़ कर कितनी ब्याही और बिन ब्याही औरतों की रूह काँप जाती है,आखिर सच को देखना आसान तो नहीं होता है.देखा, सुना सच, सपनों में डराता सच...और एक दिन जिंदगी बनता सच. लिखने को यूँ तो बहुत कुछ लिख सकती हूँ...

    मगर यूँ ही...कि और भी गम हैं ज़माने में...

    ReplyDelete
  10. भई आपकी इस पोस्ट से तादात्म्य स्थापित नही कर सका..कथ्य स्तर पर मुझे काफ़ी कमजोर लगी..पत्र की भाषा व शैली पात्रानुकूल नही लगी..और बिंब-विधान पत्र मे अंतर्निहित स्थाई वेदना के स्वाभाविक संप्रेषण मे कहीं से बाधा डालते से प्रतीत हुए..लेखक का जो प्रयास प्रमुख पात्र के दैन्य, पीड़ा और उससे जनित कटुता मिश्रित रोष और आत्मवंचना को और गहराई से उकेरने मे हो सकता था..वह प्रयास शैली को रसात्मक और बौद्धिक बनाने मे व्यय हुआ लगता है..रचना का संक्षिप्तीकरण भी इसके क्षितिज को सीमित करता है..

    ..और निरंतर तीन-तीन प्रश्नवाचक चिह्नों का प्रयोग सोद्देश्य है या कुछ और..???

    ReplyDelete
  11. औफिस मे हूँ ........... रुलाओगे क्या........

    ReplyDelete
  12. अपूर्व जैसे शब्द तो नही है मेरे पास समझाने के लिये :)
    पर तुम्हे पढना अच्छा लगता है लेकिन मै भी पकड नही पाया सही से.. शायद कुछ मिस कर रहा हू.. :(

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …