Skip to main content

पहला प्यार- 2


                                                       साहिबान, आज पेश है पहला प्यार की दूसरी किस्त  

                                                             पहला प्यार  {भाग--2}
                                                    (सब-टाइटल : निम्नमध्यम मोहल्ले का प्यार )
 
होता है, चलता है, दुनिया है वाला फलसफा कासिम नगर के इस बस्ती में भी दोहराई जा रही थी... कासिम नगर, बिहार के M+Y समीकरण पर आधारित था. यानी मुस्लिम + यादव समीकरण जिसके आधार पर लालू ने 20 बरस कुर्सी गर्म रखी और निवासियों की हालत उस बंदरिया की तरह कर दी जो अपने मरे हुए बच्चे को कलेजे से लगाकर घूमती रहती है, जिसे 5 दिन बाद भी यह विश्वास रहता है की उसका बच्चा जिंदा है (जुगाड़ में घूमने वाले यह कतई ना समझें की हम नीतीश सरकार से आह्लादित हैं).

इस समीकरण का एक फायदा यह भी था कि राजद के प्रदेश युवा सदस्य भी बोलेरो, क्वालिस और स्कोर्पियो से उतर सीना ठोंक कर कहते कि रिकॉर्ड उठा कर देख लीजिए, है कोई माई का लाल जो बिहार के इतिहास में एक भी एक भी दंगा बता दे.. और हम इस झुनझुने को लेकर संतुष्ट हो जाते. इसलिए यह कासिम शहर नहीं, नगर था. खैर मारिये साहब इन लोगों को, आप भी सोचेंगे की कहाँ की बात कहाँ ले जा रहा है, नगर की पृष्ठभूमि  बताने के बहाने राजनीति बताने लगा (पर ताल्लुक है मीलोर्ड)  

 होता है, चलता है, दुनिया है यह जुमला था सोनू के सबसे अच्छे दोस्त गुड्डू का.

गुड्डू, रंग सांवला, माथा चौड़ा और चेहरा गोल, बालों हमेशा शैम्पू किये हुए रहते और शौक यह कि जिधर गर्दन झुकाएं, मांग उधर से फट जाए. यह हेयर स्टाइल उन्होंने बेवफा सनम में किशन कुमार से चुराई थी.

गुड्डू विशुद्ध प्रक्टिकल आदमी थे, एक हाथ ले-एक हाथ दे वाली नीति पर चलते विशेष कर लड़कियों के मामले में. कुछ और खास आदतें भी थी उनकी. मसलन, स्टील वाली ढीली घडी पहनना और बार बार झूलते घडी को ऊपर लाते वक्त बालों पर हाथ फेर तिरछी नज़र से यह भी देख लेना कि यह पोज़ किसने-किसने देखा. यह तरीका उन्होंने अपने कोचिंग की कई लड़कियों से सीखा था जो अपने गालों पर  लटें झुलाती रहती और उसे अपने कान के पीछे करते वक्त देख लेती की कौन कौन उनकी इस अदा को देख निसार हो रहा है.

गुड्डू की पसंदीदा पत्रिका सरस सलिल थी... वो इसके नियमित पाठक थे और जब भी वो इसकी किसी कहानी में यह पढते कि ...और ज़मींदार रात भर सलमा की जवानी को अपने बाहों में दबोचता रहा वे बिफर जाते और पत्रिका को गरियाने लगते.. दरअसल उनकी शिकायत इस लाइन से नहीं बल्कि बार-बार इसके दोहराव से था. वे शाम के वक्त चाय की दुकान पर या दोपहर में सोनू के दूकान पर अक्सर अपने दोस्तों को इन कहानियों का सप्रंग व्याख्या करते और मित्रगण भी पर्याप्त रसास्वादन कर गुड्डू को गया-गुज़रा हुआ आदमी करार देते.

सिनेमाहाल में गुड्डू हमेशा आगे वाली सीट लेते और कारण पूछने पर हँसते हुए  फिलोस्फिकल अंदाज़ में यहाँ से सब बड़ा और छोटा दीखता है कहते और देर तक हँसता रहते. जिसे जो समझना होता, समझ लेते.. और जब तक लोग उसे समझ पाते होता है, चलता है, दुनिया है वाला उसका तकिया कलाम सबको दूसरी अन्य बातों के लिए तैयार कर देता.

सोनू से कई मामले में उलट गुड्डू की खास आदत थी. वे किसी को भाव नहीं देते थे. वे सारी दुनिया को अपने कमर के आस-पास एक अंग विशेष पर तौलते थे. उनकी नज़र में इस अंग विशेष का बड़ा महत्त्व था. कुछेक मिनटों के अंतराल पर तिरंगा, शिखर, पांच हजारी जैसे गुटका का पैकेट फाड़ते हुए यह बताना नहीं भूलते थे कि इस वक्त उनकी नज़र में दुनिया की वर्तमान पोजीशन क्या है. गोया जब से गुड्डू इस इलाके में आये थे यही पोजीशन बता रहे थे.

सारी दुनिया इसी से है”. ऐसा उनका विश्वास था.

इसी प्रकार, रेलवे की परीक्षा में इस बार भी फेल होने पर वे ऊँगली से उसी अंगविशेष की ओर इशारा कर कहते "भगवान हमारा किस्मत इसी से लिखा है... खैर...होता है, चलता है, दुनिया है फिर वे अपनी आशावादी सोच के साथ इस बस्ती में काबिज हो जाते.

इस प्रकार, होता है, चलता है, दुनिया है वाया गुड्डू सबके जुबान पर चढ चुका था.

जारी...

Comments

  1. Pahla pyaar to pahlee hee kisht me khatm ho jata hai....!!Khair! Ye hui mazaaq kee baat....likha bahut badhiya hai,isme shak nahee!

    ReplyDelete
  2. bahut badhiya likha hai....pahla pyaar n hi kiston me bantta hai our n hi kabhi khatm hotaa hai.. is maamle me kshama ji se asahamat hun.

    ReplyDelete
  3. एक ज़बर्दस्त प्रवाह लिए रचना जो अगली कड़ी का इंतज़ार करने को विवश करती है।

    ReplyDelete
  4. Achcha ja raha hai agali kisht ka intjar hai

    ReplyDelete
  5. बस्ती की मस्ती का चित्रण।

    ReplyDelete
  6. बहुत अच्छी पोस्ट है...
    आप की अगली पोस्ट को पढने के लिए बेताब...
    धन्यवाद !

    ReplyDelete
  7. sagar...bahut doobkar likha hai aapne :)

    ReplyDelete
  8. पहली किस्त की लयबद्धता दूसरी किस्त मे जाती दिखी....पठनीय किंतु यह तीसरी किस्त के इंतजार को विवश नही करती।
    सत्य

    ReplyDelete
  9. शुक्रिया सत्य. बहुत बहुत शुक्रिया

    ReplyDelete
  10. सत्य के कमेन्ट को हमारा कमेन्ट समझा जाए.. ऐसा लग रहा है मानो लिखने के लिए लिखा हो..
    किन्तु इसे लेखक पर टिपण्णी ना समझा जाए ये लेख पर टिपण्णी है..

    ReplyDelete
  11. @ कुश,
    विश्वास बनाये रखने का शुक्रिया.. पर सच है की अच्छे मरहले नहीं गुज़र रहे.

    ReplyDelete
  12. मुझे पोस्ट की प्रस्तावना इसका बेस्ट पार्ट लगी..खासकर कस्बे की सोशलऑजी के बहाने पॉलिटिकल साइंस को पकडने की कोशिश...बाकी पोस्ट मनोरंजक है..ओरिजिनलिटी पर कुछ और मेहनत की दरकार करती है..लोग तो कहते ही रहते हैं..होता है चलता है, सागर है!! ;-)

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारावह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है. युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने बिराज बहू, देवदास, सुजाता और बंदिनी जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं. दो बीघा ज़मीन को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात है.

            समानांतर…

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने बरसने में रूकी है। ऐसा ल…

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियांमहाराष्ट्रतक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता मेंहीरालाल सेन और जमशेद जी मदनभी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों मेंप्रदर्शितहोकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों मेंप्रदर्शितकरें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारानिर्देशितफिल्म 'बिल्म मंगल'तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहलाप्रदर्शननवम्बर, 1919 में हुआ।जमदेश जी मदन (1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंनेकलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेसबनाया। यह सिनेमाघर आज भी मौजूद है और अब इसका नाममिनर्वाहै। 1918 में मदन का …