Skip to main content

उड़ जा सानू नई तेरी परवा...



INT. CAFÉ COFFEE DAY - DAY.

चंडीगढ़ के इस कॉफ़ी हाउस में मेज़ के इधर उधर, आमने सामने एक जोड़ा बैठा है। पीने की इच्छा कुछ भी नहीं है फिर भी बात ज़ारी रखने के लिए एक एक कप कॉफ़ी ली जा रही है। जूनी (लड़का) लगभग बेफिक्र है और इकरा (लड़की) कॉफ़ी का सिप लेकर जब टेबल पर स्लो मोशन में रख रही होती है तो हल्की रोशनी में सफेद टेबल कवर पर काली छाया दिखती है। लगभत यही रंग लड़की के आंखों के नीचे भी गहरे काले धब्बे के रूप में मौजूद है। बैकग्राउंड में जैज़ जैसी मद्धम धुन बज रही है।


जूनी:       नो......  नॉट इम्पोस्सिबल  ईरू... अब... नहीं हो सकता

इकरा:       हाऊ इज़ इट पॉसिबल जूनी ? तुमने कहा था ना हम घर छोड़ देंगे ?

जूनी:             नो... आई कांट... मैं घर के अगेंस्ट नहीं जा सकता। इसका रिजल्ट ठीक नहीं होगा।

इकरा: बट आई विल गो.... लिसन जूनी.... यू नो आई विल डाई। यू नो ना...

जूनी:                ऐसा नहीं होता... इनफैक्ट होगा। हमने साल भर साथ में बिताए ना... ईनफ है। (एक सांस में) सी ईरू !  ऐसे केसेज में हम अपने दिल में ही ग्राऊंड रिएलिटी को ईग्नोर कर रहे होते हैं। टू बी फ्रेंक... हर फ्यूचर भी जानते होते हैं।

(थोड़ा रूक कर)

             एण्ड टेल मी ओनेस्टली, क्या तुम नहीं जानती थी ?

इकरा : यू नो व्हाट, मेरे जानने का  होराइजन कम है और एक बार जान लिया कि क्या करना है तो फिर क्या नहीं करना है यह नहीं सोचती। ऐसा करो तुम मुझे बदनाम कर देना लेकिन शादी कर लेते हैं।

जूनी:           तुम्हारी बदनामी मुझसे अलग नहीं होगी। 

इकरा: (बात काटते हुए) लेकिन तुम्हारे बिना आगे जीना... क्या वो तुमसे अलग होगा ? 

जूनी:        तुमने कहा था आज हम बहस नहीं करेंगे। ईट वुड बी बेटर कि हम कोई साफ रास्ता निकाल लें। 

इकरा: कोई क्यों ? एक क्यों नहीं

जूनी: हां वही... एक.... 

(जूनी बहुत हिम्मत करके अपनी मुठ्ठी कसता है। चेहरा लाल हो आता है। माथे के किनारे से पसीने की बूंद धार की तरह नीचे गिरती है और कहता है) 

जूनी:       ...और वो एक ‘ना‘ है। यही लास्ट है।

(इकरा अपना सर मेज़ पर दे मारती है। खुले हुए बाल आगे की ओर गिर जाते हैं। जूनी दो सेकेण्ड देखता है फिर उठ खड़ा होता है। कुर्सी पीछे खींचते हुए इकरा को सुनाई देता है।)

जूनी:           नेवर कॉल मी अगेन।

(इकरा फफककर रोती है, पर रोना सुनाई नहीं देता, पेट में झटके पड़ते हैं और कोहनी के धक्के से टेबल हिलता है। जूनी शीशे के दरवाज़े के करीब आ गया है। दरवाज़े पर उसका हल्का सा अक्स उभरता है। वो दरवाज़ा खींचता है और बाहर निकल जाता है। खींचने और दरवाज़े के फिर से लगने में उस पर कई चेहरे डिजाल्व हो जाते हैं।

इकरा अब सर उठाती है। जूनी अपनी इनटाईसर के शीशे में जेल लगे बाल को ऊपर उठा कर नुकीला बनाता है और बाईक पीछे लेता है। इकरा को वो थोड़ी दूर तक नज़र आता है फिर एक मोड़ के बाद आंखों से ओझल हो जाता है।
इकरा अपने चेहरे से बाल सुलझाती हुई हटाते हुए मुस्कुराती है।)

इकरा: मदर फकर ! शादी की बात ना करो तो लीच की तरह चिपका ही रहता है।

Comments

  1. इसमें देसीपना कुछ कम सा लगा।

    ReplyDelete
  2. खुबसूरत रचना ,आभार|

    ReplyDelete
  3. oho ye ek naya rang dikhaa ..rochak

    ReplyDelete
  4. जमाने के साथ - साथ आपको भी अंग्रेजी से प्यार हो गया है ... पढ़ते- पढ़ते काफी की महक .. सहानुभूति के दुकड़े एकत्रित हुए और अंत में काफी का स्वाद और सहानुभूति दोनों खलास !!

    ReplyDelete
  5. कुछ हट के लगी आपका यह लिखा हुआ ...बढ़िया है

    ReplyDelete
  6. प्रेम और विवाह की दूरी में मतभेद की स्थिति कशमकश जगाती रहती है।

    ReplyDelete
  7. "एक बार जान लिया कि क्या करना है तो फिर क्या नहीं करना है यह नहीं सोचती। "
    सागर , मुझे सिर्फ़ यहाँ तक अच्छी लगी कहानी .. इतने ही पागलपन में कोई ऊँचे जाता है ..कहानी के अंत तक इकरा ज़मीन पे मुंह के बल गिरी ..कहानी भी .. मेरी नज़र में !
    मैं नहीं समझ सकी की ये कहानी तेज़ी से ऊपर जा रही थी ..फिर नीचे कैसे आ गयी ..! वो लाइन जो मैंने mention की है . वो ज़बरदस्त है . काश की कहानी उसी भावदशा पे चलती !

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ