Skip to main content

रॉ फुटेज में डंप जिंदगी


दफ्तर छोड़ने के बाद उसकी अनुपस्थिति ज्यादा हाजि़र हो गई है। वो कोना जहां वो बैठा करता था इतना सुनसान लगता है जैसे जेठ महीने में गलियों में उठते गोल गोल बवंडर हू - हू करते हैं। उसका कम बोलना अब ज्यादा सुनाई दे रहा है। रफ स्क्रिप्टों पर यहां वहां की गई काट पीट, दो शब्दों के बीच में प्रूफरीडिंग की तरह कई निशान लगे हैं, ये खोंच हैं जो गांव की गलियों के गुज़रते टटिये में होते हैं और जिनमें अक्सरहां कपड़े फंसते हैं। अक्सर ही कोई सूत उधड़ कर रह जाता है और हम कभी फुर्सत में उस उधड़े सीवन को ठीक करने की कोशिश करते हैं तो उसकी अंतिम परिणिति उस पूरे धागे को कपड़े से अलग करने पर जाकर खत्म होती है।

ह्वाईट बोर्ड पर विकल्प के रूप में लिखे उसके पंचलाइन, आधे मिटे मिटाए, खुद जन्माए और मारे गए, जो कभी जार्नर, फॉर्मेट में फिट ना होने के बायब या क्लाइंट से अप्रूव नहीं होने के कारण रिजेक्ट हो गए, उन्हें कभी अपनी किताब में संजोने के दिली इरादे की चुप्पी लिए दफन कर दिया कि एक दिन ये मुहावरे के रूप में अपनी शक्ल अख्तियार करेंगे।

अचानक जब भी दराज़ खोलता हूं तो रिसाइकल लिफाफे पर उसके वन लाइनर मिल जाते हैं। बारहा ये बहुत लंबी होती हैं और इनमें ज़िन्दगी के मुख्तलिफ लम्हों, एहसासों और पैकरों का कोकटेल होता है।

एक प्राईवेट नौकरी करता आदमी यूं सामान्यतया एक बैग भर का मुसाफिर होता है। उसे कोई पर्सनल आलमारी दफ्तर मुहैया नहीं कराती लेकिन छूट गई चीज़ों में कई चीजें हैं। फोन पर किसी को कन्विंस करते चश्मा मेज़ पर रखकर रगड़े गए आंखों के टूटी हुई पलकें, फलाने टेंडर के लिए अप्लाई करते हुए अमुक शर्त को अंडरलाइन कर उसका जबाव तलाशने के दौरान माथापच्ची करने के क्रम में टूटे बाल, रखे रखे ठंडे हो जाते चाय की कप, और यदि आपकी आंखों का कैमरा पैन करे तो स्टूडियो के पास रखी ऑफिस की उसकी चप्पल पर ठहर सकती है। पैरों की नाप कितनी छोटी होती है, बाज़ारवादी नज़रिए से सोचें तो कुछ ही नंबर में समा जाता आदमी जैसे कई कुछ नंबर की ब्रा की साइज़ से औरतों को नापते हैं।

ये स्टूडियो जहां दुनियां भर के साउंडट्रैक तैयार होते हैं, वहां उसका 'जी' कहना गूंजता है। कोई माई का लाल नहीं जो आदमी के खामोशी को न्यूएंडो के उन्नत से उन्नत तकनीक पर भी एडिट कर सके। उसका होना अनमिक्स वर्जन था जहां से उत्तम ब्रॉडकास्ट क्वालिटी मिक्स वर्जन आता रहता था।

कभी कभी अब जब फोन का रिसीवर उठाने से पहले अब हाथ एक क्षण को रूक जाता है, किसी गुप्तचर एजेंट की तरह सोचता हूं कि इस पर उसके फिंगरप्रिंट हैं, एक जीवित, कंपन करती थरथराती देह का अंश....... रिसीवर से लगते तारों के गोल छल्ले....हां बस यही था वो.... पेंचदार, लचीला और देह की ही दो ध्रुवों को जोड़ता, उनका मेल कराता... रिसीवर उठाकर सुनता हूं तो एक लंबी डैश सुनाई देती है, आधी रात पटरी पर दौड़ लगा लेने के बाद की रेलगाड़ी जिसके सूने ट्रैक को आप लाल सिग्नल की नज़र से देखें।

सर के ऊपर स्लो मोशन में घूम रहा पंखा है या वक्त अपना ही ग्रह काट रहा है।

रॉ फुटेज में डंप जिंदगी जैसे भोज में दही के पीछे चीनी जैसे खेत में हल के फाल से चीरे लगते और बीज डालते ज़मीन.

अपने ही डायल में चक्कर रहा वक्त में ज़िंदगी की सारी टाइमलाइन खुली है मगर वक्त के साथ भी कोई हमारी तरह गैर जिम्मेदार एडिटर होता होगा तभी यहां के एफसीपी (फायनल कट प्रो) से हर बार बेहतर आऊटपुट नहीं निकलता।

...और कई रफकट फायनल डिलीव्रबलर्स नहीं बन पाते।

Comments

  1. लिखने में इतना लम्बा अन्तराल न लिया करो. प्लीज.

    ReplyDelete
  2. उसका होना अनमिक्स वर्जन था जहां से उत्तम ब्रॉडकास्ट क्वालिटी मिक्स वर्जन आता रहता था...

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

कुछ खयाल

चाय के कप से भाप उठ रही है। एक गर्म गर्म तरल मिश्रण जो अभी अभी केतली से उतार कर इस कप में छानी गई है, यह एक प्रतीक्षा है, अकुलाहट है और मिलन भी। गले लगने से ठीक पहले की कसमसाहट। वे बातें जो कई गुनाहों को पीछे छोड़ कर भी हम कर जाते हैं। हमारे हस्ताक्षर हमेशा अस्पष्ट होते हैं जिन्हें हर कोई नहीं पढ़ सकता। जो इक्के दुक्के पढ़ सकते हैं वे जानते हैं कि हम उम्र और इस सामान्य जीवन से परे हैं। कई जगहों पर हम छूट गए हुए होते हैं। दरअसल हम कहीं कोई सामान नहीं भूलते, सामान की शक्ल में अपनी कुछ पहचान छोड़ आते हैं। इस रूप में हम न जाने कितनी बार और कहां कहां छूटते हैं। इन्हीं छूटी हुई चीज़ों के बारे में जब हम याद करते हैं तो हमें एक फीका सा बेस्वाद अफसोस हमें हर बार संघनित कर जाता है। तब हमें हमारी उम्र याद आती है। गांव का एक कमरे की याद आती है और हमारा रूप उसी कमरे की दीवार सा लगता है, जिस कमरे में बार बार चूल्हा जला है और दीवारों के माथे पर धुंए की हल्की काली परत फैल फैल कर और फैल गई है। कहीं कहीं एक सामान से दूसरे सामान के बीच मकड़ी का महीन महीन जाला भी दिखता है जो इसी ख्याल की तरह रह रह की हिलता हुआ

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ