Skip to main content

दूसरा सिरा कहाँ है !!!


राजू और पिंकी एक नदी के मुहाने पर खड़े हैं जहां से नदी करवट लेती है मतलब कि एक बड़ी घुमावदार मोड़ लेती है। नदी अब तक अपने साथ लाई हुई सारी मिट्टी यहीं छोड़कर आगे दरिया में मिल जाती है। इस कारण यहां डेल्टा बना हुआ है।

नदी के इस फितरत को दार्शनिक अन्दाज से पिंकी निहार रही है। विशाल जलराशि गाद में गिर रही है। पानी ऐसे शोर मचा रही है मानो कोई महागाथा गा रही हो और उसके मुहाने पर खड़ी पिंकी के चेहरे पर कई भाव हैं एक ही पल में जैसे वह उफनते दरिया की हैसियत भी नाप रही है और दूसरे पल प्रकृति के रहस्यों को समझने की कोशिश भी कर रही है। सम्भव है वो इसे जीवन से जोड़ने का प्रयास भी कर रही हो।

राजू आदतन पानी में बड़े-बड़े पत्थर मार रहा है। हवा तेज बह रही है। इसके कारण दोनों के बाल हवा में उड़ रहे हैं। एक दूसरे को सुनाने के लिए जोर से बोलना पड़ रहा है। वो मौन है मगर राजू उसकी चुप्पी अपने बड़बोलेपन से बार-बार तोड़ रहा है। राजू और पिंकी एक दूसरे से दस कदम के फासले पर समानान्तर खड़े हैं.


राजू : (जोर से) तुम भी दरिया में पत्थर फेंको।

(पिंकी नहीं सुनती)

राजू : (और जोर से) पिंकी, उठाओ पत्थर

पिंकी : (जैसे महफिल में किसी ने खलल डाला हो) मैं बेकार की बात नहीं सुनती।

राजू : (ताना मारते हुए) अच्छा तो फिर सोचती रहो खड़ी-खड़ी कविता के लिए कोई नया मैटर

(पिंकी कोई जवाब नहीं देती)

पृश्ठभूमि में दरिया का शोर बढ़ता है। मैं पत्थरों के बड़े-बड़े टूकड़ों पर कूद रहा हूं। मैं चाहता हूं कि मेरे पैरों के निशान उस पर कूदने से सुनाई दें लेकिन आवाज़ नहीं आते। हवा हूम-हूम कर रही है और नदी लगता है जैसे उसके साथ डूऐट गा रही हो।

(थोड़ी देर बाद)

राजू नदी की ओर पैर करके एक पत्थर पर लेटा है। पिंकी के बारे में सोच रहा है कि इसका कुछ नहीं हो सकता। लड़कियां इतनी सोचती क्यों हैं और सोच कर यह क्या कर लेगी फिर घर जाएगी, पढ़ेगी-लिखेगी और खाना पकाएगी...

"राजू ये नदी हमें खुद पार करनी पड़ेगी"!

पहले राजू को लगता है पिंकी उसके ख्यालों में बोल रही है

पिंकी : (चीख कर) हमें ये नदी खुद पार करनी पड़ेगी

राजू डर कर उठ बैठता है

राजू : तो फिर इतनी विशाल जलराशि .. ये जो है... ये किसलिए है

(राजू लगातार बोलता जाता है )

क्या है इसका औचित्य, क्यों है ये, ये नहीं होती तो कितना अच्छा था, ये शोर नहीं होता, सुनो! देखो! कितना परेशान किए हुए है ये हमें बात नहीं करने देती हमारे बीच व्यावधान उत्पन्न करती है। कोई काम नहीं करने देती। उल्टे जब हम किसी बड़े मिशन के लिए तैयार होते हैं तो न साथ देती है न चुप रहती है सिर्फ समस्याएं पैदा करती हैं। क्यों है ये, क्यों है ये आखिर हमारे बीच

पिंकी : ये भीड़ है। बहुत समझदार होती है यह। कुचल कर चलना जानती है और अगर सफल हुए तो माथे पर बिठाना भी। इस बीच यह सिर्फ बोलती है, मुश्किलें खड़ी करती है। यह तुम्हारे साथ रहती दिखती है... जब तक तुम्हारे साथ खतरा ना हो, खरते का अंदेशा होते ही यह ...

(पिंकी का ध्यान टूटता है)

राजू देखो उस पार कितनी शांति है।

...राजू और पिंकी स्वर्ग को अपनी आंखों से देखने लगते हैं।

Comments

  1. उस पार की शांति और उस पार के स्वर्ग का नजारा दोनों ही मन को लुभाते हैं ..पर बीच में उफनती दुनिया का दरिया जैसा शोर और खतरा .इसको बहुत करीब से उकेर दिया है आपने अपने लफ़्ज़ों से ...कई बार बहुत साधारण सी बात बहुत मायने दे जाती है ...शुक्रिया

    ReplyDelete
  2. हां जीवन भी तो एक ऐसा ही दरिया है. उफ़नता हुआ, हूम-हूम करता, जिसे हमें खुद ही पार करना है. बहुत सुन्दर.

    ReplyDelete
  3. नाटकीयता का प्रतिशत ज्यादा लगता है .. पिंकी की कविता लिखने वाली बात नयी नहीं लगती..
    एक थोट " राजू ये नदी हमें खुद पार करनी पड़ेगी" को ही बढाया है..

    वैसे राजू और पिंकी का रिलेशन पाठक पर छोड़ के अच्छा किया.. वे दोनों दोस्त भी हो सकते है भाई बहन भी या प्रेमी युगल भी... हवा और नदी का डूऐट बढ़िया है..

    ओवर आल गुंजाईश बनती है

    ReplyDelete
  4. यार जैसा मुझे लगा तो कहानी और स्क्रिप्ट के बीच कन्फ़्यूज सी हो गयी यह रचना..मगर अंत प्रभावी है..अधूरा रह कर भी विस्तार करता हुआ सा

    ReplyDelete
  5. waaah...bahut khoobsoorat, padh kar mann khush ho gaya

    ReplyDelete
  6. यार जैसा मुझे लगा तो कहानी और स्क्रिप्ट के बीच कन्फ़्यूज सी हो गयी यह रचना..मगर अंत प्रभावी है..अधूरा रह कर भी विस्तार करता हुआ सा

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

            आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, “ अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है ” . युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने ‘ बिराज बहू ’ , ‘ देवदास ’ , ‘ सुजाता ’ और ‘ बंदिनी ’ जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं . ‘ दो बीघा ज़मीन ’ को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था “ इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने ब