Skip to main content

शम्म-ए-फरोज़ा


"मौज-सी पानी में इक पैदा हुई,
बह गयी,
जैसे इक झोंका हवा का
पास से होकर निकल जाए कहीं
चंद रोज़ा आरज़ुओं का चिराग़
झिलमिलाकर बुझ गया" 
- सआदत हसन मंटो

***** 


(शादी से पहले दो मुलाकात) 
- एक -
राशिद :चार दिनों से सूरज नहीं निकला, रूई के फाहे में लिपटे यह दिन देखना जरूर किसी दिन अचानक ज़ख्म पर लगे पट्टी की तरह फिसल कर गिर पड़ेगा. 

सुधा : और गिरेगा तो हैरान होने को जब बैठेगे तब तक पसीने वाले दिन आ जायेंगे. वक्त यूँ तेज़ी से कटा करता है, वक्त यूँ तेज़ी से कटा....

राशिद : भीड़ में तुम्हारी  पहचानी गंध हो जैसे.

सुधा : फ़र्ज़ करो कि यह लगभग खाली खोली, कुछ सस्ती शराब की बोतलें, एक गलीज़ रजाई, तार पर टंगे दो दिनों के गीले कपडे... 

राशिद : गीले कपड़ों में क्या ?

सुधा : ज़ाहिर है मेरा पेटीकोट, और थोडा खुराफात सोचने के लिए तुम्हारे दोस्तों के अंडरवियर 

राशिद : एक ही तार पर  ?

सुधा : एक ही ग्रह पर बोलो 

राशिद : और एक बड़ी मुख्तलिफ किस्म की बू, जिससे कलेजे में नफरत जगे और छोड़ कर जाया ना जाए 

सुधा : हाँ ठीक... जैसे बेरोज़गारी का आलम में यह एहसास कि रोज़गार के दरम्यान ऐसे एहसासात से फिर रु-ब-रु ना हो पाएंगे... 

राशिद : और किसी काम करने वाली, जवान होती लड़की की आँखों में हादसे भरी मटमैले से रंग देखने को तरस जायेंगे.
***
-दो-
(दूसरी और आखिरी मुलाकात ...)

सुधा : मेरा होने वाला पति भी तुम जैसा ही है. अब तुम भी कोई ढूंढ़ लो, मुझ जैसा 

राशिद : मुझे तुम्हारे जैसी लड़की नहीं चाहिए

सुधा : ओफ्फ़ हो ! फिर तुम्हें कैसी लड़की चाहिए ? 

राशिद : छोड़ो भी, तुम्हें मालूम है ... फिर भी..

सुधा : अपनी कविताओं से परे, सीधे सीधे समझाओ

राशिद : ठीक. गुज़रते दिनों जैसी लड़की, परत दर परत अनसुलझी, एक अँधेरे अजायबघर में अँधेरे से लडती मोमबत्ती के लौ में बनावटें देखती हुई, जिसका हाथ अपने हाथों में लो तो एहसास रहे कि यह छलावा है और चाय बनाने को कह कर किचन की तरफ रुख करे तो लौट ना आये.

सुधा : हाँ आने वाले दिनों की तरह ढीली लड़की, गिरिडीह के अभ्रक जैसे परतों वाली लकड़ी, सातो इन्द्रियों के सभी एहसास को साथ लेकर चलने वाली, कभी मद्धम प्रकाश में बुद्ध के तरह कुटिल मुस्कान होंटों पर लिए तो कभी तुम्हारी आँखों में मन भर रौशनी का झाग उड़ेलती.

राशिद : हाँ वही लड़की, गुलाब की कली में कसे पत्तियों जैसी, भीनी भीनी बरसात की खुशबु लिए, थोड़े गर्म हाथों वाली ... 

सुधा : थोड़े गर्म क्यों ? 

राशिद : ताकि पूरी गर्माहट की तलाश की गुंजाईश बनही रहे ता-उम्र सुधा

सुधा : वो तो तुम अभी अभी तलाश चुके हो !

राशिद : अभी बहुत तलाश बांकी है, सुधा ! मत भूलो की हम शरणार्थी है और हमारा सफ़र उम्र भर ज़ारी रहेगा. वो खुन्क हाथ तुम्हारे थे, 
वो खुन्क हाथ तुम्हारे थे, 
वो खुन्क हाथ तुम्हारे थे, 
वो खुन्क हाथ तुम्हारे 
वो खुन्क हाथ 
वो खुन्क...

(आवाज़ डूबती जाती है, सुधा चली जाती है )
(थोड़ी देर के बाद इस शाम की आख़िरी चीख उभरती है)

'हमारा मकसद यह नहीं था सुधा, वो लड़की जिसे तकलीफ देकर माँ की याद आये.'

Comments

  1. फ़र्ज़ करो कि यह लगभग खाली खोली, कुछ सस्ती शराब की बोतलें, एक गलीज़ रजाई, तार पर टंगे दो दिनों के गीले कपडे...

    और बस क्या बचा बाकी...

    ReplyDelete
  2. @ज़ाहिर है मेरा पेटीकोट, और थोडा खुराफात सोचने के लिए तुम्हारे दोस्तों के अंडरवियर


    मेरे ख्याल से इसके आगे सब निरर्थक है.

    ReplyDelete
  3. गुज़रते दिनों जैसी लड़की,
    परत दर परत अनसुलझी,
    एक अँधेरे अजायबघर में
    अँधेरे से लडती
    मोमबत्ती के लौ में बनावटें देखती हुई,
    जिसका हाथ अपने हाथों में लो
    तो एहसास रहे कि यह छलावा है
    और
    चाय बनाने को कह कर किचन
    की तरफ रुख करे तो लौट ना आये|

    आने वाले दिनों की तरह ढीली लड़की,
    गिरिडीह के अभ्रक जैसे परतों वाली लडकी,
    सातो इन्द्रियों के सभी एहसास
    को साथ लेकर चलने वाली,
    कभी मद्धम प्रकाश में
    बुद्ध के तरह कुटिल मुस्कान होंटों पर लिए
    तो कभी तुम्हारी आँखों में
    मन भर रौशनी का झाग उड़ेलती

    ...बस कहानियों जैसी लडकी लेकिन ऎसा होता है क्या?

    ReplyDelete
  4. किताब कब लिख रहे है ...कब तक किश्तों में पढेंगे हम

    ReplyDelete

  5. बेहतरीन पोस्ट लेखन के लिए बधाई !

    आशा है कि अपने सार्थक लेखन से,आप इसी तरह, ब्लाग जगत को समृद्ध करेंगे।

    आपकी पोस्ट की चर्चा ब्लाग4वार्ता पर है - पधारें - बूझो तो जाने - ठंड बढ़ी या ग़रीबी - ब्लॉग 4 वार्ता - शिवम् मिश्रा

    ReplyDelete
  6. 'हमारा मकसद यह नहीं था सुधा, वो लड़की जिसे तकलीफ देकर माँ की याद आये...

    ReplyDelete
  7. पढ़कर भला-भला से महसूस किये जा रहे हैं ..... आजकल अपना टिप्पणी करने का अभ्यास छूट सा गया है :)

    ReplyDelete
  8. बेहतरीन , बहुत बहुत सुन्दर

    ReplyDelete
  9. pahle to manto pe thithkaa rahaa bahut der tak...usakaa jadoo utra to tumhaare shabdo ke tilism ne giraftaar kar liya...

    ReplyDelete
  10. वाह...दिनों बाद गुजरा तो ठहरा!!

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

उसने दिल पर चीरा लगाकर उसमें अपने होंठों का प्राणवान चुम्बन के बिरवे रोप दिए।

सौ तड़कती रातें हैं फिर एक मिलन का दिन है। एक हज़ार बद्दुआएं हैं, फिर नेमत की एक घनघोर बारिश है। बारिश कम है जीवन में, प्यास अधिक। इतनी अधिक कि कई बार बारिश के दिन भी प्यास नहीं बुझती। लगातार लगती प्यास हमें मारती है, पत्थर बनाती है। सूखे प्यास का नमी भरा एहसास बारिश वाले दिन ही होता है। दरअसल आज जब मेरी प्यास बुझ रही थी तब मुझे अपने प्यासे होने का सही अर्थ संदर्भ सहित समझ में आया। xxx उसका हाथ अपने हाथ में लिया तो एक ढाढस सा लगा जैसे कोई एक सक्षम व्यक्ति कारगर उपाय बता रहा हो। वो अनपढ़ जाने किस तरह की शिक्षित है कि वह मुझ जैसे अहंकारी में भी कृतज्ञता का भाव पैदा कर देती है। xxx हमने बहुत कोशिश की एक होने की। लेकिन इसी प्रयास में हमारा यह विश्वास पुख्ता हुआ कि हमें एक दूसरे की जरूरत हमेशा रहेगी और हम अधूरे ही रहेंगे। यहां तक कि जिस जिस चुंबन में हमने अपने आप को पूरा समेट कर एक दूसरे में उड़ेल दिया, वहीं वहीं हमें अपने विकलांगता का एहसास हुआ। xxx कोई मां बाहर अपने बच्चे को मार रही है। बच्चा ज़ोर ज़ोर से किकियाए जा रहा है। मां गुस्से में उसे और धुन देती है। बच्चे

समानांतर सिनेमा

            आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, “ अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है ” . युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने ‘ बिराज बहू ’ , ‘ देवदास ’ , ‘ सुजाता ’ और ‘ बंदिनी ’ जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं . ‘ दो बीघा ज़मीन ’ को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था “ इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने ब