Skip to main content

ऐ मलिका-ए-नील !


ऐ मलिका-ए-नील ! ए मलिकाए नील। मैं तेरा फकीर तुझे अपने ही दिल में रखकर घूम रहा हूं दर ब दर। ऐ मलिका-ए-नील। तू इक दरया है, एक पाक दामन, दाग जिसमें सब आके धोते हैं। किनारों के पत्थर पर बैठ कर अपने ऐडि़यों के छाले छुड़ाते हैं। ऐ मलिका-ए- नील, तेरे किनारे ही उगा करती है इश्क की रूहानी फस्लें। तेरी ही घनी जुल्फों के ज़द में बहा करती है एक दूधिया नीला लंबी धार। तेरे ही भंवर में बैठ कर फूटता है कोई चराग। 

यों तो तेरे भी देह में भागती हैं कई नीली रगें। ऐ मलिका-नील! जब भी देखा करता हूं तो रंगों से लबरेज़ जादू देख हैरां हुआ करता हूं। दो पुरकशिश कोहसारों के बीच फंसी एक झीनी चादर के दरमियां लरज़ता इक नीम उरियां हुस्न। दूध सा उजला, नील सा नीला और सूर्ख लाल। रोज़ दो चार होना होता है पेशानी पर दो होठों के दाग रखे जाने की हसरत से। ऐ मलिका-ए-नील ! रोज़ ही तेरी उपजाऊ ज़मीं पर हुस्न का उरूज़ लिए खिला रहता है जवान सरसों के फूल। ऐ मलिका-ए- नील रोज़ ही हज़ार राह तमन्नाएं निसार हुआ करती हैं।

कहां भूल आया हूं वो गर्क और गुम होने के दिन.... उठा है वो गुबार कि अपने वजूद के पांव उखड़ जाएं, चढ़ा है वो बुखार कि तेरे ही जिस्म को पिघला कर फिर अशर्फी में ढ़ल जाए। ऐ मलिका-ए-नील... खोल अपने आंचल कि प्यास का मारा मैं तेरी रूह तक पहंुच जां दे सकूं। हटा वो परदा कि मेरे अंदर का सन्नाटा तेरे तेरे रानाईयों में जज्ब हो जाए। रख ले एक बदन में जो जिस्म साकी। हमारा-तुम्हारा यों जुदा होने का मतलब क्या है ऐ मलिका-ए-नील। 

खोल अपने पैर कि हसरतें लब पर रख कर मुसाफिर सा तेरे बदन पर भटकूं। ऐ मलिका-ए-नील ! फंसा अपनी उंगलियां मेरे कलाई में कि हम उन लम्हों में वक्त से परे गुज़रें। पुरअस्ररार ही सही इक रास्ता दे मेरे सांसों को कि वो तेरे जिस्म के जंगल में लरजती बाँस के छिद्रों से बांसुरी की सुरीली धुन पूरे जंगल फैला सके। ऐ मलिका-ए-नील बस इक बार लीडर बन कि सब मुहब्बत की मौसकी तेरे पीछे पीछे कोरस में गाए। 

*****
[कुंए की जगत पर नैतिक खूंटे से बंधी महबूब के प्यास में मिनमिनताती, कमज़ोर होती, रस्सी तोड़ती, थकती, हारती और डंडे से अनुशासन में लाने पर पर आमादा कभी समय का चरवाहा, तो दुनियादारी और कभी यों ही अपने रसूख के ताव में जुल्म बरसाता। सिर्फ भूख बड़ी नहीं थी जो घास मसस्सर था। पानी का अक्स तो घास में भी था लेकिन प्यास की मारी एकमुश्त प्यास महबूब पानी ही बुझा सकता था। 

हमें तुम्हें प्यार करते हुए तुम्हीं से पैदा होना था और तुम्ही पर मरना था। इस प्रेम चक्र/सायकल में कहीं कोई गड़बड़ जरूर हुई है, हो रही है।]

Comments

  1. ऐ शब्दों के चित्रकार !

    ख़ूबसूरत... बेहद ख़ूबसूरत !!

    ReplyDelete
  2. हम्म! एक लंबी कविता...रेत में बहती नदी सी या खारे पानी की झील सी.

    ReplyDelete
  3. एक अलग दुनिया है आपकी।

    ReplyDelete
  4. बहते दरिया में बिना पाल की कश्ती चलने का जोखिम आप ही ले सकते हैं सागर साहब...मेरा सलाम क़ुबूल कीजिये...कहर ढाते हैं आप...क़त्ल मचा रखा है...पढ़े और आह भर के रह गए की उफ़ क्या शब्द हैं, क्या तिलिस्म है...ये कविता है, पूरी की पूरी...

    मलिका-ए-नील ये पढ़ लेतीं तो तुम्हारे नाम सल्तनत बक्श देती ए कवि...

    ReplyDelete
  5. आखिरी लाइंस पढ़ते -पढ़ते एक गाना याद आ गया, तुजी से जन्मूं तो शायद मुझे पनाह मिले..और हाँ आप प्रेम में जीते हैं...बिलकुल गलत बात है ...

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

            आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, “ अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है ” . युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने ‘ बिराज बहू ’ , ‘ देवदास ’ , ‘ सुजाता ’ और ‘ बंदिनी ’ जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं . ‘ दो बीघा ज़मीन ’ को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था “ इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने ब

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ