Skip to main content

रूठ कर गया है जो बच्चा अभी अभी



दर्द-ए-दिल लिखूँ कब तक ज़ाऊँ उन को दिखला दूँ 

उँगलियाँ फ़िगार अपनी ख़ामा ख़ूंचकां अपना 

हम कहाँ के दाना थे किस हुनर में यकता थे 
बेसबब हुआ "ग़ालिब" दुश्मन आसमां अपना

***
बू-ए-गुल, नाला-ए-दिल, दूद-ए-चिराग-ए-मेहफ़िल 
जो तेरी बज़्म से निकला सो परेशाँ निकला. ----- चचा

*****




उंगलियों से उनका नाम दीवार पर लिखते रहे और दीवार था कि खुद उनका आशिक था। जिसकी दुआ थी बुत से इन्सा में बदल कर सांस लूं वो बस इक मेरा नाम लिखने से आमीन हुआ। लिखा जिनके नाम खत सुब्हों शाम सागर, वो खुद ही सोचा किये मेरे यार के मुताल्लिक। इश्क की पेंचदार गलियां हैं, किसी के हो जाने से पहले जिनसे कुर्बत की तमन्ना थी वो फिदा होने के बाद जि़ना कर गया। कहां सर फोड़े और अपनी जज्बातों की रूई धुना करें, आईए कहीं ज़ार ज़ार बैठ रोएं, दारू पिएं। पीएं के यह भी तय था हमने नहीं चाहा था। जो चाहा था वो भी अपना होना कब तय था। गर जिंदगी मुहब्बत है तो इसकी कोई वसीयत नहीं होती। अगर यह नफरत ही है तो इसका अंजाम मुझको मालूम है। नुक्श तो जहान में है काफिर फिर क्यों सोचता है सर खुजाते हुए आखिर। दिल उसी पर आया किया जो किसी और के हो चुके और जो बचे हैं उनके लब पर हां की कोई डाली नहीं झुकती। किस किस को दिल दिखाएं औ, फिर क्यूं दुखाएं, सबने दांत लगाए हैं खूं से लबरेज उस सेब में आखिर। हर सिम्त मगरिब है अपने हां, क्या करेंगे हम अपना अच्छे बनकर। अब क्या करोगे मिरे शदीद प्यास के किस्से सुनकर, लाजि़म ही था अशर्फी के बदले भी मुहब्बत का ना मिलना। 

सागर कहां बैठ कर मर्सिया पढ़ें आज की रात]  एक शम्मा जलाओ औ' रूह खाक कर दो। खुदाया होता ऐसा भी कि चिरागों को जलाने पर भी अंधेरा होता। दिल ही था मायूस तो उसका भी दिल रह जाता। तूने पूरा पूरा कुछ भी नहीं बनाया, मिला करता है हर कोई मुझे अधूरा क्यों। लेट कर देर तक छतों को तका करते हैं, मायूस हैं इंसानों की गुमां मिले हदों को लेकर। हमारे नाम भी कर दे निज़ाम कोई पेंशन की सहूलियत, कोहसारों से हम भी पर्चे उड़ाया करें। क्यों करें दुनियां को बदलने की दुआ अब सागर, जब अपना हां कुछ भी न रहा तो सामान समेटे चलिए। क्यों हाय हाय करें और किसके लिए करें, रोती है मेरी गली में इफ्तिखार की अम्मा भी। 

कहां हम प्यार उड़ेलें अपने दिल का बेशुमार। एक ही इश्क था और महबूबा पराई हुई। रोटी ही नहीं है अब मसला जिंदगी में, आज़ादी के बाद दिल ज्यादा ज़हीन हुआ।

फिकरा ही कसा है ये होशो हवाश में, महज़ मतला है पूरी गज़ल है अभी औंधी पड़ी हुई। 

Comments

  1. वफ़ा कैसी, कहाँ का इश्क, जब सर फोड़ना ठहरा
    तो फिर ऐ संग-दिल तेरा ही संग-ए-आस्तां क्यूँ हो -- चचा

    ReplyDelete
  2. सागर कहां बैठ कर मर्सिया पढ़ें आज की रात] एक शम्मा जलाओ औ' रूह खाक कर दो।
    क्या बात है... यह तो पूरी पोस्ट ही एक नज्म लगी, बहती हुई सी।

    ReplyDelete
  3. बाज़ीचये अतफ़ाल है दुनिया मेरे आगे...

    क्या कहूँ रे लड़के...आज की पोस्ट पर कुछ भी नहीं...वो जो दीवार भी उनका आशिक था न, उसे मेरा सलाम कहना!

    ReplyDelete
  4. निकलना खुंद से ग़ालिब का सुनते आये हैं लेकिन...

    ReplyDelete

Post a Comment

Post a 'Comment'

Popular posts from this blog

समानांतर सिनेमा

            आज़ादी के बाद पचास और साथ के दशक में सिनेमा साफ़ तौर पर दो विपरीत धाराओं में बांटता चला गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. एक धारा वह थी जिसमें मुख्य तौर पर मनोरंजन प्रधान सिनेमा को स्थान दिया गया. इसे मुख्य धारा का सिनेमा कहा गया. दूसरी तरफ कुछ ऐसे फिल्मकार थे जो जिंदगी के यथार्थ को अपनी फिल्मों का विषय बनाते रहे. उनकी फिल्मों को सामानांतर सिनेमा का दर्जा दिया गया. प्रख्यात फिल्म विशेषज्ञ फिरोज रंगूनवाला के मुताबिक, “ अनुभूतिजन्य यथार्थ को सहज मानवीयता और प्रकट लचात्मकता के साथ रजत पथ पर रूपायित करने वाले निर्देशकों में विमलराय का नाम अग्रिम पंग्क्ति में है ” . युद्धोत्तर काल में नवयथार्थ से प्रेरित होकर उन्होंने दो बीघा ज़मीन का निर्माण किया, जिसने बेहद हलचल मचाई. बाद में उन्होंने ‘ बिराज बहू ’ , ‘ देवदास ’ , ‘ सुजाता ’ और ‘ बंदिनी ’ जैसी संवेदनशील फिल्में बनायीं . ‘ दो बीघा ज़मीन ’ को देख कर एक अमेरिकी आलोचक ने कहा था “ इस राष्ट्र का एक फिल्मकार अपने देश को आर्थिक विकास को इस क्रूर और निराश दृष्टि से देखता है, यह बड़ी अजीब बात

विलंबित ताल

हर ताल विलंबित है। हर कदम लेट है। कदम के रूप में एक पैर उठता है तो दूसरी ज़मीन पर रखने की दर लेट है। पेड़ों के पत्ते एक बार जब झूम कर बांए से दाएं जाते हैं तो उनका फिर से दांए से बांयी ओर जाना लेट है। आदमी घर से निकलने वाला था पर लेट है। स्टेशन से गाड़ी खुलने में लेट है। बहुत मामले रूके पड़े हैं और उनपर कार्यवाई लेट है। दफ्तर में टेबल से फाइलों का सरकना रूका है। चमत्कार होना रूका हुआ है। प्रेम होना तक मुल्तवी है। की जा रही प्रतीक्षा भी होल्ड पर है। बारिश रूकी हुई है। जाम से शहर रूका हुआ है। गाए जाने वाला गीत भी जुबां पर रूका है। किसी से कुछ कहना रूका है। किसी से झगड़ लेने की इच्छा रूकी है। किसी के लिए गाली भी हलक में रूकी हुई है। बाप से बहस करना रूक गया है। मां को घर छोड़कर भाग जाने की धमकी भी पिछले कुछ महीनों से नहीं दी गई है। लिखना रूका है। पढ़ना ठप्प है। जीना रूका पड़ा है। पेड़ों पर के पत्ते रूके हुए हैं। आसमान में चांद रूक गया है। किसी का फोन पर हैलो बोलकर रूकना, रूक गया है। कुछ हो रहा है तो उसका एहसास होना रूक गया है। सिगरेट जल्दी खत्म होना रूक गया है। बारिश अपने ब

मूक सिनेमा का दौर

दादा साहब फालके की फिल्में की सफलता को देखकर कुछ अन्य रचनात्मक कलाकारों में भी हलचल मचने लगी थी। 1913 से 1918 तक फिल्म निर्माण सम्बंधी गतिविधियां   महाराष्ट्र   तक ही सीमित थी। इसी दौरान कलकत्ता में   हीरालाल सेन और जमशेद जी मदन   भी फिल्म निर्माण में सक्रिय हुए। फालके की फिल्में जमशेद जी मदन के स्वामित्व वाले सिनेमाघरों में   प्रदर्शित   होकर खूब कमाई कर रही थीं। इसलिए जमशेद जी मदन इस उधेड़बुन में थे कि किस प्रकार वे फिल्में बनाकर अपने ही थिएटरों में   प्रदर्शित   करें। 1919 में जमशेदजी मदन को कामयाबी मिली जब उनके द्वारा निर्मित और रूस्तमजी धेतीवाला द्वारा   निर्देशित   फिल्म ' बिल्म मंगल '   तैयार हुई। बंगाल की पूरी लम्बाई की इस पहली कथा फिल्म का पहला   प्रदर्शन   नवम्बर , 1919 में हुआ।   जमदेश जी मदन ( 1856-1923) को भारत में व्यावसायिक सिनेमा की नींव रखने का श्रेय दिया जाता है।   वे एलफिंस्टन नाटक मण्डली के नाटकों में अभिनय करते थे और बाद में उन्होंने सिनेमाघर निर्माण की तरफ रूख किया। 1907 में उन्होंने   कलकत्ता का पहला सिनेमाघर एलफिंस्टन पिक्चर पैलेस   बनाया। यह सिनेमाघर आ